भारतीय ग्रीको-रोमन पहलवान व्यक्तिगत विश्व कप में संघर्ष करते नज़र आए

बेलग्रेड में चल रहे व्यक्तिगत विश्व कप के पहले दिन पांच भारतीय पहलवानों में से कोई भी क्वालिफाइंग दौर से आगे नहीं जा सका।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

सर्बिया के बेलग्रेड में चल रहे व्यक्तिगत विश्व कप के पहले दिन भारतीय ग्रीको-रोमन पहलवान अच्छा प्रदर्शन करने में असफल रहे। प्रतियोगिता के क्वालिफाइंग राउंड में ही सभी पांच पहलवान बाहर हो गए।

67 किग्रा वर्ग में प्रतिस्पर्धा करते हुए, आशु एकमात्र भारतीय पहलवान थे, जिन्होंने सम्मानजनक कुस्ती लड़ी। आशु क्वार्टर फ़ाइनल में हारने से पहले तुर्की के एटकान युकसेल के खिलाफ अपने शुरुआती दौर को जीतने के लिए शानदार प्रदर्शन किया था।

क्वार्टर फाइनल में किर्गिस्तान के खलमूरत इब्रागिमोव (Khalmurat Ibragimov) के खिलाफ आशु को हार का सामना करना पड़ा। इस मुक़ाबले में आशु में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनुभव की कमी देखने को मिली। इब्रागिमोव ने 30 सेकेंड में 8-0 की जीत दर्ज की।

इस बीच, अर्जुन हलकुर्की (Arjun Halakurki) को भी 55 किग्रा वर्ग के क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा।

बेलग्रेड फेयर में शुरुआती दौर में वॉकओवर के बाद अंतिम आठ में अपनी जगह बनाते हुए, अर्जुन हलाकुर्की किर्गिस्तान के बालबाई डोरडोकोव के खिलाफ मैट पर उतरे थे।

हलाकुर्की ने अच्छी शुरुआत की और शुरुआती मिनट में पांच अंकों की बढ़त हासिल की। लेकिन वो इस लाभ को बनाए रखने में असफल रहे और जल्द ही डॉर्डोकोव ने मुक़ाबले में वापसी कर ली।

2020 के एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले हलाकुर्की ने शुरूआत में अच्छी कुस्ती लड़ी। लेकिन लीड को और बढ़ाने के प्रयास में उनसे एक चूक हुई जिसकी वजह से उन्हें चार अंक गवांने पड़े।

किर्गिस्तान के पहलवान ने हलाकुर्की के खिलाफ एक बार फिर से चार अंक हासिल किए और 10-5 की बढ़त हासिल की।

दूसरे राउंड में डॉर्डोकोव ने अपने आप को बचाए रखा और अपने प्रतिद्वंद्वी के शरीर के करीब रहे, उन्होंने बमुश्किल ही हलाकुर्की को किसी भी तरह का मौका दिया।

एशियाई चैंपियन सुनील कुमार व्यक्तिगत विश्व कप के शुरुआती दौर से हुए बाहर। फोटो: UWW

दूसरे राउंड में डॉर्डोकोव ने अपने आप को बचाए रखा और अपने प्रतिद्वंद्वी के शरीर के करीब रहे, उन्होंने बमुश्किल ही हलाकुर्की को किसी भी तरह का मौका दिया। 

सुनील कुमार भी हारकर हुए बाहर

इससे पहले एशियाई चैंपियन सुनील कुमार भी व्यक्तिगत विश्व कप में अपनी छाप छोड़ने से नाकाम रहे, जहां वो तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 87 किग्रा वर्ग में इटली के फैबियो पेरिस से हार गए।

55 सेकंड तक चलने वाले इस मुकाबले में, इटली के इस पहलवान ने शुरू से ही शानदार खेल दिखाया। उन्होंने अपने कंधे का सही उपयोग किया और चार अंको के साथ खाता खोला।

पैरिसी ने इस गेम में अपना दबदबा बनाए रखा और कुछ देर बाद पहले जैसा ही दाव लगाकर चार अंक और बटोरे और 10-0 बढ़त के साथ मुक़ाबले को अपने नाम कर लिया।

77 किग्रा डिवीजन में साजन को भी संघर्ष करना पड़ा, जहां तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 9-0 की जीत के साथ बेलारूस के पावेल लीख ने शुरुआती दौर की बाउट को पूरा करने में कोई समय बर्बाद नहीं किया।

इस बीच, आदित्य कुंडू को वॉर्म-अप रूटीन के दौरान चोटिल होने के बाद व्यक्तिगत विश्व कप में अपनी बाउट को छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।