नई दिल्ली में होने वाले शूटिंग विश्व कप में ISSF किसी भी शूटर को कोई रैंकिंग अंक नहीं देगा

कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण भारत सरकार की यात्रा प्रतिबंधों की वजह से ISSF को ओलंपिक रैंकिंग अंकों के लिए अयोग्य घोषित कर दिया गया है।

लेखक ओलंपिक चैनल ·

नई दिल्ली में 15 से 26 मार्च तक होने वाली ISSF विश्व कप में प्रतिभागियों को कोई रैंकिंग अंक नहीं मिलेगा, क्योंकि भारत सरकार ने कुछ देशों के निशानेबाजों को कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण भाग लेने की अनुमति नहीं दी है।

इंटरनेशनल शूटिंग स्पोर्ट्स फेडरेशन (ISSF) ने बुधवार को एक बयान जारी कर इस खबर की पुष्टि की थी।

“भारत के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा COVID-19 वायरस से संबंधित शुरू की गई स्थानीय प्रतिबंधों के कारण, नई दिल्ली में ISSF विश्व कप के आयोजक उन सभी एथलीटों की भागीदारी की गारंटी नहीं दे सकते हैं जो उन प्रतियोगिताओं में भाग लेना चाहते हैं। आप ISSF की वेबसाइट पर पूरा बयान पढ़ सकते हैं।

“इसलिए इस विश्व कप में कोई रैंकिंग अंक अर्जित नहीं किया जा सकेगा। फिर भी, MQS (न्यूनतम क्वालिफिकेशन स्कोर) प्राप्त करना संभव होगा, जो एथलीटों के ओलंपिक कोटा प्राप्त करने की संभावनाओं पर प्रभाव डाल सकता है।”

कोरोना वायरस के घातक COVID-19 लक्षण, जिससे सिर्फ चीन में 3000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, ने ईरान, इटली, दक्षिण कोरिया और जापान जैसे देशों को बुरी तरह प्रभावित किया है, जिसके कारण भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन देशों से आने वाले किसी भी व्यक्ति पर प्रतिबंध लगा दिया है।

नेशनल राइफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (NRAI) अपने शूटर्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कोरोना वायरस के खिलाफ सभी आवश्यक सावधानी बरत रहा है। NRAI के सचिव राजीव भाटिया ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि, "फेडरेशन वायरस की बढ़ती चिंता के कारण कुछ देशों के वीजा प्रतिबंधों पर सरकार की सलाह का पालन कर रहा है।"

"सलाहकार के अनुसार, प्रतियोगिता के दौरान और टीम होटल में निवारण उपाय किए जाएंगे।"

मनु भाकर और सौरभ चौधरी की नज़र इस ओलंपिक साल में अपने बेहतरीन प्रदर्शन को जारी रखने पर होगी। तस्वीर साभार: ISSF

भारतीय निशानेबाज ज्यादा प्रभावित नहीं हैं

ओलंपिक 2020 में भारत निशानेबाजी के लिए सबसे बड़ा दल भेजेगा, जिसमें पहले से ही 15 कोटा सुरक्षित हैं, इसिलिए भारतीय निशानेबाजों ने साइप्रस में शॉटगन विश्व कप में भाग न लेने का फैसला किया।  

हालांकि, रैंकिंग अंक भारतीय ट्रैप शूटिंग टीम के लिए बहुत महत्वपूर्ण होंगे, जो नवंबर में क्वालीफाइंग इवेंट में अपने 2020 ओलंपिक स्पॉट को सुरक्षित नहीं कर सके।

हिंदुस्तान टाइम्स ने ट्रैप शूटर पृथ्वीराज टोंडाइमैन (Prithviraj Tondaiman) के हवाले से कहा, "2020 के ओलंपिक कोटा के लिए रैंकिंग में सुधार करना और दौड़ में बने रहना एक चुनौतीपूर्ण काम होगा।"