फ्रेंच ओपन डबल्स से हारकर बाहर हुए दिविज शरण

शरण और उनके जोड़ीदार क्वोन सून-वू रोलैंड गैरोस के पहले राउंड में तीन सेटों से हारकर बाहर हो गए।

लेखक रितेश जायसवाल ·

दिविज शरण (Divij Sharan) को ग्रैंड स्लैम में लगातार दूसरी बार शुरुआती दौर में हार का सामना करना पड़ा, क्योंकि वह बुधवार को फ्रेंच ओपन के पुरुष युगल में हारकर बाहर हो गए।

शरण और उनके दक्षिण कोरियाई जोड़ीदार क्वोन सून-वू को फ्रेंको स्कोगर (Franko Skugor) और ऑस्टिन क्राजिस्क (Austin Krajicek) की क्रोएशियाई-अमेरिकी जोड़ी से 2-6, 6-4, 4-6 से हार का सामना करना पड़ा।

स्कोगर-क्राजिस्क की जोड़ी ने शुरुआती गेम को सर्विस के दम पर जीत लिया, इसके बाद शरण-क्वोन की जोड़ी ने अपने सर्विस गेम में एक ब्रेक पॉइंट का सामना किया, लेकिन वह इससे उबरने में सफल रहे और पहले सेट को 1-1 से बराबर कर लिया।

छठे गेम में सर्विस का एक महत्वपूर्ण ब्रेक देखने को मिला, जहां शरण-क्वोन की जोड़ी को ब्रेक का बचाव करने का कोई मौका नहीं दिया और उनके विरोधियों ने पहली बार 4-2 की बढ़त हासिल करने में कामयाबी हासिल की।

स्कोगर-क्राजिस्क की जोड़ी ने उसके बाद अपनी सर्विस की और फिर आठवें गेम में एक बार फिर इंडो-कोरियाई जोड़ी को ब्रेक करके पहला सेट 6-2 से जीत लिया।

शरण-क्वॉन की जोड़ी ने दूसरे सेट में वापसी की और तीसरे गेम में अपने विरोधियों की सर्विस को ब्रेक करते हुए 2-1 की बढ़त बना ली। इस एक ही ब्रेक के दम पर शरण-क्वोन की जोड़ी ने दूसरा सेट जीत लिया।

दोनों टीमों ने तीसरे सेट में बराबर का दबाव बनाए रखा और नौवें गेम तक सर्विस बदलती रही। हालांकि, शरण-क्वॉन की जोड़ी महत्वपूर्ण दसवें गेम में ब्रेक हो गई और दूसरे दौर में आगे बढ़ने के लिए स्कोगर-क्राजिस्क की जोड़ी ने बहुत ही करीबी मुक़ाबले में जीत हासिल कर ली।

आपको बता दें, अनुभवी रोहन बोपन्ना (Rohan Bopanna) एकमात्र भारतीय टेनिस खिलाड़ी हैं जो अभी भी फ्रेंच ओपन में बने हुए हैं, वह कनाडा के डेनिस शापोवालोव (Denis Shapovalov) के साथ गुरुवार को अपने पुरुष युगल अभियान की शुरुआत करेंगे, जहां उनका सामना जैक सॉक (Jack Sock) और वासेक पोस्पिसिल (Vasek Pospisil) की जोड़ी से होगा।

रामकुमार की बेला की चुनौती समाप्त

भारतीय टेनिस खिलाड़ी रामकुमार रामनाथन और स्पैनिश पार्टनर सर्जियो मार्टोस गॉर्नेस इटली के एटीपी चैलेंजर बायला में हार्री हेलियोवेर्रा और सिजोन वॉको से पुरुष युगल के क्वार्टर फाइनल में 7-6, 6-4 से हार गए।

रामनाथन को इससे पहले मंगलवार को पुरुष एकल में 6-4, 6-2 से हराकर दूसरी वरीयता प्राप्त क्रिस्टोफर ओ'कोनेल को राउंड ऑफ-32 में हार का सामना करना पड़ा था। इसने सुमित नागल और प्रजनेश गुणेश्वरन की हार के बाद भारत की एकल चुनौती को समाप्त कर दिया।

बेला में शेष एकमात्र भारतीय एन श्रीराम बालाजी बचे हैं। तीसरी वरीयता प्राप्त बालाजी और स्विस जोड़ीदार लुका मार्गारोली गुरुवार को अपना क्वार्टर फाइनल अलेक्जेंडर मेरिनो और जुआन पाब्लो वरिलस की पेरू जोड़ी के खिलाफ खेलेंगे।