पूर्व विजेता एंथोनी अमलराज को टेबल टेनिस नेशनल्स के पहले राउंड में मिली जीत

2012 के राष्ट्रीय चैंपियन एंथनी अमलराज ने पश्चिम बंगाल के सौम्यदीप सरकार के खिलाफ राउंड ऑफ 64 के मैच में जीत हासिल की।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

कोरोना वायरस (COVID-19) के खिलाफ जंग लड़ चुके पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन एंथनी अमलराज (Anthony Amalraj) को रविवार को 82 वीं सीनियर नेशनल टेबल टेनिस चैंपियनशिप में अपनी शुरुआती दौर का मैच जीतने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी।

पंचकुला के ताऊ देवी लाल इंडोर स्टेडियम में खेले गए इस मैच में 35 साल के एंथनी अमलराज ने पश्चिम बंगाल के सौम्यदीप सरकार (Soumyadeep Sarkar) के खिलाफ 4-3 से जीत हासिल की।

पिछले नंवबर को ही कोरोना वायरस से उबरने वाले साल 2012 के नेशनल चैंपियन ने हालांकि अपनी पूरी लय नहीं दिखाई और अपने विरोधी को भी वापसी के कई मौके दिए, जिससे वह कई बार परेशानी में भी दिखे।

तमिलनाडु के इस खिलाड़ी ने पहले गेम में 12-10 से बढ़त बना ली थी लेकिन उनकी डिफ़ेंसिव रणनीति के  कारण सौम्यदीप को वापसी का मौका मिला और उन्होंने इसे हाथ से जाने ना देकर 2-1 बढ़त बना ली।

प्रतियोगिता में 9वीं वरीयता प्राप्त एंथनी ने हालांकि जैसे तैसे वापसी की और उन्होंने जल्दी ही 3-2 से लीड लेकर फिर मैच में वापसी की। इसके बाद भी एंथनी ने वो खेल नहीं दिखाया, जिसके लिए वह जाने जाते है और इस वजह से सौम्यदीप ने फिर से वापसी कर ली।

7वें गेम में सौम्यदीप शुरुआत में बढ़त लेने में सफल रहे लेकिन एंथनी ने भी सही वक्त पर वापसी करते हुए स्कोर 7-7 कर दिया और उन्होंने स्कोर 10-9 करने में देर नहीं लगाई। अंत में उन्होंने मैच 12-10, 7-11, 7-11, 11-8, 11-9, 9-11, 14-12 से जीता।

इससे पहले 10वीं वरीयता प्राप्त जीत चंद्रा को सीनियर नेशनल प्रतियोगिता के  राउंड ऑफ 64 के मैच में हार झेलनी पड़ी। इस खिलाड़ी को पूर्व सब-जूनियर नेशनल चैंपियन प्रियांश राज सुरेश के हाथों शिकस्त खानी पड़ी।

बाएं हाथ के प्रियांश राज सुरेश अपने खेल में शीर्ष पर थे, इस दौरान उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी को कुछ स्मार्ट  सर्विस वेरिएशन से काफी परेशान किया।  इसके साथ ही उनके क्विक रिटर्न का जीत चंद्रा के पास कोई जवाब नहीं था और अंत में वह अपने से कम रैंक के खिलाड़ी से 11-9, 11-6, 8-11, 11-13, 11-6, 11-9 से हार गए।

इस बीच, शीर्ष वरीयता प्राप्त अचंता शरथ कमल (Sharath Kamal) को तमिलनाडु के अबिनाय विजय बाबू (Abinay Vijay Babu) के खिलाफ 4-0 से आसान जीत मिली और इस जीत के साथ ही उन्होंने राउंड 32 में अपनी जगह पक्की कर ली।