जल्द ही बहाल होगी खेलों की दुनिया और मैदान में दिखेंगे आपके पसंदीदा एथलीट्स

भारत के राष्ट्रीय खेल संघों ने पहले ही दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं, क्योंकि एथलीट ट्रेनिंग शुरू करने के लिए तैयार हैं।

पिछले हफ्ते जर्मनी में बुंडेसलीगा के फिर से शुरू होने के साथ, दुनिया ने कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के बीच खेलों को फिर से शुरू करने की दिशा में एक छोटा कदम उठाया है।

अगला कदम स्पेन में उठाए जाने की संभावना है।

पिछले कुछ महीनों में लगातार कोरोना वायरस के मामलों से निपटने के बाद, स्पेन ने आखिरकार ला लीगा क्लबों को सोमवार को ट्रेनिंग के अपने तीसरे चरण को फिर से शुरू कर दिया, जहां लियोनेल मेस्सी (Lionel Messi), एडेन हज़ार्ड, लुका मोड्रिक जैसे अन्य सितारों को दस के समूहों में ट्रेनिंग करते देखा गया।

ला लीगा के अलावा, प्रीमियर लीग ने मंगलवार से अपने खिलाड़ियों के लिए एक बिना-संपर्क समूह वाला ट्रेनिंग शुरू करने पर भी सहमति जताई है।

इस बीच लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत ने नेशनल लॉकडाउन के चौथे चरण में कदम रख दिया है।

हालांकि, भारतीय खेल मंत्रालय ने अपने एथलीटों को गृह मंत्रालय के दिशानिर्देशों का पालन करके कॉम्प्लेक्स और स्टेडियम में ट्रेनिंग फिर से शुरू करने के लिए हरी झंडी दिखा दी है।

भारतीय एथलीटों की ट्रेनिंग कई फेज में होगी, जो भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के छह सदस्यों द्वारा तैयार किए गए मानक संचालन प्रक्रियाओं के अनुसार शुरू किया जाएगा।

एथलीटों के लिए क्या-क्या होंगे दिशा-निर्देश

मुक्केबाज़ी एक संपर्क खेल (जिसमें खिलाड़ी एक दूसरे के संपर्क में आते हैं) होने के नाते, बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएफआई) ने कुछ एहतियाती उपायों की एक सूची तैयार की है।

जिसमें कहा गया है कि देश के ग्रीन और ओरेंज जोन से आने वाले मुक्केबाज़ों को पूर्ण ट्रेनिंग शुरू करने से पहले पांच दिनों के लिए सेल्फ-क्वारनटिन किया जाएगा।

बीएफआई के अलावा, एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (AFI) ने भी अपने दिशा-निर्देशों को तैयार किया है, जो शिविर में एथलीटों और कोचिंग स्टाफ को हाथ मिलाने या यहां तक कि ज़मीन पर थूकने पर प्रतिबंध लगाता है।

अपने स्वयं के पानी की बोतल, एनर्जी ड्रिंक, हैंड सेनेटाइजर और तौलिया ले जाने के निर्देश के अलावा, एथलीटों को अपने निर्धारित ट्रेनिंग से ठीक पांच मिनट पहले अपने कमरे से निकलने के लिए कहा गया है।

AFI के निर्देशों में कहा गया है कि, सुनिश्चित करें कि आपका सामान दूसरों के द्वारा छुआ नहीं गया हो। इसी तरह ऐसी कोई भी चीज न छुएं जो आपकी न हो।

इस परिस्थिति में दूसरे देश में जाना संभव नहीं है, ऐसे में बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (BAI) ऐसे जगह की तलाश कर रही है जो शटलर्स के ट्रेनिंग के लिए टोक्यो की स्थिति के अनुकूल हों।

BAI के प्रवक्ता अनूप नारंग ने टाइम्स नाउ को बताया कि, "हम ऐसे जगह की तलाश करने जा रहे हैं, जो जुलाई 2021 में टोक्यो के मौसम से मेल खाती हो।"

उन्होंने कहा, "ये विचार खिलाड़ियों को सहज बनाने के लिए किया गया है।"

टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया ने पहले ही अपने शीर्ष 16 पैडलर्स को ट्रेनिंग कैंप में भाग लेने के लिए सहमति मांगी है।

मनिका बत्रा ट्रेनिंग शुरू करने से पहले इंतजार करना और सावधानी बरतना चाहती हैं
मनिका बत्रा ट्रेनिंग शुरू करने से पहले इंतजार करना और सावधानी बरतना चाहती हैंमनिका बत्रा ट्रेनिंग शुरू करने से पहले इंतजार करना और सावधानी बरतना चाहती हैं

हालांकि, कुछ एथलीट्स ने वेट-एंड-वॉच के दृष्टिकोण को अपनाया हुआ है।

नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) एथलीटों के स्वास्थ्य को अपनी प्राथमिकता का हवाला देते हुए इस विचार के खिलाफ जाने वाले एक महासंघ है।

सभी एथलीटों एक जैसे नहीं होते हैं। शिविरों को फिर से शुरू करने के लिए निर्णय लेने से पहले कुछ एथलीट सावधानी बरतते हुए ट्रेनिंग कर रहे हैं, तो दूसरे वो हैं जो सबसे अच्छा करने के लिए समय के ठीक होने का इंतज़ार नहीं कर रहे हैं।

भारतीय टेबल टेनिस स्टार मनिका बत्रा (Manika Batra) ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, "ये उन एथलीटों के जीवन में सार्थकता लाएगा, जिन्होंने खेल और कई चीजों को त्याग कर अपने जीवन को इसके लिए समर्पित कर दिया है।"

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!