तैराकी में रहा कर्नाटक का दबदबा, मेज़बान असम ने भी चखा जीत का स्वाद

शनिवार को खेलो इंडिया यूथ गेम्स में कर्नाटक के वर्चस्व को ख़त्म करते हुए शिवांगी सरमा ने अपना तीसरा स्वर्ण पदक जीता

लेखक ओलंपिक चैनल ·

गुवाहाटी में शनिवार को खेलो इंडिया यूथ गेम्स के 9वें दिन स्थानीय सितारा शिवांगी सरमा ने वहीं से अपने प्रदर्शन को आगे बढ़ाया जहां उन्होंने शुक्रवार को छोड़ा था। उन्होंने स्थानीय प्रशंसकों को ख़ुश होने का तब और भी मौक़ा दिया जब अंडर-21 वर्ग में तीसरा गोल्ड हासिल किया।

सभी राज्यों की ज़बर्दस्त प्रतिस्पर्धा के बीच कर्नाटक ने शनिवार के दिन तैराकी में कुल 9 पदक लेते हुए सभी को पीछे छोड़ दिया।

जबकि पंजाब के शूटर्स नीरज कुमार और सरताज तिवाना ने अंडर-21 पुरुष इवेंट के 50 मीटर राइफ़ल 3 पोजिशन में 1-2 स्थान हासिल किया।

तैराकी में शिवांगी का शानदार प्रदर्शन

शुक्रवार को तैराकी प्रतियोगिता के पहले दिन दो स्वर्ण पदक जीतने वाली असम की तैराक शिवांगी सरमा का शानदार प्रदर्शन शनिवार को भी जारी रहा। उन्होंने तीसरा स्वर्ण पदक हासिल किया और कर्नाटक के दमदार तैराकों को ख़ूब परेशान किया। 17 वर्षीय इस तैराक ने अंडर-21 गर्ल्स 400 मीटर फ़्रीस्टाइल में 4:34.55 की टाइमिंग के साथ तमिलनाडु की तैराक भाविका दुगर (4:55.64) को पीछे छोड़ दिया।

अपनी इस क़ामयाबी के बात मीडिया से मुख़ातिब होते हुए शिवांगी ने कहा, ‘’मैं बहुत ख़ुशक़िस्मत हूं कि मेरे अभिभावक का साथ मुझे मिला, और मैंने ये पदक इसलिए हासिल किया क्योंकि मुझे अपनी मेहनत और कठिन परिश्रम पर पूरा भरोसा था, जो मैं लगातार करती आ रही थी।‘’

शिवांगी ने ये भी कहा कि उनकी ये क़ामयाबी उस बड़े सपने की ओर एक छोटा सा क़दम है जो उन्होंने देख रखा है, और वह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर और ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करना।

‘’असम के लिए तीसरा स्वर्ण पदक जीतने से मैं बेहद ख़ुश हूं, ये ऐसा है जो मैं हमेशा से चाहती थी। हालांकि अगर बड़ी तस्वीर देखी जाए तो ये मेरे लिए बस एक शुरुआत है, क्योंकि मेरा सपना है कि मैं भारत का प्रतिनिधित्व कई बड़े स्तर पर करूं, और देश का मान बढ़ाऊं।‘’

कर्नाटक ने किया कमाल

शनिवार की जो बड़ी बातों में से एक रही वह कर्नाटक का देखने लायक़ दबदबा भी था, इस राज्य के तैराकों ने कुल 9 पदक जीते जिनमें 4 स्वर्ण पदक शामिल हैं।

ख़ुशी दिनेश ने कर्नाटक के लिए अंडर-17 गर्ल्स के 400 मीटर फ़्रीस्टाइल इवेंट में तीसरा स्वर्ण पदक जीता, जहां उनकी टाइमिंग रही 4:35.28। जबकि नैना वेंकटेश ने अंडर-17 गर्ल्स के 100 मीटर बैकस्ट्रोक में अपना दूसरा स्वर्ण पदक (1:06.47) हासिल किया।

कर्नाटक बॉयज़ में शनिवार को स्वर्ण पदक जीतने वाले में श्रीहरि नटराज भी शामिल थे, जिन्होंने अंडर-21 बॉयज़ के 100 मीटर बैकस्ट्रोक में 56.53 की टाइमिंग के साथ रेस ख़त्म की। जबकि 1500 मीटर फ़्रीस्टाइल में 16:18.46 की टाइमिंग के साथ अनीश एस गौड़ा ने गोल्ड मेडल पर कब्ज़ा जमाया।

पंजाब ने साधा 1-2 पर निशाना

शनिवार को पंजाब के लिए शूटिंग में क़ामयाबी हाथ लगी, जब नीरज कुमार और सरताज तिवाना ने अंडर-21 पुरुष वर्ग के 50 मीटर राइफ़ल-3 पोजिशन में क्रमश: स्वर्ण और रजत पदक जीता।

पूरी प्रतियोगिता में पंजाब के इन दो शूटरों के बीच शानदार प्रतिस्पर्धा देखने को मिल रही थी, जहां नीरज ने 452.3 के स्कोर के साथ बाज़ी मार ली।

‘’मैंने इस प्रतियोगिता के लिए जमकर तैयारी की थी, लिहाज़ा मुझे अपने आप पर पूरा भरोसा था।‘’ : नीरज कुमार

आर्मी में कार्यरत अपने पिता से प्रेरित नीरज ने नेश्नल कैडेट कॉप्स के साथ भी जुड़े हुए हैं, जहां से उन्होंने शूटिंग की शुरुआत की और फिर 2017 जूनियर नेश्नल में उन्होंने स्वर्ण पदक भी जीता था जबकि 2018 सीनियर नेश्नल में उन्हें कांस्य पदक हासिल हुआ था।

नीरज के साथी और उनके प्रतिस्पर्धी सरताज ने नीरज की जीत में भी ख़ुशी ज़ाहिर की, और कहा, ‘’मैं अपने दोस्त नीरज के लिए बहुत ख़ुश हूं। हम दोनों ही फ़ाइनल में एक दूसरे के बिल्कुल क़रीब क़रीब थे, मैं अपने राज्य पंजाब की क़ामयाबी के लिए भी ख़ुश हूं।‘’