भारत ने 3 टोक्यो 2020 के स्थान प्राप्त किए, नेथरा कुमानन ओलंपिक गेम्स में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला सेलर बनीं

विष्णु सर्वनन (लेज़र स्टैण्डर्ड) और केसी गनपथी और वरुण ठक्कर की जोड़ी (49er) ने भी ओलंपिक में जगह हासिल की। नेथरा कुमानन ने लेज़र रेडियल वर्ग में भाग लिया था।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

ओलंपिक गेम्स में पहली बार भारतीय महिला सेलर हिस्सा लेंगी। भारतीय सेलर नेथरा कुमानन (Nethra Kumanan) ने मुस्सनाह ओपन चैंपियनशिप के ज़रिए जापान में होने वाले टोक्यो गेम्स में अपनी जगह बना ली है।

वहीं टोक्यो 2020 के लिए लेज़र स्टैण्डर्ड क्लास में प्रतिस्पर्धा करते हुए विष्णु सर्वनन (Vishnu Saravanan) ने और 49er वर्ग में केसी गनपथी (KC Ganapathy) और वरुण ठक्कर (Varun Thakkar) ने भी जगह बना ली है।

ऐसा पहली बार होने जा रहा है कि ओलंपिक गेम्स के सेलिंग इवेंट में भारत एक से ज़्यादा वर्गों में भगा लेता हुआ नज़र आएगा। भारतीय सेलर्स लेज़र रेडियल, लेज़र स्टैण्डर्ड और 49er वर्ग में प्रतिस्पर्धा करेंगे।

अभी तक ओलंपिक गेम्स में भारत की ओर सो सेलर्स स्पर्धा कर चुके हैं। ग़ौरतलब है कि लेज़र क्लास एक सिंगल सेलर इवेंट है और 49er में एक टीम खेलती है जिसमें दो सेलर्स होते हैं।

इवेंट के आखिरी दिन पर 23 वर्षीय नेथरा कुमानन ने लेज़र रेडियल में जीत अच्छे अंतर से जीत हासिल की। मंडला रेस में उन्हें बस बिना किसी अड़चन के रेस ख़त्म करनी थी और उन्होंने वैसे ही किया और ओलंपिक कोटा जीत लिया।

भारतीय सेलर मेडल तो नहीं जीत सकीं लेकिन उन्होंने समग्र स्टैंडिंग में अपना नाम नीदरलैंड एम्मा चार्लोट जीन सेवलन (Emma Charlotte Jeanne Savelon) के बाद दूसरे स्थान पर लिख दिया।

नेथरा कुमानन ओलंपिक गेम्स में भाग लेने वाली पहली भारतीय महिला सेलर हैं।

इसके बाद विष्णु सर्वनन ने भी आखिरी दिन पर लेज़र स्टैण्डर्ड क्लास में बेहतरीन प्रदर्शन दिखाया।

फाइनल दिन में तीसरे स्थान पर रह कर इस भारतीय आर्मी ऑफिसर ने थाईलैंड के केराती बुआलोंग (Keerati Bualong) को हराकर ओलंपिक कोटा अपने नाम किया।

विष्णु सर्वनन ने मेडल रेस में अव्वल आ कर सिंगापोर के रयान लो जुन हान (Ryan Lo Jun Han) के बाद वाले यानी दूसरे स्थान को बुक कर लिया था।

वहीं केसी गनपथी और वरुण ठक्कर को ज़्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ा और उन्होंने 49er को टॉप करते हुए टोक्यो 2020 का ओलंपिक कोटा जीत लिया।

2018 एशियन गेम्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाले इस भारतीय ने 17 अंक की बढ़त के साथ आखिरी दिन में प्रवेश किया। ऐसे में उनके अंक अकीरा सकाई (Akira Sakai) और रसेल रसेल आयल्सवर्थ (Russel Aylsworth) से बेहतर थे।

मुख्य तस्वीर: ट्विटर/स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री