जमैका में स्प्रिंटर श्रावणी नंदा ने लॉकडाउन के बाद ट्रैक पर की वापसी

एमवीपी ट्रैक क्लब के लिए खेलते हुए ओडिशा की स्प्रिंटर श्रावणी नंदा ने 100 मीटर में हिस्सा लिया।

श्रावणी नंदा (Srabani Nanda) लॉकडाउन के बाद ट्रैक एंड फील्ड पर वापसी करने वाली पहली भारतीय बनीं। वर्ल्ड एथलेटिक्स ने ओलंपिक के क्वालिकिकेशन को नवंबर 2020 तक के लिए स्थगित कर दिया है और साथ ही एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया (Athletics Federation India AFI) ने भी इंडियन ग्रां प्री और फेड कप को भी रद्द कर दिया है तो ऐसे में ज़्यादातर भारतीय स्प्रिंटर और रनर महज़ ट्रेनिंग के लिए ही ट्रैक पर उतरें हैं।

वहीं दूसरी ओर श्रावणी नंदा शनिवार को दूसरी बार स्पर्धा करती दिखीं। दरअसल, जमैका के कॉलेज में हुई वेलॉसिटी फेस्ट मीटिंग में भारतीय स्प्रिंटर श्रावणी नंदा एमवीपी क्लब के लिए खेलती हुई 11.78 सेकंड की टाइमिंग से खुद को तीसरे स्थान पर ले जा खड़ा किया।

मार्च के बाद वेलॉसिटी फेस्ट जमैका का पहला ट्रैक एंड फील्ड इवेंट था और इसे एशेनशीम (Ashensheim) स्टेडियम में आयोजित किया गया था।

इस वेलॉसिटी फेस्ट में श्रावणी नंदा के अलावा ओलंपिक स्प्रिंट चैंपियनइलेन थॉम्पसन हेराह (Elain Thompson Herah) और शेली एन फ्रेजर प्राइस (Shelly-Ann Fraser-Pryce) ने भी अपने जलवे बिखेरे।

दोहा में हुई 2019 IAAF वर्ल्ड चैंपियनशिप से अपना नाम वापस लेने के बाद हेराह की यह दूसरी स्पर्धा थी और जमैका की इस स्टार ने 100 मीटर में 11.19 सेकंड की बेहतरीन टाइमिंग से अपने कारवां को आगे बढ़ाया। वहीं दूसरी ओर फ्रेजर ने 11.00 सेकंड की टाइमिंग से खुद को एक बार फिर साबित किया।

श्रावणी नंदा ने एमवीपी ट्रैक क्लब की अगुवाई की 
श्रावणी नंदा ने एमवीपी ट्रैक क्लब की अगुवाई की श्रावणी नंदा ने एमवीपी ट्रैक क्लब की अगुवाई की 

ओलंपिक की उम्मीद

श्रावणी नंदा ने पहली बार 2008 में बड़े स्तर पर प्रदर्शन किया और सबका मन मोह लिया। ग़ौरतलब है कि श्रावणी नंदा ने उस समय कॉमनवेल्थ यूथ गेम्स में 4x100 मीटर रिले में हिस्सा लिया था और गोल्ड मेडल हासिल किया था। इतना ही नहीं, इस भारतीय स्प्रिंटर ने आगे चलकर रियो गेम्स 2016 में भारत की अगुवाई भी की थी।

श्रावणी नंदा ने 2016 जी कासानोव मेमोरियल में 23.07 सेकंड की टाइमिंग के साथ ओलंपिक गेम्स के लिए क्वालिफाई किया और सबको हैरान कर दिया।

4x400 रिले के अलावा भारत की ओर से 5 एथलीटों ने टोक्यो 2020 के लिए क्वालिफाई कर लिया है और अब वह जापान की ज़मीन पर भारतीय तिरंगे के लिए खून पसीना एक करते हुए दिखाई देंगे। 100 मीटर और 200 मीटर में गोल्ड और सिल्वर मेडल जीतने वाली श्रावणी नंदा भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक गेम्स में एक बड़ी उम्मीद बनकर सामने आ रही हैं। इतना ही नहीं इनके साथ दुती चंद (Dutee Chand) का नाम भी लिया जा रहा है और उनसे भी भारतीय प्रशंसकों ने खासी उम्मीद लगाई हुई है।

जब 2021 में ओलंपिक गेम्स शुरू होंगे तब तक ओडिशा की यह स्प्रिंटर 30 साल की हो जाएंगी। एमवीपी ट्रैक क्लब में हिस्सा लेंगे से श्रावणी नंदा की सोच ज़रूर सकारात्मक हुई होगी क्योंकि वह जहां खेल रहीं है वह ओलंपिक गोल्ड जीतने वाले कई और एथलीट ही बस्ते हैं।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!