एथलीटों का शरीर स्पोर्ट्स कार की तरह होता है, ऐसा क्यों बोले शरथ कमल ?

इस भारतीय पैडलर को लगता है कि एथलीट्स को लगातार शरीर पर काम करना होता है, जैसे की मशीन से बेहतर काम निकलवाने के लिए तेल का इस्तेमाल किया जाता है।

अचंता शरथ कमल (Achanta Sharath Kamal) एक दशक से अधिक समय से भारतीय टेबल टेनिस मशाल को वैश्विक मंच पर जगमगा रहे हैं।

साल 2006 कॉमनवेल्थ गेम्स में दो गोल्ड मेडल जीतने के साथ उनका ये सफर शुरू हुआ और यह 2020 तक जारी है। इस साल शरथ ने ओमान ओपन का खिताब जीतकर अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ 30वीं रैंकिंग हासिल की।

भारतीय टेबल टेनिस स्टार 38 साल की उम्र में भी शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं। जब उनसे पूछा गया कि वह खुद को इतना फिट कैसे रख पाते हैं तो उन्होंने इसका दिलचस्प जवाब दिया।

WION वेबसाइट को दिए इंटरवियू में उन्होंने बताया कि “खिलाड़ियों का शरीर स्पोर्ट्स कार की तरह होता है। जब आप इसकी केयर करना बंद कर देते हो तो वह भी जवाब दे देती है और अच्छा परफॉर्म नहीं करती।”

भारतीय स्टार ने कहा कि “मैं पिछले 3-4 वर्षों से एक महीने का अवकाश ले रहा हूं। मेरी उम्र को देखते हुए मुझे लगता है कि मानसिक और शारीरिक ब्रेक लेना महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही इस दौरान मैं अपने परिवार के साथ कुछ समय बिता लेता हूं।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि "मैं उस अवधि के दौरान आराम करने और एक फ्रेश मानसिकता के साथ वापस आने की कोशिश करता हूं।"

अब इस साल उन्होंने एक महीने से ज्यादा का ब्रेक ले लिया है तो टोक्यो ओलंपिक के लिए जो रणनीति उन्होंने बनाई थी, उस पर काम करना काफी चुनौतीपूर्ण होगा।

अनुभव का महत्व

ओलंपिक साल के शुरुआती महीनों में अचंता शरथ कमल ने संगीत का सहारा लिया। चेन्नई के रहने वाले इस भारतीय खिलाड़ी ने हमवतन साथियन गणानाशेखरन (Sathiyan Gnanasekaran) के साथ हंगरियन ओपन के मेंस डबल्स में रजत जीता था, जिसकी बदौलत उन्होंने डबल्स रैंकिंग में टॉप 20 में जगह बनाई

उन्होंने ओलंपिक क्वालिफायर के दौरान फॉर्म में रहने के लिए अपने परिवार की इच्छाओं के खिलाफ अप्रैल में हुए ओमान ओपन (Oman Open) में भी हिस्सा लिया।

अब स्थिति बदल चुकी है और अचंता शरथ कमल को लगता है कि मैच फिटनेस हासिल करने के लिए उन्हें कुछ महीनों का वक्त लगेगा।

हालांकि, शरथ को ये अच्छे से पता है कि उन्हें ये कैसे करना है और इसके लिए उन्होंने रोहन बोपन्ना (Rohan Bopanna) का भी सहारा लिया।

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी ने बताया कि मुझे इस बात का फायदा मिलेगा कि मेरे पास अनुभव है और मुझे ये अच्छे से पता है कि वापसी के बाद खेल के कौन से हिस्से में मुझे मेहनत की जरुरत होगी। इसके साथ ही उन्होंने साफ कर दिया कि वह अपना ताकत को बढ़ाने पर ध्यान देंगे ना कि अपनी कमजोरियों पर काम करेंगे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!