दिविज शरण और अंकिता रैना ऑस्ट्रेलियन ओपन के डबल्स से हुए बाहर

दिविज शरण को सीधे सेटों में हार के बाद पुरुषों के डबल्स स्पर्धा से बाहर होना पड़ा, जबकि अंकिता रैना भी इस ग्रैंड स्लैम को यादगार नहीं बना सकीं।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारत के दिविज शरण (Divij Sharan) और उनके स्लोवाकियाई साथी इगोर ज़ेलनेय (Igor Zelenay) को गुरुवार सुबह सीधे सेटों में हारने के बाद ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) के पुरुष डबल्स स्पर्धा से बाहर होना पड़ा।

राउंड ऑफ 64 के मुक़ाबले में केविन क्राविएट्ज़ (Kevin Krawietz) और यानिक हाफमैन (Yannick Hanfmann) की जर्मन जोड़ी ने शरण-ज़ेलेने की जोड़ी को 6-1, 6-4 से हाराया।

दिविज शरण और इगोर ज़ेलनेय ने पहले सेट में पहले सर्विस की और वो अपनी सर्विस के दौरान अच्छा खेलते नज़र आए, लेकिन पूरे मैच में इंडो-स्लोवाकिया जोड़ी के लिए सिर्फ सर्विस ही सही ढंग से हो पाई।

हालांकि दूसरे गेम को क्राविएट्ज़ और हनफमैन ने जीतकर स्कोर 1-1 से टाई कर दिया। इसके बाद जर्मन जोड़ी अपनी लय  में लौटी और तीसरे गेम में भी अपने नाम कर 2-1 से बढ़त ले ली।

जर्मन जोड़ी ने चौथे गेम में भी शानदार खेल दिखाया और इंडो-स्लोवाकिया जोड़ी के खिलाफ 4-1 से बढ़त हासिल कर ली।

इंडो-स्लोवाकियाई जोड़ी को छठे गेम में वापसी करने का सबसे अच्छा मौका मिला, जहां उन्होंने तीन ब्रेक पॉइंट अर्जित किए। हालांकि जर्मन जोड़ी ने प्रत्येक को बचाने और सर्विस करने के लिए काफी मेहनत की।

उसके बाद इंडो-स्लोवाकिया जोड़ी ने हथियार डाल दिया और जर्मन जोड़ी ने पहले सेट 6-1 से जीत लिया।

दूसरे सेट में दिविज शरण और इगोर ज़ेलनेय ने बहुत सुधार किया।

दोनों जोड़ियों ने पहले आठ गेम तक शानदार खेल दिखाया। लग रहा था कि इंडो-स्लोवाकियाई जोड़ी वापसी करने में सफल हो जाएगी।

शरण-ज़ेलनेय ने कोशिश भी बहुत की लेकिन मैच के साथ साथ जर्मन जोड़ी अपनी पकड़ मजबूत करती गई और दूसरा सेट 6-4 से अपने नाम कर लिया।

अंकिता रैना को भी पहले दौर में मिली हार

दूसरी ओर अंकिता रैना (Ankita Raina) भी इस ग्रैंड स्लैम को खास नहीं बना सकीं और रोमानिया की साथी मिहैला बुज़ारनेस्कु (Mihaela Buzarnescu) के साथ ऑस्ट्रेलियन ओपन महिला डबल्स से बाहर हो गई।

रैना-बुज़ारनेस्कु पहले दौर में बेलिंडा वूलक (Belinda Woolcock) और ओलिविया गेडेकी (Olivia Gadecki) की स्थानीय जोड़ी से 6-3, 6-0 से हार गईं।

अंकिता रैना किसी ग्रैंड स्लैम के मुख्य ड्रॉ में जगह बनाने वाली सिर्फ पाँचवीं भारतीय महिला हैं। रैना ने पहली बार मिहैला बुज़ारनेस्कु के साथ जोड़ी बनाई थी और इसका असर भी शुरुआती दौर में दिखा।

रैना-बुज़ारनेस्कु ने चौथे गेम को जीतने से पहले तीन गेम गवां चुकी थीं। हालांकि लगातार दो गेम जीतकर वूलकॉक और गेडेकी ने 5-1 की बढ़त बना ली।

हालाँकि, सातवें गेम में इंडो-रोमानियाई जोड़ी ने फिर से संघर्ष किया और इस गेम में फोरहैंड डाउन-द-लाइन और मिड-कोर्ट शॉट्स का शानदार तालमेल देखने को मिला। रैना-बुज़ारनेस्कु ने चार ब्रेक प्वाइंट हासिल किए और इस गेम को जीतकर स्कोर 2-5 कर दिया।

आठवें गेम में भी इंडो-रोमानियाई जोड़ी का शानदार खेल देखने को मिला और उस गेम को भी जीतकर उन्होंने स्कोर 3-5 कर दिया। हालांकि अगला गेम वूलकॉक और गेडेकी ने जीत तक सेट अपने नाम कर लिया।

अंकिता रैना और मिहैला बुजारनेस्कु ने दूसरे सेट में एक भी गेम नहीं जीता और ऑस्ट्रेलियाई जोड़ी ने दूसरा सेट 6-0 से अपने नाम कर लिया।