मौसम चाहे जैसा भी हो, भारतीय टीम हर चुनौती के लिए तैयार है: गुरजीत कौर

भारतीय टीम ड्रैगफ्लिकर-डिफेंडर गुरजीत कौर (Gurjit Kaur) को लगता है कि कड़ी धूप में प्रैक्टिस करना मैच से पहले सर्वश्रेष्ठ होता है

लेखक ओलंपिक चैनल ·

भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Womens Hockey Team)16 फरवरी से 27-दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा ले रही है। टीम को 2020 ओलंपिक से पहले साउथ कोरिया में होनी वाली छठे महिला एशियाई चैंपियनशिप ट्रॉफी (sixth Women’s Asian Championships Trophy 2020) में हिस्सा लेना है और टीम इसी की तैयारी में लगी है।

बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण परिसर (Sports Authority of India campus) में आयोजित किए जा रहे इस शिविर का मुख्य एजेंडा सभी खिलाड़ियों की फिटनेस में सुधार करना है।

भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए महत्वपूर्ण समय

भारतीय महिला हॉकी टीम की मुख्य कोच * शोर्ड* मारिन (Sjoerde Marijne) खिलाड़ियों को गर्म और उमस भरे वातावरण में प्रैक्टिस करवा रहे हैं क्योंकि टीम को कुछ इसी तरह की परिस्थिति का सामना ओलंपिक 2020 के दौरान करना होगा।

हॉकी इंडिया से बातचीत के दौरान ड्रैगफ्लिकर-डिफेंडर गुरजीत कौर (Gurjit Kaur) ने कहा कि “सामान्य तौर पर हम सुबह 8 से 10 बजे और शाम को 4 से 6 बजे तक अभ्यास करते हैं लेकिन अभी हम दोपहर 2 बजे प्रैक्टिस कर रहे हैं। अभ्यास का ये समय और कंडीशन बिल्कुल भी आसान नहीं है”।

गुरजीत कौर प्रतिभाशाली डिफेंडर है, जो भारत के लिए बहुत अच्छी बात है। तस्वीर साभार: हॉकी इंडिया

कठिन परिस्थिति के लिए तैयारी

यह केवल एक ट्रेनिंग कैंप नहीं है बल्कि इस दौरान टीम इंडिया ओलंपिक 2020 के लिए पूरी हर तरह से तैयार होना चाहती है। गुरजीत कौर ने कहा कि हमारे दौरों और मैचों की योजना इस तरह से बनाई जा रही है कि हम सही समय पर फॉर्म में रहें और इसके लिए हम लगातार सुधार भी कर रहे हैं।

इस खिलाड़ी ने कहा कि “जिस तरह से हम न्यूजीलैंड के दौरे पर खेले थे, उसे देखते हुए हमे लगता है कि खेल में सुधार हुआ है खासतौर पर अगर हम पिछले दौरे (2018) से इसकी तुलना करें। पिछली बार दोनों टीमों के स्कोर में केवल 1 गोल का अंतर था लेकिन इस बार हमने बड़े अंतर से जीत हासिल की”

महिला हॉकी टीम की महत्वपूर्ण सदस्य

पिछले दो सालों में ड्रैग-फ्लिकर गुरजीत कौर भारतीय हॉकी के लिए वरदान साबित हुई हैं। इसके अलावा वह डिफेंडर के रूप में भी लगातार काफी शानदार प्रदर्शन कर रही हैं।

गुरजीत ने कहा कि “हमारे पास सुनीता लाकरा (Sunita Lakra) और दीप ग्रेस एक्का (Deep Grace Ekka) जैसी अनुभवी खिलाड़ी हैं, जो टीम की सबसे सीनियर डिफेंडर है”। इस खिलाड़ी ने ये भी माना कि अब उन्हें डिफेंडर के रूप में ज्यादा जिम्मेदारी लेनी होगी और इसके लिए वह अपने रक्षात्मक पहलूओं पर कड़ी मेहनत भी कर रही हैं।

भारतीय हॉकी टीम को अब 11 अप्रैल से 27 अप्रैल के बीच नीदरलैंड और जर्मनी का दौरा करना है।