ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर चुके खिलाड़ियों को पहले मिलेगा अभ्यास का मौक़ा: भारतीय खेल मंत्री

किरेन रिजिजू ने कहा कि लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर चुके एथलीटों को मिलेगी तवज्जो

भारतीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) ने खिलाड़ियों की मैदान में वापसी के संकेत दिए हैं। FICCI द्वारा आयोजित वेबिनार कोरोना एंड स्पोर्ट्स: द चैंपियंस स्पीक: के हवाले से स्पोर्ट्स मिनिस्टर ने बताया कि उनका दफ्तर खिलाड़ियों के ओपन फील्ड ट्रेनिंग के पुष्टिकरण में लगा हुआ है ताकि वे जल्द ही मैदान पर उतर सके।

किरेन रिजिजू ने कहा “पहले हम ओलंपिक में क्वालिफाई कर चुके खिलाड़ी और टीमों का पता लगाएंगे। हालांकि ओलंपिक अगले साल है तो हमारे पास काफी समय है। ऐसे में उन खिलाड़ियों को अभ्यास का पहले मौका दिया जाएगा जिन्होंने ओलंपिक के लिए क्वालिफ़ाई कर लिया है या अभी उनके ओलंपिक क्वालिफिकेशन मुकाबले बाक़ी हैं।”  

 उन्होंने आगे कहा “मुझे पता है कि अगर खिलाड़ी खेल से 3 से 4 महीने तक दूर रहे तो उन्हें नुकसान पहुंचेगा। मैं चाहता था कि वे आज यानी 3 मई से ही अभ्यास शुरू कर सकें लेकिन नेशनल डिज़ास्टर मैनेजमेंट एक्ट ने हमे अनुमति नहीं दी। खेल ज़रूरी कामों की लिस्ट में नहीं आता इसलिए इसमें कोई रियायत नहीं है।”

हालांकि खिलाड़ी और फेडरेशन का मानना था कि कुछ ही खिलाड़ियों को सही लेकिन 3 मई से उन्हें अभ्यास की अनुमति ज़रूर मिल जाएगी। ऐसे में रिजिजू का मानना है कि आने वाले समय में खिलाड़ियों को रियायत मिल सकती है और एक बार फिर वे अपने खेल को शुरू कर खुद को ओलंपिक के लिए तैयार करना शुरू कर सकते हैं।

खेल मंत्री ने आगे बताया “कल या उसके अगले दिन मैं मीटिंग में बैठूंगा और सुनिश्चित करूंगा कि खिलाड़ियों को किसी प्रकार की राहत मिले और वे अभ्यास कर सकबॉक्सिंग रिंग में पसीना बहाते दिख सकते हैं खिलाड़ीबॉक्सिंग फेडरेशन से वीडियो कॉल के ज़रिए किरेन रिजीजू ने बातचीत की और उन्हें भी जानकारी मिली कि हाल फिलहाल में कोई भी नेशनल कैंप नहीं खुलेगा और ऐसे जिन मुक्केबाज़ों ने टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई कर लिया है आने वाला समय उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है।

उन्होंने बातचीत को बढ़ाते हुए आगे कहा “हम सभी कैंप एक साथ नहीं खोल सकते तो ऐसे में एलीट खिलाडियों को पहले मौका मिलेगा और जूनियर खिलाड़ियों को इंतज़ार करना होगा। हमे तकनीकी अधिकारियों, हाई परफॉरमेंस डायरेक्टर और सबसे ज़रूरी स्वास्थ्य अधिकारियों से पहले सुरक्षा आदेश लेने होंगे ताकि खिलाड़ी अभ्यास के समय खुद को स्वस्थ रख सकें।”

ऐसे में माना जा रहा है कि खेल मंत्री और उनकी टीम के अभ्यास की वजह से बॉक्सिंग के खिलाड़ियों को आने वाले हफ़्तों में छूट मिल सकती है और वे एक बार फिर पसीना बहाते हुए देखे जा सकते हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!