ओलंपिक में मनिका बत्रा के साथ खेलने की उम्मीद कर रहे हैं शरत कमल

इस जोड़ी ने साथ मिलकर कई ख़िताब जीते हैं, दोनों की रैंकिंग इतनी अच्छी है कि वो आसानी से ओलंपिक के लिए टिकट हासिल कर सकते हैं।

अचंता शरत कमल (Achanta Sharath Kamal) और मनिका बत्रा (Manika Batra) पहले भी ओलंपिक तक का सफर तय कर चुके हैं, जहां शरत कमल तीन बार ओलंपिक में जा चुके हैं तो वहीं मनिका को पहली बार रियो 2016 ओलंपिक में जाने का मौका मिला था।

हालांकि, कभी भी इस भारतीय टेबल टेनिस स्टार खिलाड़ी को मिक्स डबल्स इवेंट में खेलने का मौका नहीं मिला है, लेकिन वो इस बार ओलंपिक में मनिका बत्रा के साथ मिक्स डबल्स इवेंट में खेलना चाहते हैं।

चेन्नई के इस पैडलर ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि, "सिंगल्स के अलावा, मैं और मनिका बत्रा मिश्रित युगल में भी क्वालिफाई कर सकते हैं। हम दोनों में अच्छा खेल रहे हैं।"

अचंता शरत कमल और मनिका बत्रा व्यक्तिगत रूप से सर्किट पर सर्वश्रेष्ठ टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं और जब वो एक साथ खेलते हैं तो उनके साथ तालमेल बिठाने में आसानी होती है।

इस जोड़ी ने पहली बार 2018 में एशियन गेम्स में जोड़ी बनाई थी और शानदार प्रदर्शन किया था, जहां इस जोड़ी ने अपने विरोधियों को धूल चटाते हुए कांस्य पदक अपने नाम किया था। इस तरह अचंता शरत कमल एक प्रतिष्ठित एशियन गेम्स का पदक जीतने में सफल रहे, जो उनका सपना था।

ये पदक मनिका बत्रा के लिए एक प्रभावशाली करियर की शुरूआत का ऐलान था। बाद में मनिका बत्रा ने अपने पहले राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय टेबल टेनिस महिला टीम को कई स्वर्ण पदक दिलाने में अपनी भूमिका निभाई थी। ये वो उपलब्धि थी, जो उन्होंने सिंगापुर टीम की तिलिस्म को तोड़कर हासिल की थी।

इस जोड़ी ने कई वर्ल्ड टूर इवेंट्स एक साथ खेले हैं, इस साल की शुरुआत में इस जोड़ी ने हंगरी ओपन में सेमीफाइनल तक का सफ़र भी तय किया था। जिसकी बदौलत वो मिश्रित युगल रैंकिंग में शीर्ष 20 खिलाड़ियों में शामिल होने में कामयाब हुए, जो कि टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने के लिए पर्याप्त है।

कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के चलते खेलों को 2021 तक के लिए स्थगित करने के बाद अचंता शरत कमल टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने के लिए अपनी तैयारियों में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते हैं।

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी ने कहा, "मुझे उम्मीद है कि कुछ और टूर्नामेंट और ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स होंगे, जिससे हमें टोक्यो में पदक जीतने का मौका मिल सकेगा।"

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!