दुनिया की नंबर 2 टीम अर्जेंटीना के खिलाफ भारतीय महिला हॉकी टीम को करीबी मुक़ाबला में मिली हार

युवा खिलाड़ी शर्मिला और डिफेंडर गुरजीत कौर ने अर्जेंटीना की सीनियर टीम के खिलाफ भारत के लिए दो गोल किए, अर्जेंटीना दुनिया की दूसरे नंबर की टीम है।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women’s Hockey Team) इस समय अर्जेंटीना (Argentina) में हैं, जहां उन्हें 8 मैच खेलने हैं। टीम ने अभी तक 5 मुक़ाबले खेल लिए हैं लेकिन जीत अभी भी भारतीय दल से कोसों दूर है।

मंगलवार को भारत ने दुनिया की नंबर 2 टीम अर्जेंटीना के खिलाफ एक अच्छी कोशिश की, लेकिन अंतिम समय में दो गोल खाने से टीम को 3-2 से हार का सामना करना पड़ा।

हालांकि अर्जेंटीना दौरे पर ये भारतीय महिला टीम का पांचवां मैच था, लेकिन ऐसा पहली बार हुआ जब भारतीय टीम अपनी पूरी ताकत के साथ अर्जेंटीना की सीनियर टीम के खिलाफ मैदान पर उतरी।

भारत ने अर्जेंटीना की जूनियर टीम के खिलाफ पहले दो मैच ड्रॉ किया था, उसके बाद अर्जेंटीना B के खिलाफ भारतीय महिला टीम को अगले दो मैचों में हार का सामना करना पड़ा था।

सीनियर्स के खिलाफ मुक़ाबले में अर्जेंटीना ने शुरुआती दौर में भारतीयों को बैक फुट पर रखा। लेकिन गोलकीपर सविता पूनिया (Savita Punia) ने कुछ शानदार बचाव किए।

सविता और भारतीय डिफेंस ने मिलकर शानदार खेल दिखाया और गोल से अर्जेंटीना की खिलाड़ियों के दूर ही रखा। लेकिन 25 वें मिनट में अर्जेंटीना के मीकाएला रेतेजी (Micaela Retegui) ने उस किले को भेद दिया और टीम को बढ़त दिला दी।

हाफ-टाइम के बाद तीसरे क्वार्टर में भारतीय टीम नए तेवर में नज़र आई, जिसका उन्हें इनाम भी मिला और नवजोत कौर (Navjot Kaur) के पास को 34 वें मिनट में शर्मिला (Sharmila) ने गोल में डाल कर टीम को बराबरी पर ला दिया, जिसके 6 मिनट बाद गुरजीत कौर (Gurjit Kaur) ने गोल कर भारत को 2-1 से बढ़त दिला दी।

मैच में पिछड़ने के बाद अर्जेंटीना ने अंतिम क्वार्टर में शानदार जवाब दिया। अर्जेंटीना के हमले को असफल करने के लिए भारतीय डिफेंडर्स ने अपना शानदार प्रयास किया, बावजूद मैच के 50वें मिनट में मेजबान टीम ने पेनल्टी स्ट्रोक जीता, जिसे ऑगस्टिना गोरज़ेलनी (Augustina Gorzelany) ने तुरंत गोल में बदल दिया।

अंतिम सीटी बजने के तीन मिनट पहले अर्जेंटीना के फारवर्ड ग्रेनाटो मारिया (Granatto Maria) ने भारत के खिलाफ अपनी टीम का तीसरा गोल करते हुए 3-2 से बढ़त दिला दी।

भारत के मुख्य कोच शोर्ड मारिन (Sjoerd Marijne) ने मैच के बाद कहा, "हम जीत के करीब थे, लेकिन अर्जेंटीना जैसे प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ, आपको अंतिम हूटर तक मैच में ध्यान केंद्रित करना पड़ेगा। इस मैच से सबसे बड़ा अंतर निरंतरता को बनाए रखना है।”

उन्होंने आगे कहा, “अर्जेंटीना जैसी टीम के खिलाफ आपको एक जीत हासिल करने के लिए एक गोल से अधिक के लिए प्रयास करना होगा। नहीं तो वो मैच में हावी हो जाएंगे। हमारे लिए ये अच्छा सबक है, और यही हम अगले खेल में सुधार करना चाहते हैं।”

भारतीय महिला हॉकी टीम 29 जनवरी को फिर से अर्जेंटीना की सीनियर टीम से खेलेगी।