इंडिविजुअल वर्ल्ड कप: अंशु मलिक को रजत पदक से करना पड़ा संतोष

भारतीय युवा पहलवान को व्यक्तिगत विश्व कप में महिलाओं की कुश्ती के 57 किलोग्राम के फाइनल में यूरोपीय चैंपियन अनास्तासिया निचिता से हारने के बाद रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

भारत की अंशु मलिक (Anshu Malik) ने बुधवार को सर्बिया के बेलग्रेड में व्यक्तिगत विश्व कप (Individual World Cup) में महिलाओं की कुश्ती के 57 किलोग्राम वर्ग में रजत पदक अपने नाम किया। 19 वर्षीय भारतीय पहलवान फाइनल में मोल्दोवा के अनास्तासिया निचिता (Anastasia Nichita) से 5-1 से हार गई, जो काफी चालाकी से खेल रहीं थी।

गोल्ड मेडल के लिए मैट पर उतरी अंशु मलिक को पता था कि अगर उन्हें कुछ करिश्मा करना है तो उन्हें शानदार प्रदर्शन करना होगा। भारतीय रेसलर का यह सीनियर लेवल पर तीसरा इंटरनेशनल इवेंट था।

19 साल की अंशु ने शुरुआत काफी आक्रामक तरीके से की, शुरुआती मिनट में वह टेकडाउन लेने में सफल रहीं हालांकि उनकी विरोधी भी काफी चालाक थीं और जल्दी ही उन्होंने अपने डिफेंस से अंशु के प्लान को फेल कर दिया।

अनास्तासिया निचिता ने ऊपरी हाथ हासिल करने के लिए अपने निचले शरीर का उपयोग करते हुए लंबे समय तक एक हेडलॉक में भारतीय को रखा था। इस बीच, अंशु ने अपने पैरों पर टिके रहने के लिए अच्छा प्रदर्शन किया। इस दौरान वह मैट की बाउंड्री का भी ध्यान अच्छे से रख रही थी, इसके अलावा उन्होंने बीच बीच में विरोधी को अपनी शक्ति का भी नमूना दिखाया।

दोनों ही रेसलर पॉइंट हासिल करने की जल्दबाजी में नहीं थे लेकिन रैफरी ने पैसेविटी पॉइंट निचिता को दिया, जिसकी बदौलत वह बढ़त हासिल करने में सफल रही।

दूसरे राउंड में अनास्तासिया निचिता ने अपने खेल को बदला और बिना वक्त बर्बाद किए दो अच्छे टेकडाउ हासिल किए। इस पहलवान ने हेडलॉक से अंशु को चित किया। दूसरे दौर में जिस तरह से अनास्तासिया खेल रही थी, उसका अंशु के पास कोई जवाब नहीं था।

अंशु की तमाम कोशिशों के बाद भी अनास्तासिया ने इस साल एक और खिताब अपने नाम कर लिया।

फ़्रीस्टाइल रेसलर्स का निराशाजनक प्रदर्शन

इससे पहले, भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवानों ने जिस तरह से प्रदर्शन किया, उसे देखकर साफ कहा जा सकता है कि उनकी ट्रेनिंग में काफी कमी रह गई। एक भी रेसलर व्यक्तिगत विश्वकप के क्वालिफिकेशन स्टेज से भी आगे नहीं बढ़ पाया।

हालांकि ओलंपिक कोटा विजेता रवि कुमार (Ravi Kumar) ने 57 किग्रा वर्ग में अपना क्वार्टर फ़ाइनल एक सकारात्मक नोट पर शुरू किया, लेकिन अंत में उन्हें हंगरी के गमज़तगद्ज़ी हल्दीव (Gamzatgadzsi Halidov) से 6-4 से हार का सामना करना पड़ा।

नरसिंह यादव (Narsingh Yadav) एक पूर्व निर्धारित खेल योजना के बजाय नए तरीके से खेल रहे थे। भारतीय पहलवान ने 74 किग्रा वर्ग ने पहला बाउट एक पॉइंट से गंवा दिया था। इसके बाद उनसे दूसरे राउंड में उम्मीद थी लेकिन जर्मन ओसमान काकीसी (Osman Cakici) ने भारतीय पहलवान को प्रतियोगिता से बाहर करने के लिए 10-9 की जीत दर्ज की।

क्वालिफिकेशन राउंड में सुमित मलिक (Sumit Malik) 125 किग्रा वर्ग में चुनौती पेश कर रहे थे लेकिन उन्हें मोल्दोवा के ईगोर ओलर (Egor Olar) को 4-2 से हरा दिया, वहीं किर्गिस्तान के इस्लामबेक ओरोजबेकोव (Islambek Orozbekov) ने 70 किग्रा डिवीजन में नवीन (Naveen) को 12-2 से हराया।