एशियन और टोक्यो गेम्स के लक्ष्य को लेकर ट्रैक पर उतरे मोहम्मद अनस

एशियाई खेलों के रजत पदक विजेता, जो ओलंपिक में व्यक्तिगत स्पर्धा के लिए क्वालीफाई करना चाहते हैं, वह एनआईएस पटियाला में तीन महीने तक फंसे रहे।

कोरोना वायरस (COVID-19) के कारण खेलों की दुनिया पर लगे ब्रेक के बाद अब धीरे धीरे सुधार आ रहा है और अंतरराष्ट्रीय खेल कैलेंडर के हिसाब से फिर से एथलीट्स अपनी कमर कस रहे हैं।

सभी एथलीट्स की तरह भारत के स्टार धावक मोहम्मद अनस (Muhammed Anas) फिर से सामान्य दिनचर्या में आकर काफी खुश हैं।

एथलीट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान अनस ने कहा कि “यह काफी सुखद है, वापस ट्रैक पर दौड़ने में काफी मजा आ रहा है। इंडोर में ट्रेनिंग करना पूरी तरह से अलग है। अब दोबारा से सामान्य दिनचर्या में वापस आकर काफी खुशी हो रही है।”

जब देश में लॉकडाउन लगा था तब मोहम्मद अनस पटियाला के नेताजी सुभाष नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स (NIS) में अन्य भारतीय एथलीटों के साथ एक राष्ट्रीय शिविर में थे। इसी वजह से वह अपने घर केरल भी नहीं लौट पाए थे। 

दो महीनों तक केवल इंडोर प्रैक्टिस करना एथलीट्स के लिए बिल्कुल अलग था, इससे पहले उन्होंने ऐसा कभी नहीं देखा था। यह उनके लिए किसी चुनौती से कम नहीं था।

हालांकि इससे उन्हें आपस में और ट्रेनर के साथ के करीब रहने और जानने का मौका मिला, इसका मतलब है कि उन्होंने इस समय का फायदा उठाते हुए अपनी फिटनेस पर पूरा काम किया है।

मोहम्मद अनस ने कहा कि “शुरुआती दिनों में चहारदीवारी में ट्रेनिंग करना आसान नहीं था लेकिन इसके बाद हम इसके आदी बन गए थे। मैं अपनी फिटनेस को बनाए रखने के लिए हर दिन कुछ कोर और स्ट्रेंथ एक्सरसाइज कर रहा था।”

टीम की एकता

शारीरिक कसरत के अलावा मोहम्मद अनस ने मेडीटेशन और योगा का सहारा भी लिया, जिससे वह तनाव दूर करने में सफल रहे। इसी की बदौलत वह इस कठिन समय को झेल पाए।

वहीं दूसरी तरफ उनके पास उनके साथी ओलंपियन स्प्रिंटर्स अरोकिआ राजीव (Arokia Rajiv) और कंपनी के लिए अय्यासामी धरुन (Ayyasamy Dharun) थे।

भारतीय स्टार ने कहा “हम सभी के बीच अच्छी दोस्ती है और किसी भी स्थिति में साथ है। हम एक दूसरे का मनोबल बढ़ाते हैं।”

यह जोड़ी राष्ट्रीय शिविर में चोटों से परेशान रही थी और अब उनकी वापसी के साथ प्रशिक्षण भी फिर से शुरू हो गया है।

मोहम्मद अनस ने आगे बताया कि “वह रिहैब पर थे लेकिन एक प्रोफेशनल एथलीट होने के नाते वह अपनी फिटनेस के लिए कैंप में लौटे थे, ये हमारे लिए अच्छा है कि वह हम सब के साथ ट्रेनिंग कर रहे हैं।”

मोहम्मद अनस टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी 4x400 मिश्रित रिले टीम का भी हिस्सा थे, वह व्यक्तिगत इवेंट में भी क्वालिफाई करने की कोशिश करने के साथ साथ अगले साल होने वाली एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप और विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के लिए भी तैयारी कर रहे हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!