टाटा ओपन महाराष्ट्र पर छाए ख़तरे के बादल

यह ATP 250 साल 1996 से भारत से आयोजित होता आ रहा है लेकिन इस बार समय के अभाव और कोरोना की वजह से स्थगित किया जा सकता है।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की मानें तो अगले साल पुणे में निर्धारित ATP 250 टाटा ओपन महाराष्ट्र (ATP 250 Maharashtra Open) को ATP कैलेंडर 2021 व्यस्त होने कारण स्थगित किया जा सकता है।

महाराष्ट्र स्टेट लॉन टेनिस एसोसिएशन के सेक्रेटरी सुंदर अय्यर (Sundar Iyer) (Maharashtra State Lawn Tennis Association – MSLTA) ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा “अभी के लिए यह मुश्किल लग रहा है। हम अगले सीज़न के सेकंड हाफ में प्रतियियोगता करना चाहते हैं और हमने इस बारे में ATP से भी बात की है।"

MSLTA महाराष्ट्र ओपन बालेवाड़ी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में प्रतियोगिता का आयोजन करता है।

इंडियन डेली की ख़बर के अनुसार “अभी आयोजक और ATP चर्चा कर रहे हैं। एक विकल्प यह भी बन रहा है कि इस प्रतियोगिता को एक और साल के लिए आगे बढ़ा जाए।”

टाटा ओपन महाराष्ट्र का आयोजन 1996 से भारत में हो रहा है। इस प्रतियोगिता का पहला संस्करण नई दिल्ली में खेला गया था और एक ही साल बाद इसे चेन्नई ले जाया गया था। साल 2018 से इसे पुणे में खेला जा रहा है।

ATP 250 इवेंट में 20 बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन राफेल नडाल (Rafael Nadal) स्टेनिस्लास वावरिंका (Stanislas Wawrinka) और मारिन सिलिक (Marin Cilic) जैसे उम्दा टेनिस खिलाड़ी शिरकत कर चुके हिं और इसे फरवरी के महीने में खेला जाता है।

कोरोना वायरस (COVID-19) के कारण सीज़न की शुरुआत करने वाले इवेंट ‘ऑस्ट्रेलियन ओपन’ को जनवरी से फरवरी ढ़केल दिया गया था जिस वजह से यह टाटा ओपन महाराष्ट्र की तारीखों के साथ जा मिला।

इतना ही नहीं बल्कि ATP ने बायो बबल की मांग रखी है ताकि वह सभी खिलाड़ियों के आगमन पर उन्हें क्वारंटाइन से मुक्त करा सकें।

ग़ौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार ने सभी विदेशी यात्रियों के लिए 14 दिन का क्वारंटाइन अनिवार्य रखा हुआ है और सभी को इसका पालन करना पड़ेगा।

ऐसे में टाटा ओपन महाराष्ट्र के आयोजकों ने ATP अनुरोध किया है कि उन्हें साल के अंत यानी सितम्बर से नवंबर के बीच कराया जा सके। फिलहाल के लिए यह योजना संभव नहीं लग रही है।

सुंदर अय्यर ने आगे बात करते हुए कहा “हम समाधान ढूंढ रहे हैं क्योंकि हम इस प्रतियोगिता का आयोजन करना चाहते हैं, यकीन यह अकेले हम पर निर्भर नहीं करता। हमे अनुमति की ज़रूरत है, यहां सरकर के दिशा निर्देश और यारा के दिशानिर्देशों का पालन करना होगा।”

अभी के लिए यह प्रतियोगिता साल 2021 में होती नहीं दिखाई दे रही है और ऐसा पहली बार होगा कि इस इवेंट को भारत के बाहर आयोजित किया जाएगा।

ग़ौरतलब है कि किसी भी भारतीय टेनिस खिलाड़ी ने टाटा ओपन महाराष्ट्र सिंगल्स नहीं जीता है। 2009 में सोमदेव देववर्मन (Somdev Devvarman) जीत के बेहद करीब आ गए थे लेकिन ट्रॉफी पर अपना नाम लिखने में असफल रहे थे। उस फाइनल मुक़ाबले में उन्हें मारिन सिलिक ने मात दी थी।

इस प्रतियोगिता में स्विस स्टार स्टेनिस्लास वावरिंका के नाम सबसे ज़्यादा सिंगल्स टाइटल हैं। इसके अलावा उन्होंने चेन्नई ओपन में 4 बार एकल ख़िताब को अपने नाम किया है जिसमें वह लगातार तीन बार (2014, 2015 और 2016) विजयी हुए थे।

डबल्स वर्ग में दिग्गज लिएंडर पेस (Leander Paes) और महेश भूपति (Mahesh Bhupathi) ने जोड़ी ने इस इवेंट को 5 बार अपने नाम किया है। इतना ही नहीं साल पेस/भूपति ने साल 1997, 1998, और 1999 में जीत की हैट्रिक भी जड़ी थी।

लिएंडर पेस पेस ने अपना चता ख़िताब 2012 में जीता था और उस समय उनके जोड़ीदार यांको टिप्सरेविच (Janko Tipsarevic) थे।