क़तर ओपन में जहां भारत के खिलाड़ियों ने हार की कतार बनाई वहीं अमलराज ने किया राज

तजुर्बेकार एंथनी अमलराज ने मुख्य ड्रॉ में प्रवेश किया लेकिन बाकी खिलाड़ियों के हाथ निराशा ही लगी।

क़तर ओपन में एंथनी अमलराज (Anthony Amalraj) इस समय भारतीय टेबल टेनिस की उम्मीद अपने कंधों पर लिए चल रहें हैं। बुधवार को इस खिलाड़ी ने दो सिंगल्स और एक डबल्स मुकाबला जीत अपने कौशल का प्रमाण दिया।

इस 37 वर्षीय भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी का सामना रूस किरिल स्चकोवव (Kirill Skachkov) के खिलाफ था। दोनों ही खिलाड़ी हुनरबाज़ हैं लेकिन यह देखना दिलचस्प था कि मौके पर बाज़ी कौन मरता है। इस बार जीत भारत के खेमे में 11-6, 12-14, 11-5, 11-7, 11-13, 11-7 से आई।

मुकाबले के कुछ ही देर बाद अमलराज, साथियान गणानाशेखरन (Sathiyan Gnanasekaran) के साथ मेंस डबल्स टेबल की ओर बढ़े और आसानी से जीत को चूम अपने कारवां को आगे बढ़ाया।

अमलराज/गणानाशेखरन की जोड़ी अब राउंड ऑफ़ 16 मे क्वान किट हो (Kit Ho Kwan) और चुन तिंग वोंग (Chun Ting Wong) के खिलाफ उतरेगी। यह मुकाबला गुरुवार को खेला जाएगा।

साथियान गणानाशेखरन के लिए क़तर ओपन में बुधवार का दिन कुछ खट्टा-मीठा रहा। गणानाशेखरन ने अपना जौहर दिखाते हुए मेंस डबल्स के मुख्य ड्रॉ में प्रवेश किया लेकिन सिंगल्स में वे ऐसा करिश्मा करने में नाकाम रहे।

अपने पहले मैच में गणानाशेखरन ने जापानी पैडलर शुंसुके तोगामी (Shunsuke Togami) को 11-3, 7-11, 11-9, 11-4, 11-8 से हराया और अपने कारवां को पंख प्रदान किए। इसके बाद इस अनुभवी खिलाड़ी ने डबल्स वर्ग में एक और जीत अपाने नाम की लेकिन सिंगल्स में स्पेन के अलवारो रोबल्स (Alvaro Robles) के हाथों शिकस्त का सामना किया।

क़तर ओपन में अमलराज ने उम्दा प्रदर्शन दिखाया। फोटो क्रेडिट: आईटीटीएफ  
क़तर ओपन में अमलराज ने उम्दा प्रदर्शन दिखाया। फोटो क्रेडिट: आईटीटीएफ  क़तर ओपन में अमलराज ने उम्दा प्रदर्शन दिखाया। फोटो क्रेडिट: आईटीटीएफ  

भारतीय महिला टेबल टेनिस का ख़राब दिन

क़तर ओपन में भारतीय वूमेंस टेबल टेनिस मुख्य ड्रॉ में स्थान की प्राप्ति नहीं कर पाईं। सिंगल्स के साथ डबल्स वर्ग में भी भारतीय महिलाओं के हाथ निराशा लगी।

मंगलवार को हुए मुकाबले में सुतीर्था मुखर्जी (Sutirtha Mukherjee) ने आसान जीत दर्ज कर खुद से उम्मीदें बहुत बढ़ा दीं थी लेकिन बुधवार को उन्हें जापानी मीयू काटो (Miyu Kato) के हाथों 12-14, 11-5, 6-11, 2-11, 4-11 से शिकस्त झेलनी पड़ी।

वहीं दूसरी तरफ जापान की ही सकुरा मोरी (Sakura Mori) ने भारतीय कृतविका रॉय (Krittwika Roy) को शानदार खेल दिखाते हुए हराया। मोरी ने इस मुकाबले को 2-11, 4-11, 11-8, 4-11, 2-11 से अपने नाम किया और अपने कारवां को आगे बढ़ाया। एक और भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी श्रीजा अकुला (Sreeja Akula) भी आज हार को अपने खेमे से दूर न रख पाईं और सिंगापोर की मेंग्यू यू (Mengyu Yu) के सामने मुकाबले को गंवा बैठी।

