ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप वर्ज़न 2.0: संजीव राजपूत और शहज़र रिज़वी ने किया कमाल 

ओलंपियन जॉयदीप करमाकर भविष्य में इस खेल को बढ़ावा देने के लिए और अधिक ऑनलाइन प्रतियोगिताओं की मांग करते हैं।

पहली अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में सफलता हासिल करने के बाद भारतीय निशानेबाज़ संजीव राजपूत (Sanjeev Rajput), शहज़र रिजवी (Shahzar Rizvi) और अमनप्रीत सिंह (Amanpreet Singh) ने शनिवार को टूर्नामेंट के दूसरे संस्करण में पोडियम फिनिश कर सबको प्रभावित किया।

पूर्व भारतीय निशानेबाज़ शिमोन शरीफ (Shimon Sharif) की पहल वाली इनोवेटिव वन-ऑफ-द-चैंपियनशिप का उद्देश्य कोरोना वायरस महामारी पर लगाए गए प्रतिबंधों के बीच कई देशों के निशानेबाजों की मदद करना है।

इंटरनेशनल ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप के दूसरे संस्करण में 50 मीटर राइफल 3 पोजिशन में ओलंपिक कोटा हासिल करने वाले संजीव राजपूत ने 10 मीटर एयर राइफल में 252.6 के स्कोर के साथ जीत हासिल की और 24-शॉट के फाइनल में ऑस्ट्रिया के मार्टिन स्ट्रेम्पफ्ल (Martin Strempfl) को 0.9 अंकों से हराया।

संजीव राजपूत के लिए एयर राइफल उनका प्राथमिक इवेंट नहीं है, इसके बावजूद वह मौजूदा एयर राइफ़ल्स 60 विश्व रिकॉर्ड से महज़ 0.2 अंकों से चूक गए।

संजीव राजपूत ने स्पोर्टस्टार को बताया, "मैं लंबे समय से (एयर राइफल श्रेणी) में शूटिंग नहीं कर रहा था लेकिन आखिरी बार ऑनलाइन शूटिंग के बाद मैंने दो से तीन दिन अभ्यास किया।"

उन्होंने कहा, “मुझे बस ये ध्यान रखना था कि मुझे क्या करना है और कैसे करना है। इस बार, पिछली बार के विपरीत, मैंने अच्छे पोज़िशन में रहकर 60 शॉट्स लगाए।” 10 मीटर एयर पिस्टल में शहज़र रिज़वी ने 2017 विश्व कप फाइनल कांस्य पदक विजेता अमनप्रीत सिंह से 0.2 के अंतर से 241.7 के स्कोर के साथ जीत हासिल की। स्कॉटलैंड की लुसी इवांस वर्चुअल पोडियम पर जगह बनाने में सफल रहे।

निशानेबाज़ अपने लोकेशन से ज़ूम (Zoom) प्लेटफ़ॉर्म में प्रवेश करके इस चैंपियनशिप में भाग लेते हैं और अपने घरों में स्थापित इलेक्ट्रॉनिक लक्ष्यों को शूट करते हैं। स्कोर करने के लिए साझा की गई स्क्रीन को मार्क करना होता है।

भविष्य में और अधिक ऑनलाइन शूटिंग प्रतियोगिताओं की मांग

शिमोन शरीफ के साथ शनिवार की शूटिंग चैंपियनशिप की सह-मेज़बानी करने वाले ओलंपियन जॉयदीप करमाकर ने महसूस किया कि इस तरह के आयोजनों की अधिक संभावना के साथ भविष्य में आगे बढ़ने की गुंजाईश है।

जॉयदीप करमाकर (Joydeep Karmakar) ने कहा, "यह परिस्थिति अब हमें दिखाती है कि लोगों को जोड़ने के लिए तकनीक बहुत महत्वपूर्ण है। शिमोन इस समय एक शॉस्ट्रिंग बजट पर काम कर रहे हैं, लेकिन सोचिए अगर इस पर ध्यान दिया जाए और बहुत सारी तकनीकों का सहारा लिया जाए, तो कितना बेहतर होगा।"

उन्होंने विस्तार से समझाया, "यदि आप इस खेल में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो आपको अधिक प्रतियोगिताओं को खेलने की आवश्यकता है। फिजिकल खेलों के साथ पैरलल सिस्टम क्यों नहीं है? ये खेल को आवश्यक प्रोत्साहन और पैसा देगा।"

इस प्रतियोगिता का सीधा प्रसारण indianshooting.com के फेसबुक पेज पर किया जा रहा था, जिसमें हंगरियन शूटर पीटर सिदी (Peter Sidi), शिमोन शरीफ और जॉयदीप करमाकर के साथ के प्रतियोगिता की कमेंट्री कर रहे थे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!