ISL: खालिद जमील के आने से जीत की पटरी पर लौटी नॉर्थईस्ट यूनाइटेड

नॉर्थईस्ट यूनाइटेड एफसी की बागडोर जेरार्ड नुस के हाथों से लेने के बाद, नवनियुक्त कोच खालिद जमील ने ISL 2020-21 में जीत के साथ की शुरुआत।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

रविवार को नॉर्थईस्ट यूनाइटेड एफसी (NorthEast United FC) ने इंडियन सुपर लीग (Indian Super League) में जमशेदपुर एफसी (Jamshedpur FC) को 2-1 से हराकर सात मैचों से चले आ रहे ना जीतने के सिलिसिले को खत्म किया।

भारतीय डिफेंडर आशुतोष मेहता (Ashutosh Mehta) और जमैका के स्ट्राइकर देशॉर्न ब्राउन (Deshorn Brown) ने नॉर्थईस्ट के लिए गोल किया, लेकिन लंबे समय से जीत का स्वाद न चखने वाली नॉर्थईस्ट युनाइटेड की इस जीत का ज्यादातर श्रेय नए अंतरिम प्रमुख खालिद जमील (Khalid Jamil) को जाता है।

क्लब के पूर्व स्पेनिश मुख्य कोच जेरार्ड नूस (Gerard Nus) की जगह खालिद जमील ने ली। इससे पहले टीम के मुख्य कोच जेरार्ड नूस की देख रेख में खेल रही टीम को लगातार सात मैचों से जीत नहीं मिल रही थी।

मैच में नजर आया खालिद जमील का प्रभाव

जमील की तरफ से मैच के बाद की प्रेस कॉन्फ्रेंस में आए NEUFC के सहायक कोच एलिसन खरसिंते ने कहा, “अंतरिम मुख्य कोच खालिद ने खिलाड़ियों से कहा कि वो प्रतिद्वंद्वी टीम से अधिक अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास प्रदर्शन करें और कड़ी मेहनत करें। ये पूरी टीम को प्रोत्साहित करेगा और उम्मीद है कि वो आने वाले मैचों में लगातार इस लय को बनाए रखेंगे।”

फेडेरिको गैलेगो ने रविवार को जमशेदपुर के खिलाफ नॉर्थईस्ट यूनाइटेड के दोनों गोल में असिस्ट किया। तस्वीर साभार: ISL मीडिया

खालिद जमील भारतीय फुटबॉल के अनुभवी खिलाड़ी हैं और इस लीग की टीमों को अच्छी तरह से जानते हैं।

भारत के पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी अपने खिलाड़ियों में कभी-न-हारने की मानसिकता को पैदा करने में माहिर है। इसी महारथ ने उन्हें आई-लीग में मुंबई एफसी के साथ अपने कार्यकाल के दौरान अपार सम्मान दिलाई।

आइज़ॉल एफसी को आई-लीग 2016-17 का खिताब दिलाने के बाद उनका मान और बढ़ गया।

दिसंबर 2016 में जमील के आने से पहले, आइज़ॉल को दावेदार के रूप में माना जाता था और गोयन क्लब सलगांवकर और स्पोर्टिंग क्लब डी गोवा के टूर्नामेंट से हटने के कारण उस सीजन में वो हमेशा शीर्ष पर रही थी।

भारतीय फुटबॉल में इनका नाम बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है, क्योंकि इन्होंने मिजोरम के स्थानीय खिलाड़ियों में से कुछ युवाओं को लेकर टीम बनाने वाले खालिद जमील ने खिताबी जीत दिला दी। इस लीग में ईस्ट बंगाल और मोहन बागान सहित कुछ पारंपरिक बड़ी टीमें भी थीं।

आई-लीग खिताब जीतने वाली आइज़ॉल भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र से पहली टीम थी और अब तक एकमात्र वही है।

जमील ISL 2019-20 के दौरान क्रोएशिया के वर्ल्ड कप विजेता खिलाड़ी रॉबर्ट जार्नी की अगुवाई में नॉर्थईस्ट के सहायक कोच के रूप में ISL में प्रवेश करने से पहले कोलकाता के दोनों दिग्गज टीमों के भी कोच रहे थे।

रविवार की जीत से उत्साहित, नॉर्थईस्ट आईएसएल अंक तालिका में पांचवें स्थान पर पहुंच गई है। उसे सिर्फ एक अंक चाहिए लीग चरण में शीर्ष चार में पहुंचने के लिए और आठ मैच बाकि हैं। जमील की हाइलैंडर्स प्लेऑफ़ में पहुंचने के लिए प्रबल दावेदारों में से एक है।