दूसरे राउंड में भारत की मधुरिका पाटकर (Madhurika Patkar) ने वॉक ओवर हासिल कर कारवां को बढ़ाया लेकिन आगे चल कर रोमानिया की एलिसैबेटा समारा (Elizabeta Samara) के खिलाफ 6-11, 7-11, 11-8, 2-11, 11-9, 3-11 से मुकाबला हार गईं। देखते ही देखते क़तर ओपन में भारतीय वूमेंस टेबल टेनिस के सितारों की चमक फीकी पड़ रही थी।

इसके बाद एक बार फिर भारत के गौरव का सम्मान करने मधुरिका पाटकर, श्रीजा अकुला (Sreeja Akula) के साथ टीम बनाकर उतरीं। डबल्स वर्ग में इस भारतीय जोड़ी का सामना स्टेफनी क्रिस्टेंसेन (Stefanie Christensen) और नथाली मार्केटी (Nathalie Marchetti) से हुआ। उम्मीदें बढ़ चुकीं थी, दोनों ही भारतीय खिलाड़ियों के ज़हन में एक ही लक्ष्य था और वो था जीत। हालांकि भारतीय जोड़ी ने खेल तो अच्छा दिखाया लेकिन जीत से वंचित रह गई। 8-11, 11-7, 11-7, 6-11, 7-11 अंक से स्कोर पाटकर /अकुला के खिलाफ गया और क़तर ओपन में भारत के हाथ एक और निराशा आई।

साल 2013 के क़तर ओपन फाइनल में पहुंचे थे हरमीत देसाई 
साल 2013 के क़तर ओपन फाइनल में पहुंचे थे हरमीत देसाई साल 2013 के क़तर ओपन फाइनल में पहुंचे थे हरमीत देसाई 

हरमीत के हाथ जीत नहीं बल्कि आई हार

टेबल टेनिस में भारत की सबसे बड़ी उम्मीदों में से एक हैं हरमीत देसाई (Harmeet Desai)। क़तर ओपन के मेंस डबल्स और मिक्स्ड डबल्स वर्ग में उतरे देसाई को दोनों बार हार का सामना करना पड़ा।

सुश्मित श्रीराम (Sushmit Sriram) के साथ जोड़ी बनाकर उतरे हरमीत देसाई का सामना अलेक्सांदर करेकाशिच (Aleksandar Karakasevic) और लुबोमिर पिस्तेज (Lubomir Pistej) की जोड़ से हुआ। भारतीय टेबल टेनिस जोड़ी ने उम्दा प्रदर्शन दिखाते हुए पहले 3 में से 2 गेमों को अपने नाम किया। कहते हैं न कि खेल कभी कभी सख्त हो जाता है और इसी सख्ती का सामना किया देसाई/ श्रीराम की जोड़ी ने। अचानक अपनी लय को खो देने के बाद स्कोर 11-9, 14-16, 11-8, 5-11, 6-11 अंक से इस जड़ी के खिलाफ गया।

हरमीत देसाई अब मिक्स्ड डबल्स वर्ग में जीत की उम्मीद से उतरें। सुतिर्था मुखर्जी और हरमीत देसाई की जोड़ी का सामना एडम सुडी (Adam Szudi) और सज़ेंड्रा पेर्गेल (Szandra Pergel) से हुआ। भारतीय टेबल टेनिस जोड़ी ने मानों अपने प्रतिद्वंदियों के सामने घुटने टेक दिए और बिना किसी लड़ाई के हार स्वीकार कर ली। क़तर ओपन के हवाले से लगातार भारतीय बैडमिंटन के लिए बुरी ख़बरें आ रही हैं। हालांकि एंथनी अमलराज और साथियान गणानाशेखरन की बदौलत अभी भी भारतीय खेमा आस लगाए बैठा है। आपको बता दें कि अमलराज का अगला लक्ष्य राउंड ऑफ़ 32 में जीत हासिल कर अपने कारवां को आगे बढ़ाने का होगा। इतना ही नहीं, अमलराज, गणानाशेखरन के साथ जोड़ी बनाकर मेंस डबल्स के प्री-क्वार्टरफाइनल में भी शिरकत करते दिखेंगे।

कब और कहां देखें क़तर ओपन ?

आईटीटीएफ वर्ल्ड टूर प्लेटिनम इवेंट, क़तर ओपन का सीधा प्रसारण आईटीटीएफ की वेबसाइट www.ittf.com पर देखा जा सकता है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!