हरियाणा करेगा 2021 खेलो इंडिया यूथ गेम्स की मेज़बानी    

इसका आयोजन आमतौर पर साल के जनवरी महीने में किया जाता है, लेकिन इस बार इसे अगले साल टोक्यो ओलंपिक के पूरा होने के बाद आयोजित किया जाएगा।

भारतीय केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने शनिवार को घोषणा करते हुए कहा कि 2021 खेलो इंडिया यूथ गेम्स हरियाणा के पंचकूला में आयोजित किए जाएंगे। इसके साथ ही इस बार खेलो इंडिया यूथ गेम्स टोक्यो ओलंपिक के ख़त्म होने के बाद आयोजित किए जाएंगे। ग़ौरतलब है कि टोक्यो ओलंपिक 8 अगस्त को समाप्त हो जाएंगे। ऐसे में KIYG जनवरी में आयोजित नहीं हो सकेगा। 

एक ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में किरेन रिजिजू ने कहा, "खेलो इंडिया का देश भर से ज़मीनी स्तर की प्रतिभा की पहचान करने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है, इससे निकले एथलीटों ने अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है।"

शनिवार को मीडिया ब्रीफिंग में भारतीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू। फोटो: SAI
शनिवार को मीडिया ब्रीफिंग में भारतीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू। फोटो: SAIशनिवार को मीडिया ब्रीफिंग में भारतीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू। फोटो: SAI

2018 में शुरू हुआ खेलो इंडिया यूथ गेम्स, घरेलू कैलेंडर में बहुप्रतीक्षित इवेंट्स में से एक रहा है, जिसमें 10,000 से अधिक एथलीट गुवाहाटी में पिछले संस्करण में भाग ले चुके हैं। 

हरियाणा के समृद्ध खेल इतिहास को देखते हुए खेल मंत्री का मानना था कि खेलो इंडिया यूथ गेम्स को इसी राज्य को सौंपना सही दिशा में एक कदम था।

“हरियाणा में पहले से ही एक बहुत मजबूत खेल संस्कृति है और इसने देश को अपने कुछ सर्वश्रेष्ठ एथलीट दिए हैं।” 

उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा, "मुझे यकीन है कि राज्य में खेलों की मेजबानी होने के साथ, हरियाणा के अधिक से अधिक महत्वाकांक्षी एथलीटों को एक प्रतिस्पर्धी खेल खेलने के लिए प्रेरित किया जाएगा।" 

खेल में सबसे आगे है हरियाणा

इस बीच पूर्व भारतीय हॉकी टीम के कप्तान संदीप सिंह (Sandeep Singh) का मानना है कि हरियाणा को खेलो इंडिया यूथ गेम्स की मेज़बानी देना भारतीय खेलों में राज्य के योगदान का असर है।

हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह ने कहा, “हरियाणा हमेशा खेलों में आगे रहा है। अगर आप ओलंपिक या एशियाई खेलों या कॉमनवेल्थ गेम्स जैसे किसी अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम पर नज़र डाले तो देखेंगे कि देश के लिए हरियाणा के पदक जीतने वाले एथलीटों की संख्या हमेशा अधिक रही है।”

“लेकिन जब भी किसी खेल आयोजन की मेजबानी करने की बात आई है, तो हमें मुश्किल से एक अवसर मिलता है। लेकिन मुझे खुशी है कि अब इसमें बदलाव आया है।” 

हरियाणा, खेलो इंडिया यूथ गेम्स में सबसे प्रमुख टीमों में से एक रहा है, जहां उसने 2018 में उद्घाटन संस्करण अपने नाम किया। तो वहीं इस साल की शुरुआत में वो महाराष्ट्र के बाद दूसरे स्थान पर थे और 200 पदक जीते थे।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? इसे अपने दोस्तों के साथ साझा करें!