लॉकडाउन के दौरान साथियान गणानाशेखरन को एक रोबोट रख रहा है फिट

ट्रेनिंग पार्टनर्स की अनुपस्थिति में भारतीय पैडलर को एक मशीन से मिल रही है आवश्यक ट्रेनिंग में मदद

लॉकडाउन की वजह से जहां कई एथलीटों ने अपने वर्कआउट को कम कर दिया है और लंबे समय तक अपने खेल से दूर हो गए हैं, वहीं भारतीय टेबल टेनिस स्टार साथियान गणानाशेखरन (Sathiyan Gnanasekaran) ने इसकी कमी न महसूस करने के लिए एक नया रास्ता खोज लिया है।

चेन्नई का ये पैडलर ट्रेनिंग पार्टनर की अनुपस्थिति में अपने कौशल को बनाए रखने में मदद करने के लिए एक स्वचालित रोबोट, बटरफ्लाई एमिकस प्राइम का उपयोग कर रहा है।

सथियान गणानाशेखरन ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि, "रोबोट से मुझे अच्छी ट्रेनिंग मिल रही है और मैं इसके साथ लगभग डेढ़ घंटे अभ्यास करता हूं।"

“ये रोबोट गेंद पर गति और स्पिन उत्पन्न कर सकता है जिसका सामना करना किसी के लिए भी आसान नहीं होता। नतीजतन, मेरी रिसिव करने की क्षमता में सुधार हुआ है, और फ्लेक्सेज़ भी बेहतर हो गए हैं।”

दुनिया में 31वें स्थान पर मौजूद भारतीय टेबल टेनिस स्टार और भारतीय पैडलर्स में सबसे बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक साथियान ने अपने कोच और पूर्व खिलाड़ी सुब्रमण्यम रमन की सलाह पर जर्मनी से रोबोट मंगवाया है।

27 वर्षीय पैडलर अपनी पसंद के हिसाब से मशीन को व्यवस्थित कर सकते हैं और ये मशीन हर मिनट में 100 से अधिक गेंदों को अलग-अलग गति से स्पिन करवा सकती है इसके अलावा ये मशीन टेबल पर सामान्य गति से स्पिन कर सकती है।

ओलंपिक में शानदार शुरुआत करने की कोशिश

2019 में ITTF रैंकिंग के शीर्ष 25 में जगह बनाते हुए पहले भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी बन गए थे, सथियान गणानाशेखरन पिछले साल से अच्छी फॉर्म में हैं।

उन्होंने हंगरीयन ओपन में पुरुषों के युगल वर्ग में अनुभवी अचंता शरत कमल (Achanta Sharath Kamal) के साथ जोड़ी बनाकर रजत पदक जीता। ओलंपिक वर्ष में चोट से बचे रहने के लिए उन्होंने ओमान ओपन से बाहर होने का फैसला किया था।

भारतीय टेबल टेनिस स्टार की वर्तमान रैंकिंग ने उन्हें आसानी से टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करा दिया, जो शायद पिछले कुछ वर्षों में उनके शानदार प्रयासों का ही परिणाम था।

हालांकि, कोरोना वायरस (COVID-19) के प्रकोप ने अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) को एक साल के लिए खेलों को स्थगित करने के लिए मजबूर कर दिया, जिसका मतलब है कि उन्हें कम से कम उस समय तक अपने प्रतिभा को दिखाने का इंतजार करना होगा।

हालांकि सथियान गणानाशेखरन देरी से लिए गए फैसले से हैरान थे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!