सीनियर रेसलिंग चैंपियनशिप: सत्यव्रत कादियान ने 97 किलोग्राम में अपना ताज बरकरार रखा

सत्यव्रत कादियान ने नोएडा में सीनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप में अपना खिताब अपने पास ही रखा। उन्होंने फाइनल में मोनू को हराया।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

97 किलोग्राम फ्रीस्टाइल वर्ग में गत चैंपियन सत्यव्रत कादियान (Satyawart Kadian) ने रविवार को उत्तर प्रदेश के नोएडा में चंद्र मौली पांडे कुश्ती अकादमी (Chandra Mauli Pandey Kushti Academy) में 65वीं सीनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप में अपना ताज बरकरार रखने के लिए बहुत पसीना बहाया।

अपने प्रतिद्वंदी और एशियन गेम्स के कांस्य पदक विजेता मौसम खत्री (Mausam Khatri ) के इस प्रतियोगिता में भाग न लेने के बावजूद सत्यव्रत कादियान ने प्रतियोगिता में काफी पसीना बहाया।

फाइनल में सर्विसेज के मोनू (Monu) के खिलाफ 2010 के यूथ ओलंपिक कांस्य पदक विजेता कादियान ने स्वर्ण जीता।

रियो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक (Sakshi Malik) से शादी करने वाली सत्यव्रत कादियान ने अच्छी शुरुआत की और अपने शानदार खेल से प्रतिद्वंदी पर दबाव बनाए रखा।

रेलवे का प्रतिनिधित्व करते हुए मोनू को पैसिविटी का ख़ामियाज़ा भुगतना पड़ा और कादियान ने अपना खाता खोला। 27 वर्षीय कादियान को भी अपने पैसिविटी खेल की वजह से चेतावनी दी गई, जिसके बाद उन्हें आक्रमण करने का मौका दिया गया।

हालांकि मोनू ने बाहर निकलने की कोशिश की, लेकिन उनके प्रयासों ने उनकी स्थिति और भी बदतर कर दी क्योंकि कादियान उसके ऊपर थे, जिससे रेफरी को पिन के लिए मजबूर होना पड़ा।

सत्यव्रत कादियान अब अप्रैल में एशियन ओलंपिक क्वालिफ़ायर्स के लिए नेशनल ट्रायल्स में दिखाई देंगे।

इससे पहले अन्य दो ओलंपिक वजन डिविजन में रविवार को मुक़ाबले हुए, जिसमें हरियाणा के रोहित ने 65 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग में खिताब हासिल किया, जबकि दिल्ली के प्रवीण चाहर (Praveen Chahar) 86 किग्रा फ्रीस्टाइल डिविजन में चैंपियन बने।

सीनियर नेशलन रेसलिंग चैंपियनशिप अगले सप्ताह के अंत में आगरा के होली लाइट सीनियर सेकेंड्री स्कूल में आयोजित होगी, जिसमें महिलाओं के बीच दंगल देखने को मिलेगा।