ISSF वर्ल्ड कप फाइनल में धाकड़ मनु भाकर ने गोल्ड पर साधा निशाना

मनु भाकर ने ISSF वर्ल्ड कप फाइनल के 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में जूनियर विश्व रिकॉर्ड तोड़ते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

लेखक अरसलान अहमर ·

गुरुवार के दिन ISSF वर्ल्ड कप फाइनल में भारतीय निशानेबाज़ मनु भाकर ने गोल्ड मेडल जीतकर अपने देश का नाम एक बार फिर से गर्व से ऊंचा किया।

महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में भाकर ने न सिर्फ स्वर्ण पदक जीता बल्कि 244.7 के शानदार स्कोर के साथ उन्होंने जूनियर विश्व रिकॉर्ड को भी ध्वस्त किया।

17 वर्षीय भारतीय निशानेबाज़ इससे पहले 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में इस साल म्युनिक, नई दिल्ली और बीजिंग में हुए वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुकी है। ऐसे में एक बार फिर गोल्ड जीतकर उन्होंने अपने हुनर का प्रमाण पेश किया है।

दबाव में निखरा प्रदर्शन

क्वालिफिकेशन राउंड में आठवें स्थान पर रहने के बाद भाकर ने फाइनल में दबाव की स्थिति में बेहद ही शानदार खेल का मुज़ाहिरा पेश किया। फाइनल में गोल्ड पर अपना कब्ज़ा जमाते हुए उन्होंने इस बात को सही साबित कर दिया कि क्यों उन्हें बड़े मौक़ों का बड़ा खिलाड़ी कहा जाता है।

ISSF वर्ल्ड कप फाइनल में शानदार खेल दिखाते हुए मनु भाकर ने जीता 10 मीटर एयर पिस्टल ख़िताब।

पहले राउंड में अच्छा खेल दिखाते हुए उन्होंने 50.4 का स्कोर किया। इस स्कोर के साथ ही वह इस राउंड में वर्ल्ड चैंपियन वांग क्वियान और सर्बिया की जोराना अरुनोविक से पीछे रहते हुए तीसरे स्थान पर काबिज़ थीं। दूसरे राउंड में जहां क्वियान अपने पहले राउंड की लय को बरक़रार रखने में नाकामयाब रहीं वहीं भाकर और अरुणोविच ने बेहतरीन खेल दिखाते हुए कुछ बेहद ही शानदार निशाने लगाए।

एलिमिनेशन राउंड में भाकर और अरुनोविक के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली लेकिन दबाव में भाकर सर्बियन निशानेबाज़ पर भारी पड़ती हुई दिखाई दी। अरुनोविक ने जहां पहले एलिमिनेशन राउंड में 9.6 और 9.9 का स्कोर किया वहीं भारतीय निशानेबाज़ ने 10.0 और 9.9 का स्कोर कर अपने इरादे साफ ज़ाहिर कर दिए। इसके बाद भाकर के लिए चीज़ें और उनके हक़ में चली गई जब उन्होंने अरुनोविक के 9.6 और 9.7 स्कोर के मुकाबले 10.7 और 10.4 के स्कोर किए।

इसके बाद बढ़त बनाते हुए भाकर ने 244.7 के शानदार स्कोर के साथ मुकाबले को अपने नाम करते हुए गोल्ड मेडल पर अपना कब्ज़ा जमाया। दूसरे स्थान पर सर्बिया की जोराना अरुनोविक रहीं जिन्होंने 241.9 स्कोर करते हुए सिल्वर मेडल जीता जबकि चीन की वांग क्वियान 221.8 के स्कोर के साथ ब्रॉन्ज़ मेडल अपने नाम करने में सफल रहीं।

छठे स्थान पर रहीं यशस्विनी

इस स्पर्धा में जहां भाकर ने शीर्ष स्थान पर रहते हुए गोल्ड मेडल हासिल किया वहीं भारत की यशस्विनी सिंह देसवाल छठे स्थान पर रहीं। इस साल रियो वर्ल्ड कप में अपने देश की तरफ से ओलंपिक कोटा हासिल कर चुकी 22 वर्षीय यह भारतीय निशानेबाज़ चीनी ताइपे की चिया यिंग वू से बेहद ही करीबी मुकाबले में हारकर प्रतियोगिता से बाहर हुईं।

वर्मा और चौधरी को हाथ लगी निराशा

भारतीय पुरुष निशानेबाज़ों की बात करें तो भारत के दो शीर्ष वरीयता प्राप्त निशानेबाज़ अभिषेक वर्मा और सौरभ चौधरी के लिए नतीजे उनके हक़ में नहीं रहे। दरअसल, पुरुषों की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में अभिषेक पांचवें और सौरभ छठे पायदान पर रहते हुए प्रतियोगिता से बाहर हो गए।