मेज़बान असम ने खेलो इंडिया में लॉन बॉल्स में किया कमाल

सुराजीत बुर्हागोहेन ने मेज़बान राज्य का परचम लहराने की कोशिश रखी जारी, तो महाराष्ट्र ने दो और स्वर्ण पदक अपनी झोली में डालते हुए दबदबा क़ायम रखा

लेखक ओलंपिक चैनल ·

एक तरफ़ पूरा देश किसानों के अलग अलग त्योहार के जश्न में डूबा हुआ था तो वहीं मेज़बान राज्य असम गुवाहाटी में चल रहे 2020 खेलो इंडिया यूथ गेम्स में बुधवार को अपनी झोली में पदकों की संख्या बढ़ाने पर ज़ोर देने में लगा था।

जहां असम के लॉन बॉलर्स ने शानदार प्रदर्शन करते हुए सभी कैटेगिरी में से सिर्फ़ एक को छोड़कर सभी में स्वर्ण पदक अपने नाम किए।

इसका नेतृत्व असम के 19 वर्षीय लॉन बॉलर सुराजीत बुर्हागोहेन ने किया, जहां उन्होंने अंडर-21 बॉयज़ एकल फ़ाइनल में झारखंड के अभिषेक लकड़ा को 21-10 से शिकस्त देते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया। इसके अलावा लॉन बॉल्स में ही बॉयज़ फ़ोर्स और गर्ल्स ट्रिपल ने भी निराश नहीं किया।

गर्ल्स ट्रिपल फ़ाइनल मुक़ाबले की एक तस्वीर जो बुधवार को खेला गया। तस्वीर साभार: खेलो इंडिया मीडिया

बॉयज़ फ़ोर्स टीम में सान्ज़ियो पांडे, सियोन शिव महांता, रॉक्टिम कश्यप और अभिलाख हांडिक ने पश्चिम बंगाल के निकुंज अग्रवाल, वेंकटेश बगरोडिया, अनिरुध अग्रवाल और प्रकक्षित रॉय चौधरी को 23-10 से हराकर एक और गोल्ड मेडल अपने नाम किया।

गर्ल्स कैटेगिरी में सुमन कुमारी, सुरंजना और अनीता ने तो अपनी प्रतिद्वंदी टीम दिल्ली को मौक़ा तक नहीं दिया और प्रेकक्षा, तानवी और राजस्वी को 23-7 से मात दे दी। असम को लॉन बॉल्स के गर्ल्स पेयर कैटेगिरी में ही निराशा हाथ लगी जहां अभया भारती और सोनी कुमारी गुप्ता को सिर्फ़ एक अंक के अंतर से बिहार की ख़ुशबू कुमारी और निखत ख़ातून से सेमीफ़ाइनल में शिकस्त झेलनी पड़ी।

महाराष्ट्र सबसे आगे

दूसरी तरफ़, पिछली बार के ओवरऑल विजेता महाराष्ट्र के लिए खेलो इंडिया का ये संस्करण भी शानदार जा रहा है, बुधवार को भी दो और स्वर्ण पदक अपनी झोली में डालते हुए महाराष्ट्र नंबर-1 की कुर्सी को और भी मज़बूत कर चुका है।

महाराष्ट्र के लिए एक स्वर्ण साइकलिंग में मयूर पवार ने दिलाए तो पूजा दानोले ने दौड़ में अपने राज्य को पदक जिताया।

महाराष्ट्र के मयूर पवार और अंडमान निकोबार के पॉल कॉलिंगवुड ने बुधवार को स्प्रिंट रेसिंग का अद्भुत नज़ारा पेश किया। तस्वीर साभार: खेलो इंडिया मीडिया

अंडर-21 बॉयज़ स्प्रिंट फ़ाइनल में पवार ने अंडमान निकोबार के पॉल कॉलिंगवुड को बेहद क़रीबी मुक़ाबले में शिकस्त देकर स्वर्ण पदक पर कब्ज़ा जमाया। पवार ने जहां फ़िनिश लाइन 11.306 सेकंड्स में पूरी की थी तो कॉलिंगवुड की टाइमिंग 11.576 सेकंड्स रही।

दूसरी तरफ़ दानोले को स्वर्ण पदक जीतने में कोई भी परेशानी नहीं हुई और उन्होंने गर्ल्स अंडर-17 कैटेगिरी के व्यक्तिगत स्प्रिंट प्रतिस्पर्धा में आसानी से जीत हासिल की।

महाराष्ट्र की इस एथलीट को उनकी प्रतिद्वंदी को जो उन्हीं की राज्य से थीं उनसे ज़्यादा चुनौती नहीं मिली। बिसेशोरी देवी को दानोले ने 6 लैप रेस में शुरू से ही पीछे रखा था, दानोले ने 2:47.415 की टाइमिंग के साथ गोल्ड मेडल अपने नाम किया जबकि बिसेशोरी की टाइमिंग 2:57.293 रही।

इसी के साथ अब महाराष्ट्र पदक तालिका में 28 स्वर्ण, 32 रजत और 50 कांस्य पदकों के साथ नंबर-1 पर क़ाबिज़ है जबकि दूसरे नंबर पर मौजूद हरियाणा के नाम 23 गोल्ड, 25 सिल्वर और 25 ब्रॉन्ज़ मेडल हैं।