भारतीय महिला हॉकी टीम का अर्जेंटीना दौरा: जूनियर टीम के ख़िलाफ़ टीम इंडिया की ड्रॉ से वापसी 

भारतीय टीम के लिए शर्मिला और दीप ग्रेस एक्का ने गोल किए और इस तरह वो लगभग एक साल बाद किसी प्रतिस्पर्धी मुक़ाबले में खेलती नज़र आईं।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

अर्जेंटीना दौरे पर गई भारतीय महिला हॉकी टीम ने अपने पहले मुक़ाबले में अर्जेंटीना की जूनियर महिला टीम के खिलाफ 2-2 से ड्रॉ खेला। रविवार को देर रात खेले गए इस मुक़ाबले के साथ भारतीय महिला हॉकी टीम प्रतिस्पर्धी मुक़ाबले में लौट आई।

युवा स्ट्राइकर शर्मिला देवी (Sharmila Devi) और अनुभवी डिफेंडर दीप ग्रेस एक्का (Deep Grace Ekka) ने भारत के लिए गोल किया, जबकि पावला संटामरीना (Paula Santamarina) और ब्रिगा ब्रुगेसर (Briga Bruggesser) ने मेजबान टीम की तरफ से गोल किए।

भारतीय महिला हॉकी टीम ने शुरू से ही आक्रामक हॉकी खेला और आठवें और नौवें मिनट में दो पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए, लेकिन दोनों मौकों पर टीम गोल करने में असमर्थ रही जबकि गोलकीपर और उप-कप्तान सविता पूनिया (Savita Punia) ने अर्जेंटीना की जूनियर्स टीम के एक प्रयास को असफल कर दिया।

हालांकि 18 वर्षीय शर्मिला देवी ने भारतीय टीम को गोल के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करवाया और 22वें मिनट में गेंद को गोलपोस्ट में डालकर भारतीय टीम को बढ़त दिला दी। हालांकि अर्जेंटीना के जूनियर टीम ने छह मिनट बाद ही गोल कर के इस अंतर को खत्म कर दिया।

शर्मिला देवी ने भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए पहला गोल किया। तस्वीर साभार: हॉकी इंडिया

दीप ग्रेस एक्का ने तीसरे क्वार्टर में भारत को 2-1 से बढ़त दिया दी। 31वें मिनट में पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलकर इस युवा खिलाड़ी ने अपना जलवा दिखाया और फिर अंतिम क्वार्टर तक इस बढ़त को बनाए रखने के लिए पूरी टीम ने अच्छा डिफेंस भी किया।

हालांकि दो बार जूनियर विश्व कप चैंपियन अर्जेंटीना की जूनियर महिला टीम ने दिखाया कि क्यों उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ युवा टीमों में से एक माना जाता है। ब्रिगा ब्रुगेसर ने टीम के लिए गोल करते हुए उसे बराबरी पर ला दिया।

भारतीय महिला हॉकी टीम ने 52वें मिनट में पेनल्टी कार्नर के माध्यम से एक आखिरी कोशिश की, लेकिन अर्जेंटीना ने अच्छा बचाव किया और मैच 2-2 की बराबरी पर समाप्त हुआ।

टीम के मुख्य कोच शोर्ड मरिन (Sjoerd Marijne) ने मैच के बाद कहा, “ये लंबे समय के बाद पहला मैच था। एक साल के बाद लय में आने में समय लगता है और हमने एक लंबे अंतराल के बाद 23 खिलाड़ियों को मैच में खेलने का अवसर दिया ताकि उन्हें भी मैच खेलने का अहसास हो।“

उन्होंने कहा, “हमें अपनी लय मैच दर मैच बनानी होगी। हम इस मैच का पूरी तरह से विश्लेषण करेंगे और यहां की गई गलतियों से सीखेंगे और अगले गेम के लिए तैयार रहेंगे।”

भारतीय महिला हॉकी टीम बुधवार को दौरे के दूसरे मैच में अर्जेंटीना की जूनियर महिला टीम के खिलाफ खेलेगी।