लॉकडाउन में योग और मेडिटेशन में व्यस्त पूजा ढांडा को है एक और मौक़े का इंतज़ार

भारतीय पहलवान इस समय का उपयोग मानसिक दृढ़ता और अपनी चपलता पर काम करने के लिए कर रही हैं।

भारतीय महिला पहलवान पूजा ढांडा (Pooja Dhanda) के लिए साल 2020 की शुरुआत कोई ख़ास नहीं रही है। सीज़न के पहले ही राष्ट्रीय ट्रायल्स में पूजा ढांडा को युवा पहलवान अंशु मलिक (Anshu Malik) के हाथों शिकस्त नसीब हुई थी, इसके बाद 26 वर्षीय इस पहलवान को एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के लिए होने वाले चयन ट्रायल में एक बार फिर अंशु से ही हार का सामना करना पड़ा था।

2019 में मैट पर लगी चोट के बाद वापसी कर रही पूजा के लिए अब तक जितने मौक़े भी मिले हैं उनमें वह रंग में नज़र नहीं आईं हैं।

ऐसे में जब कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी की वजह से टोक्यो ओलंपिक और ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स की तारीख़ें आगे बढ़ गईं हैं तो पूजा की नज़र इस समय का इस्तेमाल करने पर है।

योगा और मेडिटेशन का दौर जारी

भारत समेत दुनिया के कई देशों में जारी लॉकडाउन में पूजा ढांडा भी हरियाणा के हिसार में अपने घर पर सेल्फ-आइसोलेशन में हैं। पूजा ढांडा इस दौरान योगा कर रही हैं और ख़ुद को मानसिक तौर पर मज़बूत रखने का प्रयास कर रही हैं।

रेसलिंग टीवी के साथ बातचीत में पूजा ढांडा ने कहा, “लॉकडाउन मेरे लिए सही जा रहा है, पहले मैं नियमित तौर पर योगा नहीं कर पाती थी, क्योंकि दिन में दो बार प्रैक्टिस सत्र होता था। लेकिन अब जब मेरे पास ज़्यादा समय है तो मैंने अब योगा को अपने रूटीन में शामिल कर लिया है। मैं रोज़ शाम में अब मेडिटेशन और योगा करती हूं, और एक सत्र क़रीब दो घंटे का रहता है।”

“मेरा शरीर बहुत लचीला नहीं है, लेकिन अब मैं पहले से ज़्यादा लचीलापन महसूस कर रही हूं। इससे मेरी एकाग्रता और चपलता में भी फ़ायदा हो रहा है।

भारतीय महिला पहलवान पूजा ढांडा (Pooja Dhanda) के लिए साल 2020 की शुरुआत कोई ख़ास नहीं रही है। सीज़न के पहले ही राष्ट्रीय ट्रायल्स में पूजा ढांडा को युवा पहलवान अंशु मलिक (Anshu Malik) के हाथों शिकस्त नसीब हुई थी, इसके बाद 26 वर्षीय इस पहलवान को एशियन बॉक्सिंग क्वालिफ़ायर्स के लिए होने वाले चयन ट्रायल में एक बार फिर अंशु से ही हार का सामना करना पड़ा था।

2019 में मैट पर लगी चोट के बाद वापसी कर रही पूजा के लिए अब तक जितने मौक़े भी मिले हैं उनमें वह रंग में नज़र नहीं आईं हैं।

ऐसे में जब कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी की वजह से टोक्यो ओलंपिक और ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स की तारीख़ें आगे बढ़ गईं हैं तो पूजा की नज़र इस समय का इस्तेमाल करने पर है।

योगा और मेडिटेशन का दौर जारी

भारत समेत दुनिया के कई देशों में जारी लॉकडाउन में पूजा ढांडा भी हरियाणा के हिसार में अपने घर पर सेल्फ-आइसोलेशन में हैं। पूजा ढांडा इस दौरान योगा कर रही हैं और ख़ुद को मानसिक तौर पर मज़बूत रखने का प्रयास कर रही हैं।

रेसलिंग टीवी के साथ बातचीत में पूजा ढांडा ने कहा, “लॉकडाउन मेरे लिए सही जा रहा है, पहले मैं नियमित तौर पर योगा नहीं कर पाती थी, क्योंकि दिन में दो बार प्रैक्टिस सत्र होता था। लेकिन अब जब मेरे पास ज़्यादा समय है तो मैंने अब योगा को अपने रूटीन में शामिल कर लिया है। मैं रोज़ शाम में अब मेडिटेशन और योगा करती हूं, और एक सत्र क़रीब दो घंटे का रहता है।”

“मेरा शरीर बहुत लचीला नहीं है, लेकिन अब मैं पहले से ज़्यादा लचीलापन महसूस कर रही हूं। इससे मेरी एकाग्रता और चपलता में भी फ़ायदा हो रहा है।”

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!