केटी इरफान ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन के लिए अपनी तकनीकी ख़ामियों पर कर रहे काम

30 वर्षीय इस एथलीट ने टोक्यो में लगातार अपने तीसरे ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया है और लॉकडाउन के इस समय का इस्तेमाल वह अपनी तकनीकी ख़ामियों को दूर करने के लिए कर रहे हैंं।

ओलंपिक के इतिहास में भारत ने एथलेटिक्स में अभी तक कोई पदक नहीं जीता है, हालांकि कुछ एथलीट मेडल हासिल करने के बेहद करीब पहुंचने में जरूर कामयाब रहे। भारतीय रेसवॉकर केटी इरफान (KT Irfan) अब उस रिकॉर्ड को बदलना चाहते हैं और इसके लिए वह अपनी तकनीक में सुधार करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए गए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, "रेसवॉकिंग एक बहुत ही तकनीकी इवेंट है। यह आपकी बेहतरीन तकनीक ही है, जो आपको पदक जिताने में मदद करती है। इसलिए मैं इस पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं, इसके अलावा मैं अपने नियमित अभ्यास और फिटनेस रूटीन को फॉलो कर रहा हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "आप पहले 15 किलोमीटर तक चलते हैं और फिर उसके बाद आपकी तकनीक और योजना ही है जो आपको दौड़ में बाकी के 5 किलोमीटर की दूरी तय करने में मदद करती है।"

लंदन 2012 के बाद केटी इरफान टोक्यो ओलंपिक में दूसरी बार हिस्सा लेंगे। जहां वह 20 किमी दौड़ पूरी करते हुए चीन के कांस्य पदक विजेता वांग झेन से एक मिनट पीछे रहे थे।

उन्होंने कहा, "जब मैं लंदन ओलंपिक में गया था तो मैं 15 किलोमीटर तक की दूरी पर चौथे और पांचवें पायदान पर था, लेकिन अंतिम पांच किलोमीटर में तकनीक और फिटनेस की कमी नज़र आई।"

2012 के ओलंपिक में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने वाले केटी इरफान ने आगे कहा, "मुझे लंदन में सीखने का अच्छा अनुभव मिला था और उसके बाद से मैंने खुद को तैयार किया है और अपनी ग़लतियों से सीखा है। पदक मुझसे बहुत दूर नहीं था। मेरा लक्ष्य 1:19 के समय को छूना है और मुझे यकीन है कि मैं ऐसा कर पाऊंगा।"

गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में मेंस 20 किमी रेसवॉक के दौरान भारतीय रेसवॉकर केटी इरफ़ान 
गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में मेंस 20 किमी रेसवॉक के दौरान भारतीय रेसवॉकर केटी इरफ़ान गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में मेंस 20 किमी रेसवॉक के दौरान भारतीय रेसवॉकर केटी इरफ़ान 

लॉकडाउन के इस समय में कर रहे प्रशिक्षण

भारतीय रेस वॉकर, जिन्होंने रियो में 2016 ओलंपिक के लिए क्वालिफाई जरूर किया, लेकिन एक स्ट्रेस फ्रैक्चर की वजह से वह उसमें हिस्सा नहीं ले सके। वह वर्तमान में बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) परिसर में प्रशिक्षण ले रहे हैं।

30 वर्षीय केटी इरफान इस समय फोन और वीडियो कॉल के ज़रिए कोच अलेक्जेंडर आर्ट्सबेशेव (Alexander Artsybashev) के संपर्क में भी हैं।

वह नियमित रूप से केरल में अपने परिवार से भी बातचीत करते रहते हैं, हालांकि उन्हें दूर होने की वजह से घर की याद आती है। लेकिन यह उनका लक्ष्य ही है जो उन्हें आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित करता है।

उन्होंने कहा, “COVID-19 ने ओलंपिक शेड्यूल में गड़बड़ी जरूर की है, लेकिन हम सभी के पास खुद को तैयार करने के लिए एक और साल है। टोक्यो 2020 के स्थगन ने मेरी दिनचर्या को प्रभावित नहीं किया है। मेरे दिमाग में केवल एक ही चीज़ है - अपने देश के लिए एक मेडल जीतना।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!