दिविज शरण शारीरिक और मानसिक फिटनेस के साथ परिवार पर दे रहे ध्यान 

एटीपी टूर जून की शुरुआत में ही स्थगित कर दिए गए थे, भारतीय टेनिस खिलाड़ी इस समय का बेहतर इस्तेमाल करने की उम्मीद कर रहे हैं। 

कोरोना वायरस महामारी ने दुनियाभर के अधिकांश एथलीटों को प्रभावित किया है। ओलंपिक क्वालिफिकेशन इवेंट्स को स्थगित किए जाने के बाद खिलाड़ी ऐसे कठिन समय के दौरान सक्रिय और फिट रखने के तरीके खोजने की कोशिश करेंगे। भारतीय टेनिस खिलाड़ी दिविज शरण के लिए भी यह स्थिति कुछ अलग नहीं है।

जनवरी में कतर ओपन में न्यूज़ीलैंड के आर्टेम सिताक के साथ 2020 की शुरुआत करने के बाद इस भारतीय खिलाड़ी के डेविस कप में क्रोएशिया के खिलाफ हुए मुकाबले के बाद इस सत्र को एक अलग मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया, क्योंकि इसके बाद सभी टेनिस आयोजनों को स्थगित कर दिया गया।

इसके बाद जल्द ही एटीपी ने भी टूर को 7 जून तक के लिए स्थगित कर दिया, जिसने दिविज़ शरण को काफी लम्बे समय तक के लिए कोर्ट से दूर कर दिया। लेकिन इस भारतीय को इससे कोई शिकायत नहीं है। शरण ने फ़र्स्टपोस्ट के साथ हुए साक्षात्कार में बताया, “मैंने बहुत से टूर में हिस्सा लिया है, लेकिन मैंने परिवार के साथ इतना समय कभई नहीं बिताया है। इसलिए अभी उन्हीं के साथ समय बिता रहा हूं।”

दिविज शरण के लिए मानसिक और शारीरिक फिटनेस के मायने

परिवार के साथ समय बिताने के अलावा, यह विराम दिविज शरण के लिए फिटनेस और खेल पर काम करने का एक अवसर है। उन्होंने कहा, "टेनिस खिलाड़ी के रूप में हम पूरे साल टूर्नामेंट खेलते हैं इसलिए मुझे लगता है कि यह समय है कि हम उन चीजों पर सुधार करें, जिन पर हमें काम करने की जरूरत है।"

“हमारा ऑफ-सीज़न आमतौर पर दो या तीन सप्ताह का होता है और फिर हमें आगे बढ़ते रहना होता है। मैं इस लंबे समय का उपयोग शारीरिक और मानसिक फिटनेस पर काम करने के लिए करूंगा।

यदि आप तीन सप्ताह के लिए अपनी फिटनेस पर काम करते हैं, तो कुछ सुधार दिखेगा। लेकिन अगर आपके पास छह सप्ताह हैं, जो टेनिस में मिलना बहुत आम नहीं है, तो मुझे लगता है कि आप बहुत अधिक सुधार कर सकते हैं।”

“ऐसा कुछ है जिसे मैं करना चाहूंगा। मुझे पता है कि यह एक कठिन स्थिति है, लेकिन मैं हालातों को सकारात्मक देखना पसंद करता हूं और हर स्थिति में सबसे अधिक प्रयास करने की कोशिश करता हूं।”

दिविज शरण और सीताक के लिए यह सत्र अभी तक अच्छा नहीं रहा है। इंडो-कीवी जोड़ी ने अब तक चार क्वार्टर-फाइनल में जगह बनाई है। लेकिन हर बार राउंड-ऑफ 16 में यानी दूसरे दौर के बाद आगे बढ़ने में असफल रही है। इसके बाद इन दोनों ने क्ले-कोर्ट मुकाबलों से पहले खुद को अलग करने का फैसला किया।

“हमें कुछ अच्छी जीत मिली हैं लेकिन हम किसी भी टूर्नामेंट में बहुत बेहतर नहीं कर पाए हैं। आप किसी के साथ जोड़ी तभी बनाते हैं जब आप सोचते हैं कि आप उस व्यक्ति के साथ अच्छा करेंगे।”

उन्होंने आगे कहा, “मैंने सिताक के साथ खेलते हुए कुछ अच्छे परिणाम हासिल किए हैं। हमने दो साल पहले विंबलडन के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी और उसके साथ खेलना मज़ेदार रहा। हमने अपनी पूरी कोशिश की और चीजें हमारे अनुसार रही हैं, इसलिए मुझे लगता है कि हम एक ब्रेक ले रहे हैं और शायद भविष्य में फिर साथ खेलेंगे।”

भविष्य को लेकर चिंतित नहीं हैं दिविज शरण

यदि सीज़न योजनाओं के अनुसार जाता है तो दिविज शरण और रोहन बोपन्ना क्ले-कोर्ट सीज़न में एक साथ खेलते हुए देखे जा सकते हैं। इसके साथ ही यह जोड़ी टोक्यो ओलंपिक में भी जगह बनाने की कोशिश करेंगे।

खेल की दुनिया में अनिश्चितताओं के बादल छाए रहने के कारण, दिविज शरण ने इन सभी चीजों के बारे में चिंता न करने का फैसला किया है। उनका मानना है कि यह सब उनके हाथों में नहीं हैं। सही मायने में यह खुद को तैयार करने के लिए एक बेहतर दिनचर्या बनाने पर ध्यान केंद्रित करने का मौका देता है।

दुनिया के 56वें नंबर के खिलाड़ी ने कहा, "टेनिस खिलाड़ियों के रूप में यह आसान नहीं है क्योंकि हम बहुत सारे टूर्नामेंट खेलने के आदी हैं। ऐसा लगता है कि अभी बहुत समय है। बहुत सी चीजें हैं जिन पर मैं काम कर सकता हूं और घर पर रहते हुए भी इनमें सुधार कर सकता हूं। इसलिए मुझे लगता है कि मैं एक अच्छी दिनचर्या बनाने की योजना बनाऊंगा और ट्रैक पर बने रहने के लिए अपनी प्रगति और सुधार की निगरानी करता रहूंगा। क्योंकि यह इतना लंबा समय है, इसलिए इसे थोड़ा-थोड़ा करते हुए खत्म करना आसान है। अब यह एक मुश्किल काम नहीं है।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!