ओलंपिक में शामिल 5 नए खेलों में जानें कौन से एथलीट होंगे भारत की उम्मीद

जानें ओलंपिक में जोड़े गए 5 नए खेलों में से भारतीय एथलीट किस-किस में भाग ले रहे हैं और कौन मेडल जीतने का माद्दा रखता है।

लेखक रितेश जायसवाल ·

टोक्यो 2020 में होने वाले ओलंपिक खेलों में 5 नए खेलों को जोड़ा गया है। इन नए खेलों को जोड़ने का फैसला जापान ओलंपिक कमेटी ने लिया। जिसके तहत 8 खेलों में से 5 नए खेल बेसबॉल/सॉफ्टबॉल, कराटे, स्केटबोर्ड, स्पोर्ट क्लाइम्बिंग और सर्फ़िंग शामिल किए गए हैं। हालांकि स्क्वॉश, वुशु और बॉलिंग को नहीं शामिल किया गया। 2008 बीजिंग ओलंपिक में बेसबॉल/सॉफ्टबॉल को बाहर कर दिया गया था। लेकिन अब 2020 ओलंपिक में इसकी वापसी हो गई है। 

अब मायने यह रखता है कि इन 5 नए खेलों में भारत किन-किन में हिस्सेदारी लेगा? तो आपको बता दें, इन खेलों में से भारतीय दल केवल कराटे और स्पोर्ट क्लाइम्बिंग में ही शामिल होगा। यहां हम आपको इसी बात की पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। मसलन कि टोक्यो 2020 के दौरान कराटे और स्पोर्ट क्लाइम्बिंग में भारत की ओर से कौन जा सकता है और कैसा प्रदर्शन होने की उम्मीद रहेगी।

कराटे: कटा और कुमीट

कराटे एक जापानी शब्द है। जिसका अर्थ है "खाली हाथ"। इसमें हाथ और पैर को तलवार और चाकू की तरह प्रयोग किया जाता है। यही वजह है कि इसे बेस्ट सेल्फ डिफेंस मार्सल आर्ट भी माना गया है। कराटे दो शब्दों से मिलकर बना है 'काता' और 'कुमाइत'। 

काता एक जापानी शब्द है, जिसका अर्थ "फॉर्म" है। इसमें मार्शल कलाकार किक, ब्लॉक और स्ट्राइक का अभ्यास करते हैं। इस खेल में दो खिलाड़ी आपस में फाइट करते हैं जैसे कि रेसलिंग और बॉक्सिंग में होता है। जिसके बाद सात जजों का पैनल खिलाड़ियों की ताकत और तकनीक की सटीकता को देखते हुए फाइट का निर्णय देते हैं।

कुमाइत वह कॉम्बैट स्पोर्ट है जिसमें खिलाड़ी तीन मिनट तक एक-दूसरे से लड़ते हैं। ऐसे में जिसके प्वाइंट ज्यादा होते हैं, वह खिलाड़ी जीत जाता है। वहीं, फाइट के दौरान किसी भी खिलाड़ी के 8 प्वाइंट ज्यादा होते ही दूसरे फाइटर को हारा हुआ घोषित कर दिया जाता है।

कराटे में भारत की उम्मीद

टोक्यो ओलंपिक के दौरान इन 5 नए खेलों में दुनियाभर से कुल 80 प्रतियोगी प्रतिभागिता लेंगे। खिलाड़ी काता और कुमीत दोनों फॉर्म सेग्मेंट में 8 गोल्ड मेडल के लिए फाइट करेंगे। भारत ने कराटे में अभी तक ऐतिहासिक रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। खासकर नई दिल्ली में 2015 में हुए राष्ट्रमंडल खेलों में हुई चैंपियनशिप में। भारत की शीर्ष महिला कराटे प्रतिभागियों जैसे निधि नन्हे, संध्या शेट्टी और सुप्रिया जादव ने कुमाइत के लिए अपने-अपने वर्ग भार में स्वर्ण पदक जीते थे।

वहीं इसी इवेंट में पुरुषों की कुमाइत श्रेणी में भी भारत ने शानदार प्रदर्शन किया था। जिसमें दुर्गेश चौहान और अनमोल सिंह अपने-अपने वर्ग भार में जीत दर्ज की थी। इन सभी एथलीटों के साथ, भारत की काता और कुमाइत खेलों के लिए ओलंपिक में हिस्सा ले सकता है।

स्पोर्ट क्लाइम्बिंग: लीड, स्पीड और बाउल्डरिंग क्या है?

टोक्यो 2020 में होने वाले ओलंपिक खेलों में स्पोर्ट क्लाइम्बिंग को भी शामिल किया है। इस खेल को तीन भागों में बांटा गया है- लीड क्लाइम्बिंग, स्पीड क्लाइम्बिंग और बाउल्डरिंग। ओलंपिक में विजेता का चयन इन तीन वर्गों में किए गए प्रदर्शन से प्राप्त अंकों को जोड़कर किया जाएगा। इस खेल में कुल 40 प्रतियोगी ओलंपिक में भाग लेने जा रहे हैं, जो दो गोल्ड मेडल के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे। एक मेडल पुरूष और दूसरा महिला वर्ग के लिए होगा।

स्पीड क्लाइम्बिंग: इस वर्ग में 15 मीटर की दीवार पर दो खिलाड़ी एक साथ चढ़ने का प्रयास करते हैं। विजेता वही बनता है, जो सबसे पहले लक्ष्य तक पहुंचने में सफल रहता है। 

बाउल्डरिंग: इस वर्ग में प्रतियोगी 4 मीटर की दीवार पर एक निश्चित रूट पर चढ़ते हैं। हर प्रतियोगी के पास लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कुल चार मिनट होते हैं। जैसे ही क्लाइम्बर रूट के आख़िरी पड़ाव को अपने हाथ से पकड़ता है तो यह प्रतियोगिता खत्म हो जाती है।

लीड क्लाइम्बिंग: इस वर्ग में प्रतियोगी 15 मीटर की ऊंची दीवार पर 6 मिनट के अंदर ज्यादा से ज्यादा ऊंचाई पर पहुंचने का प्रयास करता है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से हर प्रतियोगी सेफ्टी रोप से बंधे होते हैं। ऐसे में एक बार विफल होने पर किसी भी प्रतियोगी को दोबारा चढ़ने का मौका नहीं मिलता है।

स्पोर्ट क्लाइंबिंग में भारत की उम्मीद

जब से भारत ने 2016 में मुंबई में एक स्पोर्ट क्लाइंबिंग वर्ल्ड कप की मेजबानी की है, तब से इस खेल की लोकप्रियता सकारात्मक रूप से काफी बढ़ी है। भरत परेरा, गौरव कुमार और माईबाम चिंगकेनबाबा की तिकड़ी का मुकाबला जापान में होने वाले आईएफएससी विश्व चैंपियनशिप में होगा। इस प्रतियोगिता का आयोजन अगस्त में किया जाएगा। पुरुषों और महिलाओं की श्रेणियों में हुए इस टूर्नामेंट के शीर्ष सात प्रतिभागी टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए सीधे क्वालीफाई कर जाएंगे।