लिएंडर पेस ने अटलांटा 1996 के साथ साथ अगासी और सम्प्रास को एक बार फिर किया याद

टेनिस दिग्गज ने अटलांटा खेलों में भारत के लिए 44 साल के व्यक्तिगत ओलंपिक पदक सूखे को समाप्त किया था।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

7 बार के ओलंपियन लिएंडर पेस (Leander Paes) ने साल 1996 के अटलांटा ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करवा लिया था। वैसे भी भारत ने व्यक्तिगत पदक बहुत कम जीते हैं इसलिए इस लिस्ट में आना गर्व की बात है।

बड़े होकर हमेशा ओलंपिक पदक जीतना और अपने पिता वेस पेस (Vece Paes) के नक्शेकदम पर चलना उनका सपना था, जो 1972 के ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम का हिस्सा था।

लिएंडर पेस ने सोनी स्पोर्ट्स के फेसबुक पेज पर द मेडल ऑफ ग्लोरी नाम के शो पर बताया कि मैं "हर रविवार मैं अपने पिता के ओलंपिक पदक को पॉलिश करता था। मेरे लिए ओलंपिक पदक जीतना हमेशा गर्व की बात रहेगी हालांकि मेरे पिता बोल सकते हैं कि पहले उन्होंने ओलंपिक मेडल जीता था।”

अटलांटा ओलंपिक पेस के करियर का दूसरा ओलंपिक खेल था, इससे पहले उन्होंने साल 1992 बार्सिलोना ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व किया था। पेस ने पहले भी इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि कैसे उन्होंने अटलांटा खेलों के लिए सावधानीपूर्वक प्रशिक्षण लिया और अपने आपको उस स्थान के लिए तैयार किया। हालांकि, अटलांटा पहुंचने और ड्रॉ देखने के बाद, उनकी उम्मीद और आत्मविश्वास डगमगाने लगा था।

कठिन ड्रॉ से शुरुआत

पेस ने बताया कि “जब मैं अटलांटा गया और मैंने पीट सम्प्रास (Pete Sampras) को आकर्षित किया। वह उस समय शीर्ष खिलाड़ी थे। मेरे साथी मुझ से कह रहे थे कि यह कठिन ड्रॉ है, अगले ओलंपिक के लिए में अच्छी किस्मत से आना। किसी को विश्वास नहीं था कि मैं सम्प्रास को हरा सकता हूं।"

पीट सम्प्रास उस समय दुनिया के नंबर वन खिलाड़ी के साथ साथ गोल्ड जीतने के प्रबल दावेदार भी थे, हालांकि कठिन ड्रॉ के बाद किस्मत में बदलाव आया जो पेस के लिए कुछ राहत लेकर आया।

पेस ने बताया कि “जिस दिन मैं उनके खिलाफ खेलने वाला था उससे पहले शाम 6 बजे, सम्प्रास ने ओलंपिक से अपना नाम वापस ले लिया। ऐसी अफ़वाहें थीं कि उनका कोई प्रायोजक आधिकारिक ओलंपिक प्रायोजक नहीं था। यह राहत की बात थी कि मुझे सबसे अच्छा खिलाड़ियों में से एक के खिलाफ नहीं खेलना था।"

सम्प्रास के बजाय रिची रेनेबर्ग (Richey Reneberg) ओलंपिक में पेस के पहले प्रतिद्वंदी बनें और भारतीय दिग्गज ने उन्हें तीन सेटों में हरा दिया।

आंद्रे अगासी के साथ मैच

इस खिलाड़ी का सबसे यादगार मैच आंद्रे अगासी (Andre Agassi) के खिलाफ सेमीफाइनल मैच था, पेस के अनुसार उस मैच को मैं कभी नहीं भूल सकता।

पेस ने उस लम्हे को याद करता हुए बताया कि “अगासी खेल के एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी थे और परिस्थितियों को संभालने के लिए उनकी मानसिक योग्यता वास्तव ज़बर्दस्त थी पहले सेट में मेरे दो सेट पॉइंट थे और हम दोनों जानते थे कि जिसने भी सेट जीता वह मैच में हावी रहेगा और मैच में कंट्रोल करेगा।”

भारतीय स्टार ने बताया कि “पहले सेट में 5-6 से आगे चल रहे पेस ने कहा कि उसकी सर्व पर मैंने बैंकहैंड से उसे मात दी। मैं हर शॉट के लिए तैयार था। मैं क्रॉस-कोर्ट शॉट, डाउन द लाइन पास, ड्रॉप या डाइव वॉली, बैकहैंड और फोरहैंड स्मैश, मैं लॉबड शॉट्स को भी कवर कर सकता था”

इसके बाद उन्होंने कहा कि "उन सभी क्षेत्रों को कवर करने के बावजूद, मैंने अपने जबड़े कवर नहीं किया और अगासी का शॉट सीधा मेरे चेहरे पर आया। मैं इसके लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं था। तब तक मैं केवल एक बैकहैंड वॉली खेल सकता था।”

चोट के बावजूद कांस्य जीता

पेस ने आगे के सफर के बारे में याद करते हुए कहा कि, ”मेरी कलाई कमजोर थी और मेरी कलाई से लेकर कोहनी तक चोट थी। मुझे अच्छे से याद है कि मेरा रैकेट मेरे हाथ से छूट गया क्योंकि मैं शॉट से चूक गया था।"

सेमीफाइनल में हार के बाद पेस को अब कांस्य पदक मैच में चोट से निपटना था लेकिन सौभाग्य से, उसके पास ठीक होने के लिए एक पूरा दिन था। इस महान खिलाड़ी ने बताया कि अगासी से अपना सेमीफाइनल मैच हारने के बाद मुझे अपना एमआरआई करवाना पड़ा। कांस्य पदक के प्लेऑफ मैच से पहले मुझे मेरा हाथ सही करना था लेकिन अच्छी बात ये रही कि फर्नांडो मेलिगैनी (Fernando Meligeni) के खिलाफ मुझे एक दिन का समय मिल गया।

44 साल में भारत के लिए पहले व्यक्तिगत ओलंपिक पदक लाने के लिए पेस ने फर्नांडो मेलिगैनी के खिलाफ एक सेट में पीछे होने के बावजूद मैच जीता। अटलांटा खेलों में भारत के पदक के सूखे के 46 साल पूरे होने के बाद भारत ने उसके बाद होने वाली हर ओलंपिक में कम से कम एक मेडल पर तो कब्जा किया ही है।