भारतीय रग्बी टीम को मिला ओडिशा सरकार के रूप में नया प्रायोजक

भारत में रग्बी तेज़ी से लोकप्रियता हासिल कर रही है और अब जब ओडिशा सरकार के तौर पर इसे नया प्रायोजक मिल गया है तो ये एक शानदार ख़बर है।

लेखक सैयद हुसैन ·

पिछले कुछ सालों से भारत में रग्बी का खेल तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है। और ओडिशा सरकार की ये पहल इसे अब नए स्तर पर ले जा सकती है।

भारतीय महिला रग्बी टीम ने अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय 15 S मैच 2018 में एशिया रग्बी चैंपियनशिप में खेला था, और उन्हें पहली अंतर्राष्ट्रीय जीत भी इसी चैंपियनशिप के अगले संस्करण में सिंगापुर के ख़िलाफ़ मिली थी।

इसके बाद 2019 में भारतीय पुरुष रग्बी टीम ने डिविज़न-3 एशिया रग्बी चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था।

भारत को विश्व रग्बी के ‘गेट इन्टू रग्बी’ (Get Into Rugby) पहल में पिछले साल शीर्ष रैंक भी हासिल हुई थी। उन्होंने जापान को पीछे छोड़ा था जिन्होंने 2019 में रग्बी वर्ल्ड कप की मेज़बानी की थी।

अब आने वाले सालों में भारतीय रग्बी एक नई इबारत लिख सकती है, क्योंकि ओडिशा सरकार ने इस बात की घोषणा की है कि 2023 तक वह भारतीय राष्ट्रीय रग्बी टीम की प्रायोजक होगी।

ओडिशा के खेल मंत्री तुषारकांति बेहेरा (Tusharkanti Behera) ने कहा कि, “ये हमारे लिए एक बेहतरीन साझेदारी है। हाल के दिनों में हमने देखा है कि किस तरह से भारत में रग्बी का विकास हुआ है और तेज़ी से इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है। ख़ास तौर से इस खेल में युवाओं का रुझान नज़र आ रहा है और भारी तादाद में उनकी प्रतिस्पर्धा दिख रही है।“

“रग्बी इंडिया और ओडिशा सरकार के बीच ये साझेदारी सिर्फ़ रग्बी के विकास में मदद नहीं करेगी, बल्कि भारतीय रग्बी के ट्रेनिंग स्तर को सुधारने के लिए हाई परफॉर्मेंस पर भी ध्यान देगी।“

इस घोषणा के साथ ही एक अच्छी ख़बर ये भी है कि भारत जल्द ही श्रीनगर में अपना पहला समर्पित रग्बी मैदान का निर्माण करेगा।

इस घोषणा को भारतीय रग्बी में बेहद सकारात्मक पहल के तौर पर देखा जा रहा है, जिससे इस खेल को एक अलग स्तर पर ले जाया जा सकेगा।

इससे पहले 2018 में ओडिशा सरकार भारतीय हॉकी टीम की भी प्रायोजक बनी थी, और उन्होंने भुवनेश्वर में स्थित स्टेट ऑफ़ द आर्ट, कलिंगा स्टेडियम भी भारतीय हॉकी को दिया है जहां भारत अपने घरेलू मुक़ाबले खेलती है।

साथ ही साथ फ़ुटबॉल क्लब ओडिशा एफ़सी को भी ओडिशा सरकार का समर्थन हासिल है, जिसकी स्थापना 2019 में हुई थी और अब वह भारत की शीर्ष लीग इंडियन सुपर लीग (ISL) में भी खेलती है।

वाहबीज़ भरुचा को है बड़ी उम्मीद

ओडिशा सरकार के प्रायोजक बनने पर भारतीय वुमेंस रग्बी टीम की कप्तान वाहबीज़ भरुचा (Vahbiz Bharucha) ने ओलंपिक चैनल के साथ बातचीत में इसे बड़ा क़दम बताया।

“ओडिशा सरकार का ये भारतीय रग्बी के लिए बड़ा क़दम है, ख़ास तौर से उस खेल के लिए जो तेज़ी से अपनी लोकप्रियता बढ़ा रहा है। अब उम्मीद है कि अंतर्राष्ट्रीय रग्बी खिलाड़ी को हाई परफॉर्मेंस ट्रेनिंग के साथ साथ बेहतर सुविधाएं भी प्राप्त होंगी, जिससे वह अपने खेल के स्तर को अच्छा कर सकें।“

बॉलीवुड अदाकार और भारत के लिए रग्बी खेल चुके राहुल बोस (Rahul Bose) ने भी इस फ़ैसले को शानदार बताया और इसे ऐतिहासिक दिन क़रार दिया।

“ये भारतीय रग्बी के लिए एक ऐतिहासिक लम्हा है। मैं शुक्रगुज़ार हूं ओडिशा सरकार का, जिनकी बदौलत अब भारतीय रग्बी खिलाड़ियों को वह पहचान मिल सकेगी जिसके वे हक़दार हैं। ये एक बेहतरीन पहल है, और देश में रग्बी को एक प्रोफ़ेशनल स्पोर्ट्स बनाने की ओर उठाया गया पहला क़दम है।“