कोच बेंटिनिडिस ने कहा बजरंग पुनिया मानसिक ताकत को बढ़ाने की राह पर

भारतीय रेसलर बजरंग पुनिया अपने कोच के साथ क्लिफ के रेसलिंग क्लब में ट्रेनिंग कर रहे हैं।

लेखक जतिन ऋषि राज ·

टोक्यो ओलंपिक गेम्स के लिए तैयारी कर रहे भारतीय रेसलर बजरंग पुनिया अपनी मानसिक और शारीरिक ताकत पर काम कर रहे हैं।

Wrestling.TV से बात करते हुए उनके निजी कोच एमज़ैरिओस शाको बेंटिनिडिस (Emzarios ‘Shako’ Bentinidis) ने यह सिद्ध किया कि पुनिया का मकसद प्रक्रिया को परफेक्ट करना है न कि आने वाले समय में परिणामों के बारे में सोचना।

तीन बार के वर्ल्ड चैंपियनशिप मेडल विजेता, बजरंग पुनिया अपने ओलंपिक साल की शुरुआत मार्च में होने वाले मैटेयो पेलिकॉन रैंकिंग सीरीज (Matteo Pellicone Ranking Series) से करेंगे

एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप के बाद पुनिया प्रतिस्पर्धा से दूर रहे हैं और कोच बेंटिनिडिस का मानना है कि भारतीय पहलवान की ट्रेनिंग मुकाबले में लंबे समय तक टिकने के लिए हो रही है।

गोर्जियन कोच ने बातचीत करते हुए कहा “यह एक साल मुश्किल रहा है और इसीलिए उन्हें मानसिक रूप से फोकस्ड होना पड़ेगा और परिणामों से ज़्यादा प्रातक्रिया पर ध्यान देना होगा।”

“मैं मैट पर उनके फोकस को बढ़ाने पर काम कर रहा हूं। मैं मुकाबले के दौरान बनीं एकाग्रता को बनाए रखना सीखा रहा हूं। लेकिन जब भी वह उसे छोड़ते हैं मैं उसी समय उन्हें रोक देता हूं, और परेशानी को निचले स्तर पर पकड़ कर उसे ठीक कर आगे बढ़ना ज़रूरी है। जब तक वह उसे ठीक नहीं कर लेते, तब तक हम एक ही ड्रिल करते रहते हैं।”

अपने स्टेमिना के लिए प्रख्यात बजरंग पुनिया ने हारे हुए मुक़ाबले को अपनी कला से जीत कर दिखाया है।

यह मानने में कोई दो राय नहीं है कि कोच की यह रणनीति पुनिया के लिए कारगर साबित हो रही है और बेंटिनिडिस साथ ही प्लान बी पर भी काम कर रहे हैं।

कोच ने बातचीत को आगे बढ़ाते हुए कहा “तकनीकी चीज़ों पर उन्होंने ज़बरदस्त काम किया है और अब उनमें कार्य क्षमता को बढ़ाने की ज़रूरत है।”

“हम नई तकनीकों को जोड़ रहे हैं। हम इस पर बहुत समय से काम करना चाह रहे थे और अब हम डिफ़ेंस पर भी काम कर रहे हैं।”

भारतीय पहलवान 4 दिसंबर से बेंटिनिडिस के साथ क्लिफ के रेसलिंग क्लब में अभ्यास कर रहे हैं। हालांकि जनवरी में इस भारतीय रेसलर को भारत वापस आना था लेकिन उन्होंने अपने इस अभ्यास के समय को और बढ़ा दिया है और एक सप्ताह पहले स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री ने भी उन्हें अनुमति दे दी है।

बजरंग पुनिया ने इंडिविजुअल वर्ल्ड कप में भाग न लेने का फैसला किया था और टेक्सास में उन्होंने एक इन्वितेश्नल इवेंट में दो बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल जीत चुके जेम्स ग्रीन (James Green) के ख़िलाफ़ मैट पर उतरे थे।

इस जीत के बाद हालांकि भारतीय पहलवान अमेरिकी ओलंपिक की उम्मीद जैन रेदरफोर्ड (Zain Retherford) से हार गए। बजरंग पुनिया 22 जनवरी से होने वाले एक और इन्वितेश्नल इवेंट में भाग लेंगे जो कि 22 जनवरी से शुरू होगी।