क्रिकेट के बॉस सौरव गांगुली का मानना है कि ISL का भारत में होना है बड़ी बात

गांगुली को लगता कि महामारी के बाद देश में ISL का आयोजन कराने से बाकी खेलों को भी प्रेरणा मिलेगी।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

गांगुली को लगता कि महामारी के बाद देश में ISL का आयोजन कराने से बाकी खेलों को भी प्रेरणा मिलेगी। इंडियन सुपर लीग 2020-21 (Indian Super League - ISL) की शुरुआत गोवा में शुक्रवार को होने जा रही है और यह कोरोना वायरस के बाद पहला बड़ा इवेंट है जिसका आयोजन भरता में होगा।

ऐसे मैं पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का मानना है कि इन हालातों में ISL के भारत में आयोजन होने से खेलों के प्रति बना भय निकल जाएगा।

ISL के साथ हुए इंस्टाग्राम लाइव सेशन के दौरान गांगुली ने कहा "लॉकडाउन के बाद भारत में यह पहली बड़ी प्रतियोगिता है और यह एक बड़ा अवसर भी है। यह बहुत ख़ास चीज़ की शुरुआत है क्योंकि जीवन को पहले जैसा करना बहुत ज़रूरी है। हमें अपनी ज़िन्दगी में वापसी करनी होगी और इस डर को हमेशा के लिए दूर भी करना होगा।”
"मुझे लगता है कि ISL सभी के दिलों की तफसील और आशंकाओं को मिटाने में सफल हो जाएगा। यह बाकी खेलों को भी प्रेरणा देगा और मैं मानता हूँ कि क्रिकेट को भी प्रेरणा देगा क्योंकि हमारा घरेलु सीज़न शुरू होने जा रहा है। हम इसे अगले साल शुरू करने को देख रहे हैं।"

सौरव गांगुली फिलहाल बोर्ड ऑफ़ कण्ट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (Board of Control for Cricket in India - BCCI) के अध्यक्ष की हैं और इन्हीं के जज़्बे की वजह से ही UAE में इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League – IPL) सफलता पूर्वक हो पाया है।

इतना ही नहीं, गांगुली तीन बार की विजेता ATK के सह मालिक भी हैं। यह वही ATK है जो अब ATK मोहन बागान (ATK Mohun Bagan) बन चुकी है। ISL 2020-21 मैं ईस्ट बंगाल (East Bengal) भी एंट्री कर रही है और फैंस के लिए मानों दिवाली हो गई है क्योंकि एक तरफ मोहन बागान तो दूसरी ओर उनकी कड़ी प्रतिद्वंदी ईस्ट बंगाल।

सौरव गांगुली ने आगे कहा "मोहन बागान और ईस्ट बंगाल का नाम इतिहास में दर्ज है और दोनों के ही प्रासाहंसकों की संख्या बहुत ज़्यादा है। यह ISL के स्तर को बढ़ाएगा और ISL के औदे को भी और बड़ा कर देगा।"

मुख्य तस्वीर - BCCI