टोक्यो ओलंपिक के लिए NRAI जल्द ही कर सकती है भारतीय शूटिंग दल का ऐलान

इससे यह भी स्पष्ट हो गया है कि इस साल फरवरी तक केवल ट्रायल्स को ध्यान में रख कर टोक्यो गेम्स के लिए भारत की शूटिंग टीम की घोषणा की जाएगी।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) ने शनिवार को इस बात कि पुष्टि कर दी है कि वह जल्दी ही अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए अपनी शूटिंग टीम का ऐलान करेगी।

NRAI के अध्यक्ष रनिंदर सिंह (Raninder Singh) ने साफ कर दिया है कि इस साल फरवरी तक किए गए प्रदर्शन के आधार पर टीम को चुना जाएगा। इसके अलावा अब ओलंपिक के लिए और ट्रायल नहीं होंगे, उन्होंने ये बात तब कही जब टोक्यो ओलंपिक में एक साल से ज्यादा का वक्त बचा है।

रनिंदर सिंह ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कहा कि “हमें नहीं लगता कि और ट्रायल करने से बेहतर नतीजे मिलेंगे। हमारी एक पॉलिसी है और हम उसी के हिसाब से चल रहे हैं। वो खिलाड़ी जो हर कैटेगिरी के टॉप-2 में आए हैं, उन्हें टीम में जगह दी जाएगी”। इसके अलावा उन्होंने कहा कि “कुछ विशेष परिस्थिति में इसमें बदलाव भी किया जा सकता है।”

अपूर्वी चंदेला ने NRAI से गुहार लगाई थी कि टोक्यो ओलंपिक के लिए भारतीय शूटिंग दल का ऐलान जल्द हो।

भारतीय शूटर्स अपू्र्वी चंदेला(Apurvi Chandela) और अभिषेक वर्मा (Abhishek Verma) जैसे कई स्टार खिलाड़ियों ने ये अपील की थी कि टीम का ऐलान जल्द से जल्द किया जाए। वहीं भारत के इकलौते व्यक्तिगत गोल्ड मेडलिस्ट अभिनव बिंद्रा (Abhinav Bindra) चाहते थे कि टीम का ऐलान देर से किया जाना चाहिए।

अब जो बातें चल रही है, उससे से तो यही लगता है कि टोक्यो ओलंपिक में कौन जाएगा, इसका फैसला लगभग हो ही गया है।

ऐश्वर्या प्रताप सिंह का क्या होगा? 

पुरुषों की राइफल में तीसरा स्थान हासिल करने वाले और पिछले साल जूनियर विश्व कप में स्वर्ण पदक विजेता Aऐश्वर्या प्रताप सिंह (Aishwary Pratap Singh) की किस्मत हालांकि चयनकर्ताओं के विवेक पर निर्भर करेगी।

ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने के लिए आपको टॉप-2 में होना चाहिए लेकिन एश्वर्या प्रताप सिंह सभी ट्रायल के बाद तीसरे स्थान पर हैं।

वहीं अनुभवी संजीव राजपूत ( Sanjeev Rajput) और महाराष्ट्र के स्वपनिल कुसले जिन्होंने ना तो अभी तक कोटा हासिल किया है और ना ही कोई इंटरनेशनल मेडल जीता है, वह पहले और दूसरे स्थान पर काबिज है। अब एश्वर्या का क्या होता है ये तो सेलेक्टर पर ही निर्भर करता है।

 एश्वर्या प्रताप सिंह के अनुसार ‘मेरे और स्वपनिल  के बीच कुछ ही अंकों का फ़ासला है, मुझे उम्मीद है कि सेलेक्टर्स इस बात पर जरूर गौर करेंगे मेरे सभी अंक इंटरनेशनल प्रतियोगिता से आए हैं, वहीं स्वपनिल ने घरेलू ट्रायल में अंक हासिल किए हैं”। इसके अलावा उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि सेलेक्टर मेरे मामले में ध्यान देंगे, अगर ऐसा नहीं होता है तो मैं और ट्रायल देना चाहूँगा”

मनु भाकर (Manu Bhaker),अंजुम मोदगिल (Anjum Moudgil) और यशस्विनी सिंह (Yashaswini Singh) सहित 15 भारतीय निशानेबाज़ ओलंपिक में हिस्सा ले सकते हैं।