व्यक्तिगत विश्व कप में कांस्य पदक जीतने से बस एक जीत दूर पिंकी 

व्यक्तिगत विश्व कप में भारतीय पहलवान 55 किलोग्राम महिला कुश्ती के सेमीफाइनल में हारने के बाद कांस्य पदक के लिए मैट पर उतरेंगी।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

भारतीय पहलवान पिंकी (Pinki) मंगलवार को सर्बिया के बेलग्रेड में चल रहे व्यक्तिगत विश्व कप (Individual World Cup) के कांस्य-पदक मुकाबले मैट पर उतरेंगी।

बेलग्रेड में सोमवार को 55 किग्रा वर्ग में मौजूदा एशियाई चैंपियन पिंकी सेमीफाइनल में बेलारूस की इरिना कुराचकिना (Iryna Kurachkina) से हार गई थीं।

कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के कारण 10 महीने के ब्रेक के बावजूद, पिंकी लय में नज़र आ रही थीं। उन्होंने यूक्रेन की टेटयाना किट (Tetyana kit) को 3-1 से हराकर अंतिम-चार का टिकट हासिल किया था।

हालांकि सेमीफाइनल में भारतीय पहलवान इरीना कुराचकिना के खिलाफ उस लय को बरकरार नहीं रख सकीं। 2019 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता ने 6-1 से हराकर फाइनल में जगह बनाई।

बिना कोई समय बर्बाद करते हुए बेलारूसी पहलवान शुरुआत से ही पिंकी के ऊपर हावी दिखीं और जल्द ही एक अच्छे टेकडाउन के साथ अपना खाता खोला।

इसके बाद इयरना कुराचकिना को मुश्किल से ही डिफेंस करते देखा गया। उन्होंने भारतीय पहलवान को भी शुरुआती दौर में एक बेहतरीन मौका दिया था।

जबकि भारतीय पहलवान आक्रमण की कोशिश करती रहीं, लेकिन ये कोशिश उनके लिए फ़ायदेमंद नहीं रही और 26 वर्षीय बेलारूसी पहलवान आसानी से उनके जाल से बाहर निकल गईं।  

हालाँकि पिंकी को पैसिविटी के लिए एक अंक जरूर मिला था, लेकिन इरिना कुराचकिना ने एक और टेकडाउन के सहारे अपनी बढ़त मजबूत कर ली।

भारतीय पहलवान पिंकी व्यक्तिगत विश्व कप में अच्छे लय में नज़र आ रही हैं। फोटो: UWW

पिंकी मंगलवार को कांस्य-पदक मैच में रूस की ओल्गा खोरोस्वतसेवा (Olga Khoroshavtseva) से भिड़ेंगी।

सोनम मलिक भी प्रभावित करने से चूकीं

इससे पहले, सीनियन स्तर पर सोनम मलिक (Sonam Malik) की अनुभवहीनता के कारण उन्हें 62 किग्रा वर्ग में क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

यूक्रेन के इलोना प्रोकोपेवन्युक (Ilona Prokopevniuk) के खिलाफ, एक रोमांचक मुक़ाबले में सोनम मलिक ने शुरुआती मिनट में 3-0 से पिछड़ने के बावजूद प्रतियोगिता में बने रहने के लिए अच्छा प्रदर्शन किया। हालाँकि, युवा भारतीय पहलवान इस आगे जारी नहीं रख सकीं और हार गईं।

मैच के बीच में डबल लेग अटैक के लिए जाते हुए सोनम मलिक मैट पर अपने प्रतिद्वंदी के चाल को समझने में असफल रहीं। तीन बार की विश्व जूनियर पदक विजेता इलोना प्रोकोपेवन्युक से शुरुआती दौर में ही भारतीय पहलवान को हार का सामना करना पड़ा।

व्यक्तिगत विश्व कप में निर्मल देवी (Nirmal Devi) (50 किग्रा) और गुरशरणप्रीत कौर (Gursharanpreet Kaur) (72 किग्रा) का प्रदर्शन एक जैसा ही रहा।

निर्मल देवी ने पोलैंड की एना लुकासीक (Anna Lukasiak) के खिलाफ 4-0 से पिछड़ने के बाद 9-6 से हार का सामना किया, तो अनुभवी गुरशरणप्रीत कौर ने तुर्की की बोस तोसुन के खिलाफ अच्छी कुश्ती लड़ी, लेकिन अंत में उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा।

36 वर्षीय गुरशरणप्रीत ने पहले राउंड में 0-3 की बढ़त बना ली थी। लेकिन ब्यूस टोसुन (Buse Tosun) ने उसके बाद वापसी की और 12-8 की बढ़त बना ली। तीसरे राउंड में भारतीय पहलवान से पूरी कोशिश की, लेकिन वो एक अंक से मुक़ाबला हार गईं। अब वो रेपचेज में रूस की इवजिनिया ज़ाखारचेनको से भिडेंगी।