French Open: मुख्य ड्रॉ के एक क़दम और क़रीब पहुंची अंकिता रैना

अंकिता रैना शुरुआत में अपनी सर्विस के दौरान जूझ रही थीं, लेकिन उन्हें इससे ज्यादा परेशानी नहीं हुई और वो फ्रेंच ओपन के दूसरे दौर के क्वालिफाइंग दौर में पहुँच गई।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारत की अंकिता रैना (Ankita Raina) ने फ्रेंच ओपन में खेलने के अपने सपने को अभी भी बरकरार रखा है। मंगलवार को महिला सिंगल्स के पहले दौर में सर्बिया की जोवाना जोविक (Jovana Jovic) को 6-4, 4-6, 6-4 से हराकर दूसरे दौर में जगह बनाई।

महिला टेनिस एसोसिएशन (WTA) रैंकिंग में 176वें स्थान पर मौजूद भारतीय टेनिस की शीर्ष महिला खिलाड़ी अंकिता रैना,  जोविक के खिलाफ शुरुआत में पीछे चल रही थीं, लेकिन बाद में वापसी करते हुए उन्होंने 3-1 की बढ़त बना ली।

हालांकि, रैना ने इस साल की शुरुआत में भारतीय टेनिस टीम को अपने पहले फेड कप प्लेऑफ में ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस मुकाबले के छठे गेम में अपना पहला ब्रेक पॉइंट जीतकर वापसी की।

हालांकि अगले गेम में उन्हें हार का सामना करना पड़ा, रैना हार मानने वाली नहीं थीं। जोविक की सर्विस को तीन गेम में दो बार तोड़कर पहला सेट 6-4 से जीता।

दोनों खिलाड़ियों ने दूसरे सेट में बेहतर प्रदर्शन किया, लेकिन अंकिता रैना तीसरे और सातवें गेम को गंवा बैठी और सेट भी हार गईं।

मुकाबले का रोमांच बढ़ चुका था, रैना और जोकोव तीन-तीन बार अपनी सर्विस गंवा चुकी थीं। हालांकि, रैना नौवें गेम में 5-4 की बढ़त लेने में सफल रहीं और उसके बाद अगले गेम में जोविक की सर्विस तोड़कर मैच भी जीत लिया। दो घंटे 45 मिनट तक चला ये मुक़ाबला।

रैना फ्रेंच ओपन के लिए महिला सिंगल्स के दूसरे दौर में जापान की कुरुमी नारा (Kurumi Nara) से खेलेंगी, जो कि 148 वें स्थान पर हैं।

अंकिता रैना फ्रेंच ओपन के महिला सिंगल्स में खेलने से दो जीत दूर हैं। फोटो: Facebook/Ankita Raina।

मुकुंद और बालाजी एटीपी चैलेंजर इवेंट्स से बाहर हो गए

इस दौरान, दो अन्य भारतीय टेनिस खिलाड़ी मंगलवार को यूरोप में पहले दौर में हार गए।

रोमानिया में खेले जा रहे सिबियु ओपन के पुरुष सिंगल्स में शशिकुमार मुकुंद (Sasikumar Mukund) अर्जेंटीना के जुआन मैनुअल सेरंडोलो (Juan Manuel Cerundolo) से 6-4, 7-6 से हार गए।

दूसरी ओर एन श्रीराम बालाजी (N Sriram Balaji), स्विस पार्टनर लुका मार्गोली (Luca Margaroli) के साथ इटली में फ़ॉर्ली चैलेंजर के पुरुष युगल के पहले दौर में हार गए।

बालाजी ने दिविज शरण (Divij Sharan) के साथ चेक ओपन पुरुष युगल के फाइनल में जगह बनाई थी। वहां ये जोड़ी टॉमिस्लाव ब्रिक (Tomislav Brkic) और निकोला कैसिक (Nikola Cacic) की बोस्नियाई-सर्बियाई जोड़ी से 6-3, 6-2 से हार गई।