रोड टू टोक्यो: बुडापेस्ट जूडो मीट के लिए भारत ने की पांच सदस्यीय दल की घोषणा

यह इवेंट वर्ल्ड जूडो टूर का हिस्सा है और इसमें मिलने वाले रैंकिंग अंक प्रतिभागियों को अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने में मदद कर सकते हैं।

लेखक रितेश जायसवाल ·

पूर्व ओलंपियन अवतार सिंह (Avtar Singh) और उच्च श्रेणी के जसलीन सिंह सैनी (Jasleen Singh Saini) सहित पांच जुडोका हंगरी में बुडापेस्ट ग्रैंड स्लैम में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन (IJF) प्रतियोगिता को 23 से 26 अक्टूबर तक आयोजित किया जाना है।

भारतीय दल में तीन पुरुष और दो महिला जुडोक शामिल हैं। 2016 के रियो ओलंपिक में भाग लेने वाले अवतार सिंह (100 किग्रा) पुरुषों के समूह में टार्गेट ओलंपिक पोडियम स्कीम (TOPS) के तहत विकासात्मक एथलीटों के समूह में जसलीन सिंह सैनी (Jasleen Singh Saini) और 24 वर्षीय विजय यादव (Vijay Yadav) (60 किग्रा) के साथ शामिल होंगे।

मणिपुर की सुशीला देवी और दिल्ली की तुलिका मान (+100 किग्रा) में महिला प्रतिनिधि होंगी। पांचों जूडोका कोच जियावन शर्मा के साथ हंगरी की यात्रा के लिए शामिल होंगे और इस छह सदस्यीय दल का पूरा खर्च भारत सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।

2016 रियो ओलंपिक में जूडो में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले अवतार सिंह बुडापेस्ट की यात्रा करेंगे।

यह इवेंट वर्ल्ड जूडो टूर का हिस्सा है, जिसके रैंकिंग अंक प्रतिभागियों को अगले साल टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने में मदद कर सकते हैं।

आपको बता दें, इन पांच प्रतिभागियों को विश्व रैंकिंग के आधार पर चुना गया था, क्योंकि उनके पास टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने की उच्च संभावनाएं है। उन्हें सीनियर राष्ट्रीय रैंकिंग चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रतियोगी भी माना जाता है।

अपने 48 किग्रा भारवर्ग में विश्व में 41 वें स्थान पर काबिज़ सुशीला देवी 833 ओलंपिक क्वालिफिकेशन अंकों के साथ सबसे अधिक रैंक वाली भारतीय महिला हैं, जबकि 854 ओलंपिक क्वालिफिकेशन अंकों के साथ 66Kk ब्रैकेट में जसलीन सिंह सैनी 56 वें स्थान पर काबिज़ हैं और पुरुषों के ड्रॉ में शीर्ष पर हैं।

22 वर्षीय जसलीन ने कहा, “मेरा उद्देश्य ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतना है और मुझे इसके लिए बहुत विश्वास है, क्योंकि मैंने इसके लिए बहुत मेहनत की है। मैं उनके समर्थन के लिए सरकार का भी बहुत आभारी हूं।”

भारतीय दल 19 अक्टूबर को हंगरी के लिए रवाना होगा, लेकिन अपनी उड़ान से पहले उन्हें दो कोविड टेस्ट में नेगेटिव आना होगा – एक टेस्ट पांच दिन पहले और दूसरा 48 घंटे पहले होगा। इसके बाद हंगरी में उनका एक बार फिर से टेस्ट होगा।

81 देशों के 645 प्रतियोगियों के साथ IJF इवेंट में भाग लेने वाले सभी लोग इस दौरान बायो-बबल के अंदर रहेंगे।