स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले निशानेबाज़ों के लिए दिल्ली में खोलेगी शूटिंग रेंज

इस दौरान भारतीय निशानेबाज़ों को सुरक्षा के मापदंड का पालना करना होगा, निशानेबाज़ों को ऑनलाइन बुकिंग करनी होगी और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना होगा।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारत की तरफ से टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले और जिन निशानेबाजों के ओलंपिक में खेलने की संभावना है, उनके लिए बुधवार से दिल्ली स्थित डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेज के दरवाजे खुल जाएंगे।

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI )ने मंगलवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि जिन खिलाड़ियों ने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया है या जिनके क्वालिफाई करने की उम्मीद है, वह शूटिंग रेंज में प्रैक्टिस कर सकते हैं।

इसमें टोक्यो 2020 के लिए 32 सदस्यीय कोर ग्रुप को इजाज़त होगी,जिसे पिछले महीने नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) द्वारा घोषित किया गया था। रेंज को बारी बारी से खोला जाएगा।

SAI ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि पहले फेज़ में केवल उन्हीं निशानेबाजों को अनुमति होगी, जिन्होंने ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया है या जिनके क्वालिफाई करने की उम्मीद है।

सुरक्षा मापदंडों का करना होगा पालन

रेंज को भले ही खोलने का फैसला लिया गया हो लेकिन इस दौरान भारत सरकार द्वारा बनाई गई सभी गाइडलाइंस का सख्ती से पालन किया जाएगा। देश कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के कारण अभी भी संकट का समय ही चल रहा है।I

छह शॉटगन रेंजों में से केवल तीन ही एथलीटों के उपयोग के लिए खुलेंगी।

जो निशानेबाज शूटिंग रेंज में ट्रेनिंग करने के लिए मान्य है उन्हें रेंज पर भीड़ से बचने के लिए ऑनलाइन बुकिंग करनी होगी। इसके अलावा रेंज के लिए सिंगल प्वाइंट एंट्री सिस्टम रखा गया है।

वहीं रेंज में एंट्री से पहले रोजाना सभी निशानेबाजों का तापमान चैक होगा औऱ थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी। इसके अलावा इस बात पर पूरा ध्यान दिया जाएगा कि खिलाड़ी सोशल डिस्टन्सिंग के नियमों की पालना करें, जिसमें 6 फीट की दूरी का नियम भी शामिल है। वहीं 10 मीटर के 80 में से केवल 25 और रेंज में राइफल्स और पिस्तौल के लिए 25 मीटर और 50 मीटर के आधे हिस्से शुरू होंगे।

SAI के निर्देश के अनुसार छह शॉटगन रेंजों में से केवल तीन ही एथलीटों के उपयोग के लिए खुलेंगी। वहीं निशानेबाजों को भी बंदूकें और गोला-बारूद सहित व्यक्तिगत उपकरण साझा करने से परहेज करने का निर्देश दिया गया है।