लॉकडाउन में भी ‘अर्जुन’ बनने की राह पर मनु भाकर, इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम बना सहायक

अंतरराष्ट्रीय शूटिंग चैंपियनशिप के ‘वर्ज़न 2.0’ में अपने खराब इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम की वजह से मनु भाकर हिस्सा नहीं ले पाईं थी। अब वह अपने नए सिस्टम के साथ तीसरे संस्करण में ले रहीं हैं हिस्सा।

भारत की शीर्ष शूटरों में से एक मनु भाकर (Manu Bhaker) ने देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच अपनी ट्रेनिंग और प्रैक्टिस को जारी रखने के लिए घर पर नया इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम को लगाने में सफलता हासिल कर ली है।

दरअसल, 18 वर्षीय इस निशानेबाज़ को अब अपने पूराने इलेक्ट्रानिक टार्गेट से छुटकारा मिल गया है, जिसमें उन्हें मैनुअल पेपर टार्गेट सिस्टम को इस्तेमाल करना पड़ता था। यह सिस्टम “बहुत परेशान” करने वाला था और इससे शूटिंग प्रैक्टिस में बार-बार परेशानी का सामना करना पड़ता था।

मनु भाकर ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) से बात करते हुए कहा, “मुझे अपनी पुरानी मशीन में बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था, क्योंकि यह मैनुअल थी। नई मशीन काफी अलग और खास है।”

छह बार की ISSF वर्ल्ड कप गोल्ड मेडल विजेता ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि अगले तीन-चार महीनों तक आउटडोर शूटिंग और प्रतियोगिताओं का होना संभव नहीं है, इसलिए मैंने सोचा कि यह समय नई मशीन को लगाने के लिए काफी सही और लाभदायक है।”

इस नए सिस्टम को उनके पिता ने घर पर बनीं शूटिंग रेंज में स्थापित किया है, जिसमें 10-मीटर एयर पिस्टल लक्ष्य के लिए हाई-इंटेन्सिटी एलईडी टार्गेट इल्यूमिनेशन (High-intensity LED Target Illumination) को लगाया गया है। इसके अन्य ख़ूबियों की बात करें तो इसे इस्तेमाल करने में खर्च भी कम आता है।

ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में वापसी

भारतीय निशानेबाज़ों की सुविधाओं और प्रशिक्षण का प्रबंधन करने वाली संस्था, भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) और ओलंपिक गोल्ड क्वेस्ट (OGQ) के संयुक्त प्रयास से ही हरियाणा के चरखी दादरी में स्थित मनु भाकर के घर में इस इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम को जल्द से जल्द पहुंचाना सुनिश्चित किया गया।

मनु भाकर पहले अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में तीसरे स्थान पर रहीं। तस्वीर साभार: ISSF
मनु भाकर पहले अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में तीसरे स्थान पर रहीं। तस्वीर साभार: ISSFमनु भाकर पहले अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में तीसरे स्थान पर रहीं। तस्वीर साभार: ISSF

2018 यूथ ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता ने इस नए इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम की टेस्टिंग में अपना बर्बाद नहीं किया, उन्होंने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप के तीसरे संस्करण में शिरकत की। जिसकी पुष्टि ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप के आयोजक और पूर्व भारतीय शूटर शिमोन शरीफ़ (Shimon Sharif) ने पहले ही कर दी थी।

पहली अंतरराष्ट्रीय शूटिंग चैंपियनशिप में 10 मीटर एयर पिस्टल प्रतियोगिता में तीसरे स्थान पर रहने के बाद मनु भाकर खराब इलेक्ट्रॉनिक टार्गेट सिस्टम की वजह से दूसरे संस्करण में हिस्सा नहीं ले पाईं थीं।

दुनियाभर के 100 निशानेबाज़ों के साथ तीसरे अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन शूटिंग चैंपियनशिप में भारत के यशस्विनी सिंह देसवाल (Yashaswini Singh Deswal) और रूस के डारिया सिरोटकिना (Daria Sirotkina) भी शामिल हैं।

2012 लंदन ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता गगन नारंग (Gagan Narang) भी शनिवार को टूर्नामेंट के दौरान विशेष अतिथि के तौर पर नज़र आएं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!