एटीपी की नई रैंकिंग प्रणाली से भारतीय टेनिस स्टार प्रजनेश गुणेश्वरन को मिलेगा फ़ायदा

COVID-19 महामारी के मद्देनज़र ATP का संशोधित रैंकिंग फ़ॉर्मूला खिलाड़ियों को 12 के बजाय 22 महीने तक अंक जुटाने में मदद करेगा। गुणेश्वरन अब यूएस ओपन पर नज़र गड़ाए हुए हैं ।

विश्व टेनिस निकाय ने कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के बीच एक संशोधित रैंकिंग प्रणाली की घोषणा की है, जिसके बाद 2019 में खेले जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण टूर्नामेंट से भारतीय टेनिस खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन (Prajnesh Gunneswaran) कुछ और अंक प्राप्त करने की उम्मीद कर रहे हैं।

नए नियमों के अनुसार एसोसिएशन ऑफ टेनिस प्रोफेशनल (ATP) ने पारंपरिक 52-सप्ताह (जिसमें 12-महीने तक की अवधि होती थी) की समय-अवधि को 22 महीने तक बढ़ा दिया है, जहां खिलाड़ियों के सर्वश्रेष्ठ 18 परिणामों को गिना जाएगा। इस तरह अब अवधि मार्च 2019 से दिसंबर 2020 तक है।

प्रजनेश गुणेश्नवरन ने 2019 अनिंग चैलेंजर्स के फ़ाइनल में पहुंचते हुए 75 प्वाइंट्स हासिल किए थे।
प्रजनेश गुणेश्नवरन ने 2019 अनिंग चैलेंजर्स के फ़ाइनल में पहुंचते हुए 75 प्वाइंट्स हासिल किए थे।प्रजनेश गुणेश्नवरन ने 2019 अनिंग चैलेंजर्स के फ़ाइनल में पहुंचते हुए 75 प्वाइंट्स हासिल किए थे।

प्रजनेश गुणेश्वरन ने पिछले साल अप्रैल में अपने करियर की सर्वोच्च एटीपी रैंकिंग (75) हासिल की थी, इसके अलावा वह प्रभावशाली प्रदर्शन करते हुए अनिंग चैलेंजर्स के फाइनल में पहुंचे थे। चेन्नई के इस खिलाड़ी को नई प्रणाली के तहत कुछ और अंक हासिल करने की उम्मीद है।

प्रजनेश गुणेश्वरन ने ओलंपिक चैनल को बताया कि,’’मेरे लिए अच्छी ख़बर ये है कि इंडियन वेल्स, मियामी और अनिंग में टूर्नामेंट के अंक अब गिने जाएंगे। जिसके बाद सभी टूर्नामेंट को इस साल के लिए रोक दिया गया था।’’

एटीपी की संशोधित रैंकिंग प्रणाली पर प्रतिक्रिया देते हुए 30 वर्षीय टेनिस खिलाड़ी ने कहा कि,’’शायद ये एक फ़ायदा है जो मुझे मिल रहा है। लेकिन मैं इस बात को भी बता देना चाहता हूं कि मार्च में मेरे द्वारा प्राप्त किए गए अंक नहीं जोड़े जाएंगे।’’

हालांकि संशोधित प्रणाली खिलाड़ियों को सबसे अच्छा 18 प्रदर्शन प्राप्त करने के लिए एक लंबी अवधि देती है, एक खिलाड़ी एक ही टूर-स्तरीय टूर्नामेंट को दो बार गिन नहीं सकता है। उस स्थिति में, उन दो परिणामों में से बेहतर को गिना जाएगा।

यूएस ओपन पर है प्रजनेश की निगाहें

सुरक्षा कारणों की वजह से इस वर्ष प्रतिस्पर्धा करने के लिए अनिच्छुक खिलाड़ियों के लिए रैंकिंग प्रणाली को संशोधित करने का निर्णय लिया गया। टेनिस कैलेंडर में अभी भी दो ग्रैंड स्लैम और तीन एटीपी मास्टर्स 1000 इवेंट शामिल हैं।

प्रजनेश गुणेश्वरन मानते हैं कि रैंकिंग प्रणाली का सबसे बड़ा फायदा बड़े-इवेंट विजेताओं को हुआ है। वो साल के आखिर में यूएस ओपन में प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार हैं।

प्रजनेश गुणेश्वरन ने कहा,’’फ़ायदा उन खिलाड़ियों को हुआ है, जिन्होंने एटीपी 500 जैसे बड़ी इवेंट्स को जीता है - उन्हें उन अंको का लाभ मिलेगा मुझे विदेश यात्रा के बारे में सोचना पड़ेगा, लेकिन मैं उत्सुक हूँ।’’

उन्होंने कहा कि,’’मेरी भविष्य की योजना यूएस ओपन के होने पर निर्भर करती है क्योंकि ये पहली कॉल होगी। बाकी सब कुछ उतना महत्वपूर्ण नहीं है।’’

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!