खेलो इंडिया में महाराष्ट्र को पीछे छोड़ हरियाणा पहुंचा सबसे ऊपर

खेलो इंडिया यूथ गेम्स के चौथे दिन कबड्डी और तीरंदाज़ी में कमाल का प्रदर्शन करते हुए हरियाणा पदक तालिका में पहले पायदान पर पहुंचा

लेखक ओलंपिक चैनल ·

गुवाहाटी में चल रहे खेलो इंडिया यूथ गेम्स के चौथे दिन हरियाणा ने एक बार फिर साबित कर दिया कि क्यों उन्हें भारत में खेलों का सिरमौर कहा जाता है। हरियाणा ने महाराष्ट्र को पीछे छोड़ते हुए अब पदक तालिका में सबसे ऊपर का स्थान हासिल कर लिया है।

उत्तर भारत के इस राज्य ने एक दिन में 12 गोल्ड मेडल अपने नाम किए हैं, जिनमें 4 कबड्डी और 3-3 तीरंदाज़ी और एथलेटिक्स में हासिल हुआ है, जबकि एक-एक साइकलिंग और जिम्नास्टिक में आया। इनकी बदौलत इस राज्य ने छठे स्थान से सीधे पहले पायदान पर छलांग लगा दी है। चौथे दिन के बाद पदक तालिका में 17 स्वर्ण, 16 रजत और 14 कांस्य पदकों के साथ हरियाणा नंबर एक पर है, तो उनके ठीक पीछे 16 स्वर्ण, 20 रजत और 35 कांस्य के साथ महाराष्ट्र खड़ा है।

कबड्डी में हरियाणा का वर्चस्व

2020 खेलो इंडिया यूथ गेम्स में उम्मीद थी कि हरियाणा कबड्डी में सबसे आगे रहेगा, और हुआ भी ठीक वैसा ही। अंडर-21 और अंडर-17 की बॉयज़ टीम और अंडर-17 की गर्ल्स टीम ने तो बिना किसी परेशानी के एकतरफ़ा मुक़ाबलों में स्वर्ण पदक हासिल किया, हालांकि अंडर-21 गर्ल्स टीम को हिमाचल प्रदेश की टीम ने टक्कर ज़रूर दी लेकिन फिर भी कबड्डी का चौथा गोल्ड भी उन्होंने ही हरियाणा को दिलाया।

हरियाणा ने अंडर-21 कैटेगिरी के कबड्डी फ़ाइनल में महाराष्ट्र पर 41-27 से दर्ज की धमाकेदार जीत और जीता स्वर्ण पदक। तस्वीर साभार: खेलो इंडिया मीडिया

कबड्डी

हिमालय की गोद में बसे हिमाचल प्रदेश ने हाफ़ टाइम तक 6 प्वाइंट्स से पीछे होने के बावजूद बेहतरीन वापसी की और स्कोर बराबर करते हुए मैच को अतिरिक्त समय तक ले गए। लेकिन ज़्यादा देर तक वह हरियाणा को मैच से बाहर नहीं कर पाए और आख़िरकार अंडर-21 गर्ल्स में भी स्वर्ण पदक हरियाणा ने 35-32 से अपने नाम कर लिया।

उनका दबदबा कबड्डी के साथ साथ तीरंदाज़ी में भी नज़र आया और हरियाणा ने यहां कुल 6 पदक जीते जिसमें 3 स्वर्ण पदक थे।

रिकर्व कैटेगिरी में हिमानी कुमारी ने महाराष्ट्र की तिशा सचेती को 7-3 से शिकस्त देते हुए अंडर-21 गर्ल्स में स्वर्ण पदक पर कब्ज़ा जमाया। जबकि अंडर-21 बॉयज़ कैटेगिरी में सनी को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा। अंडर-17 गर्ल्स फ़ाइनल में तो दोनों ही प्रतिभागी हरियाणा की थीं जहां तिशा पुनिया ने तमन्ना को 6-2 से शिकस्त देते हुए गोल्ड मेडल जीता। जबकि इसी कैटेगिरी में बॉयज़ फ़ाइनल में हरियाणा के पारस हूडा को चंडीगढ़ के दिव्यांश से 4-6 से हार मिली।

वहीं बात अगर कंपाउंड कैटेगिरी की करें तो हरियाणा को एकमात्र स्वर्ण पदक अंडर-21 बॉयज़ कैटेगिरी में आया, जहां ऋषभ यादव ने राजस्थान के मुकुल शर्मा को फ़ाइनल में 143-140 से मात दी।

हरियाणा की हिमानी कुमारी (मध्य) खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 में स्वर्ण पदक के साथ। तस्वीर साभार: खेलो इंडिया मीडिया

हरियाणा के लिए फ़ील्ड दिवस

हरियाणा की क़ामयाबी सिर्फ़ कबड्डी और आर्चेरी तक ही सीमित नहीं थी, उनके एथलिटों ने भी शानदार प्रदर्शन करते हुए इंदिरा गांधी एथलेटीक स्टेडियम में कई स्वर्ण पदक अपने नाम किए।

अंडर-21 बॉयज़ प्रतिस्पर्धा में शिरकत करते हुए प्रशांत कन्हैया ने पोल वॉल्ट में रिकॉर्ड तोड़ते हुए स्वर्ण पदक पर कब्ज़ा जमाया। हरियाणा के इस एथलीट ने 5.10 मीटर की दूरी तय करते हुए न सिर्फ़ अव्वल आए बल्कि पिछले सत्र में पुणे में बनाए गए राकेश गोंड के 4.70 मीटर के रिकॉर्ड को भी ध्वस्त कर दिया।

उत्तर प्रदेश के शेखर पांडे दूसरे नंबर पर रहे, उन्होंने 4.90 मीटर की दूरी तय की, जबकि महाराष्ट्र के दीपक रामसेवक ने 4.80 मीटर की दूरी के साथ पोडियम पर तीसरा स्थान हासिल किया।

हैमर थ्रो में हरियाणा के रवि को गोल्ड मेडल मिला, उन्होंने 66.01 मीटर की दूरी तय की, जबकि राजस्थान के जयचंद बलराम (64.63 मीटर) को रजत और उत्तर प्रदेश के अफ़सर अहमद (60.48 मीटर) को कांस्य पदक हासिल हुआ।

हरियाणा के प्रशांत कन्हैया ने सोमवार को पोल वॉल्ट में नए रिकॉर्ड के साथ गोल्ड मेडल जीता

अंडर-17 बॉयज़ हाई जंप में हरियाणा के दिपांशु राठी को 1.94 मीटर के स्कोर के साथ स्वर्ण पदक हासिल हुआ, जबकि महाराष्ट्र के धैर्यशाली गायकवाड़ और अनिकेत माने को क्रमश: रजत और कांस्य पदक प्राप्त हुआ।