10 अक्टूबर से शुरू होगा नेशनल कैंप, विनेश फोगाट और साक्षी मलिक भी होंगी उपस्थित

ओलंपिक भार श्रेणियों में महिला पहलवानों का नेशनल कैंप अक्टूबर से दिसंबर तक लखनऊ में होगा।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

महिला पहलवानों के लिए राष्ट्रीय शिविर 10 अक्टूबर से शुरू होगा और 31 दिसंबर तक भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) केंद्र लखनऊ में चलेगा, कुश्ती संघ (WFI) ने मंगलवार को इसकी घोषणा की।

ये पहले 1 सितंबर से शुरू होने वाला था, लेकिन इसे स्थगित कर दिया गया था।

शिविर छह ओलंपिक भार श्रेणियों - 50 किग्रा, 53 किग्रा, 57 किग्रा, 62 किग्रा, 68 किग्रा और 76 किग्रा में आयोजित किया जाएगा, यहां अलग-अलग इवेंट्स में भाग लेने वाले पहलवान नेशलन कैंप में हिस्सा लेंगे।

“हम लखनऊ में 10 अक्टूबर से शिविर शुरू कर रहे हैं। डब्लूएफआई के सहायक सचिव विनोद तोमर ने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया को बताया कि शिविर में भाग लेने वाले पहलवानों की संख्या पहले जितनी ही रहेगी। सभी छह कटेगरी में तीन पहलवान हिस्सा लेंगे।”

SAI की सुरक्षा और स्वास्थ्य संबंधी दिशा-निर्देशों के अनुसार, उपस्थित लोगों को लखनऊ आने से पहले 14 दिनों की क्वारंटीन अवधि से गुजरना होगा और प्रशिक्षण के लिए मैट पर ले जाने से पहले नेगेटिव टेस्ट कराना होगा।

तोमर ने ये भी पुष्टि की है कि टोक्यो के लिए क्वालिफाई कर चुकी विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) COVID-19 से उबरने के बाद राष्ट्रीय शिविर का हिस्सा रहेंगी।

फोगाट को इस साल राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वो पिछले महीने कोरोना वायरस से ग्रस्त हो गई थीं, जिसकी वजह से वो वर्चुअल राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों में शामिल नहीं हो पाई थीं।

तोमर ने कहा, "विनेश विदेश में ट्रेनिंग करना चाहती थीं लेकिन मौजूदा परिस्थितियों में ये (अपने ही देश में प्रशिक्षण करना) सबसे अच्छा है।"

साक्षी मलिक अपनी दावेदारी पेश करेंगी

शिविर में रियो 2016 की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक (Sakshi Malik) भी शामिल होंगी, जो अगले साल एशियाई और विश्व ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स के लिए भारतीय टीम में जगह बनाने के इरादे से मैट पर उतरेंगी।

मलिक राष्ट्रीय ट्रायल में खराब प्रदर्शन के बाद बाहर हो गई थीं, लेकिन नेशलन कैंप में प्रशिक्षण करने की वजह से उन्हें ओलंपिक में जगह बनाने का एक और मौका मिल सकता है।

WFI ने यह भी घोषणा की है कि हरियाणा के सोनीपत में पहले से चल रहे पुरुषों के राष्ट्रीय शिविर को 31 दिसंबर तक बढ़ाया जाएगा।