चोट से जूझ रही केरला ब्लास्टर्स ने ISL 2020-21 में जीत दर्ज की अपनी पहली जीत

कई खिलाड़ियों के चोटिल होने की वजह से केरला के प्रमुख कोच किबु विकुना को बदलाव करने पड़े, इसके बावजूद केरला ब्लास्टर्स ने हैदराबाद एफ़सी के ख़िलाफ़ प्रेरणादायक जीत हासिल की।

लेखक सैयद हुसैन ·

रविवार को इंडियन सुपर लीग (ISL 2020-21) में केरला ब्लास्टर्स (Kerala Blasters FC) ने हैदराबाद एफ़सी (Hyderabad FC) को शिकस्त देते हुए इस सीज़न की पहली जीत हासिल की। इस जीत के बाद 11 टीमों वाली इस प्रतियोगिता में केरला अब 9वें स्थान पर आ गई है।

इससे पहले केरना ब्लास्टर्स के कोच किबु विकुना (Kibu Vicuna) खिलाड़ियों की लगी चोट से काफ़ी चिंतित थे। कोस्टा नहामोइनेसु (Costa Nhamoinesu), बकारी कोन (Bakary Kone) और गैरी हूपर (Gary Hooper) इस मैच में चोट की वजह से बाहर थे।

गोवा के बाम्बोलिम स्थित जीएमसी स्टेडियम में केरला ब्लास्टर्स ने इसके बावजूद अद्भुत प्रदर्शन करते हुए मज़बूत हैदराबाद पर 2-0 की लाजवाब जीत दर्ज करते हुए सभी को हैरान कर दिया।

अंतिम समय पर बनाई गई टीम

इस टीम में कोस्टा नहामोइनेसु और बकारी कोन की ग़ैरमौजूदगी में सेंटर बैक की ज़िम्मेदारी अब्दुल हकु (Abdul Hakku) और संदीप सिंह (Sandeep Singh) पर थी।

कोच विकुना ने अब्दुल और संदीप के शानदार प्रदर्शन की जमकर सराहना की जिन्होंने हैदराबाद के एरिडेन सनटाना (Aridane Santana) के आक्रमण का बेहतरीन अंदाज़ में सामना किया। सनटाना के नाम अब तक 6 मैचों में 4 गोल है।

मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ़्रेस में 49 वर्षीय विकुना ने कहा, “मैं अब्दुल हकु, संदीप सिंह और जॉर्डन के प्रदर्शन से बेहद ख़ुश हूं।“

“मैं इस प्रदर्शन से काफ़ी संतुष्ट हूं, हमने उस टीम के ख़िलाफ़ बेहतरीन खेल दिखाया है जो इस सीज़न में काफ़ी अच्छा खेल रही है। हमने पिछले दो-तीन हफ़्तों में काफ़ी अच्छा अभ्यास किया था और ये उसी का नतीजा है जो ऐसा परिणाम आया।“

वहीं केरला के युवा खिलाड़ी राहुल केपी (Rahul KP) और जिकसन सिंह (Jeakson Singh) ने भी उम्दा प्रदर्शन किया, ये दोनों ही खिलाड़ी 2017 FIFA अंडर-17 वर्ल्ड कप में भी खेल चुके हैं।

20 वर्षीय राहुल ने आकाश मिश्रा (Akash Mishra) पर नज़र बनाई रखी थी जिनके प्रदर्शन को लेकर काफ़ी तारीफ़ें हुईं थीं।

दूसरी ओर हैदराबाद के कोच मैनुएल मार्कज़ (Manuel Marquez) ने भी इस जीत के बाद केरला के खिलाड़ियों की तारीफ़ की।

“हम इसलिए हारे क्योंकि केरला के खिलाड़ियों का रवैया बहुत अच्छा था। अगर खिलाड़ियों का खेल को लेकर रवैया सही न हो तो फिर जीत नामुमकिन हो जाती है। ख़ास तोर से शुरुआती मिनट्स में उन्होंने हमारी टीम से बेहतर रवैया दिखाया।“

रणनीति में बदलाव

हैदराबाद के ख़िलाफ़ इस मैच में केरला ब्लास्टर्स की रणनीति में भी बदलाव नज़र आया। उन्होंने काउंटर अटैक के ज़रिए हैदराबाद पर शुरू से ही दबाव बना दिया था।

केरला ब्लास्टर्स के प्रमुख कोच ने इस बारे में कहा, “ये ज़रूरी था कि हम हैदराबाद पर शुरू से ही दबाव बनाएं, क्योंकि ये टीम अच्छा खेलती आ रही थी। और हमने ऐसा ही किया हमने उवपर दबाव बनाया और ये रंग लाया।“

राहुल केपी (बाएं) का प्रदर्शन शानदार था उन्होंने सामने वाली टीम को आक्रमण का मौक़ा ही नहीं दिया। तस्वीर साभार: ISL मीडिया

आईलीग के पिछले सीज़न में भी किबु विकोना की कोचिंग वाली मोहन बागान को चर्चिल ब्रदर्स के ख़िलाफ़ 2-4 से हार झेलनी पड़ी थी, लेकिन इसके बाद इस टीम ने लगातार 14 मैचों में अपराजित रही थी और अपना दूसरा आई-लीग का ख़िताब जीता था।

हालांकि ये कहना जल्दबाज़ी होगा कि किबु विकोना की टीम उसी करिश्मे को केरला ब्लास्टर्स के साथ यहां दोहराएगी, लेकिन इतना तो तय है कि ये टीम अगर अपनी पूरी ताक़त के साथ खेलती है तो तस्वीर कुछ अलग होगी।