टोक्यो ओलंपिक का टिकट कटवाने के लिए साक्षी मलिक और पूजा ढांडा को मिलेगा एक और मौका

साक्षी और पूजा दोनों को ही जनवरी में लखनऊ में हुए ट्रायल्स में बुरी तरह हार झेलनी पड़ी थी लेकिन अब उन्हें एक और मौका मिलेगा।

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (WFI) टोक्यो 2020 के लिए एशियाई ओलंपिक क्वालिफायर्स में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली टीम का चयन करने के लिए अगले साल की शुरुआत में नए ट्रायल का आयोजित करेगा।

मार्च में किर्गिस्तान में होने वाले क्वालिफ़ाइंग इवेंट को कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था। और भारतीय महासंघ यह सुनिश्चित करना चाहता है कि उनके बेस्ट रेसलर इसमें हिस्सा लें।

WFI के सचिव विनोद तोमर ने हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत के दौरान कहा कि एशियाई क्वालिफ़ायर स्थगित कर दिए गए और रेसलर के लिए फिटनेस और टेम्पो के समान स्तर को एक वर्ष से अधिक समय तक बनाए रखना संभव नहीं है।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “जनवरी में जिन खिलाड़ियों ने क्वालिफाई किया था, उन्हें चोट भी लग सकती है और हो सकता है कि वह एशियन क्वालिफायर के लिए फिट ही ना हों”।

एक्शन में साक्षी मलिक
एक्शन में साक्षी मलिकएक्शन में साक्षी मलिक

अब नए ट्रायल ने रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक (Sakshi Malik) और 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स सिल्वर पदक विजेता पूजा ढांडा (Pooja Dhanda) के लिए टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेने की उम्मीद बांध दी है। लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है।

इन दोनों को ही जनवरी में लखनऊ में हुए नेशनल ट्रायल्स में हार का मुंह देखना पड़ा था, जिसके बाद इनके ओलंपिक गेम्स में हिस्सा लेने की उम्मीद टूटती दिखाई दे रही थी।

एक बड़ा टैलेंट पूल

एशियाई ओलंपिक क्वालिफ़ायर में साक्षी मलिक और पूजा ढांडा को एक और मौक़ा मिला है और उन्हें इस मौके का फायदा उठाना थोड़ा मुश्किल होगा।

इसका कारण यह है कि WFI कम उम्र के रेसलर (वर्तमान में 20 वर्ष) के पहलवानों को पहले ट्रायल्स करवाने की अनुमति देने की योजना बना रहा है और अगले साल सीनियर्स को मौका दिया जाएगा।

टैलेंट पूल को शामिल करने के लिए, WFI को उम्मीद है कि उन्हें राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं की मेजबानी करने की अनुमति दी जाएगी, लेकिन महामारी के कारण प्रतियोगिता कब होगी,ये कहा नहीं जा सकता।

विनोद तोमर ने कहा कि “कौन जानता है कि स्थिति में सुधार कब होगा और हम दो-तीन महीनों में राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का आयोजन करवा सके, ताकि रेसलर अपने आप को साबित कर पाएं।”

टोक्यो ओलंपिक के लिए एशियन ओलंपिक क्वालिफायर्स अगले साल मार्च में होने की उम्मीद की जा रही है

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!