2021 ATP कैलेंडर से महाराष्ट्र ओपन का पत्ता साफ़

भारत के एकमात्र ATP 250 इवेंट को 8 फरवरी से शुरू होने वाले ऑस्ट्रेलियन ओपन के चलते रोका गया।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

समय बदल गया है और ज़ाहिर तौर पर इसका प्रभाव खेल पर भी पड़ा है। भारत का एकमात्र ATP 250 इवेंट यानी महाराष्ट्र ओपन (Maharashtra Open) को अब रद्द कर दिया गया है। पहले इस प्रतियोगिता का आयोजन जनवरी और फरवरी में होना था।

नए सीज़न के पहले 7 हफ़्तों का शेड्यूल आ चुका है और उसमें महाराष्ट्र ओपन को विंडो नहीं दी गई है। इसका मुख्य कारण ऑस्ट्रेलियन ओपन (Australian Open) है और उसके लिए सभी खिलाड़ियों और स्टाफ को क्वारंटाइन का पालन करना होगा।

सीज़न का ग्रैंड स्लैम मेलबर्न में 8 फरवरी से खेला जाएगा। इस विषय पर सुंदर अय्यर (Sundar Iyer) महाराष्ट्र स्टेट लॉन टेनिस एसोसिएशन (Maharashtra State Lawn Tennis Association – MSLTA) के सेक्रेटरी ने माना कि संगठन महाराष्ट्र ओपन को सर्दियों के समय में कराना चाहते हैं लेकिन वह भी कोरोना वायरस पर निर्भर करेगा।

सुन्दर अय्यर ने ओलंपिक चैनल से बात करते हुए कहा “यह ATP द्वारा दिया गया हुआ एक विकल्प है लेकिन इसमें सिर्फ ATP का ही योगदान नहीं है।”

“हमें यह देखना होगा कि पुणे में महामारी का स्तर क्या है। वहां की स्थानीय अधिकारी क्या हमें आगे बढ़ने के संकेत देंगे। इस बारे में बातें चल रही हैं लेकिन अभी कुछ कहना मानों जल्दबाज़ी होगी।”

महारष्ट्र ओपन के साथ-साथ एएसबी क्लासिक (ASB Classic) और न्यू यॉर्क ओपन (New York Open) भी ऐसे ATP 250 हैं जिन्हें रद्द कर दिया गया है।

भारत ने ATP 250 महाराष्ट्र ओपन पहली बार 1996 में होस्ट किया था और तब से लेकर अब तक व भारतीय टेनिस का हिस्सा रहा है।

पहला संस्करण दिल्ली में आयोजित किया गया था और उसके बाद इसे चेन्नई के कोर्ट पर उतारा गया। महाराष्ट्र ओपन को पुणे में पहली बार साल 2018 में आयोजित कराया गया।

इस प्रतियोगिता को ज़्यादातर ऑस्ट्रेलियन ओपन से पहले होस्ट किया जाता है और इसके मायनें तब बढ़ जाते हैं जब इसमें राफेल नडाल (Rafael Nadal), कार्लोस मोया (Carlos Moya), स्टेनिस्लास वावरिंका (Stanislas Wawrinka) और मारिन सिलिक (Marin Cilic) जैसे दिग्गज टेनिस स्टार हिस्सा लेते हैं।

इस इवेंट में भारत की सफलता केवल डबल्स वर्ग में आई हैं। वहीं सिंगल्स में सोमदेव देववर्मन (Somdev Devveram) एकमात्र ऐसे भारतीय टेनिस खिलाड़ी रहे हैं जो जीत के बेहद करीब आए हैं।

इनके अलावा महेश भूपति (Mahesh Bhupati) और लिएंडर पेस (Leander Paes) की जोड़ी ने इस इवेंट में अपना दबदबा लंबे अरसे तक बनाया और अपने नाम 5 ख़िताब भी किए। इतना ही नहीं इस भारतीय जोड़ी ने 1997, 1998 और 1999 में जीत की हैट्रिक भी बनाई।

अय्यर ने आगे कहा “हम पिछले साल ATP चैलेंजर को गंवा बैठे लेकिन हम इस बार वापसी करेंगे। हम पिछले 6 साल से चैलेंजर इवेंट कर रहे हैं और यह एक ऐसी चीज़ है जिसे लेकर हम इच्छुक हैं।”