खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021: टूर्नामेंट को रोमांचक बनाने के लिए हुई कई गेम्स की एंट्री

हरियाणा में खेले जाने वाले 2021 सीजन में गतका, कलारीपयट्टू, थांग-ता और मलखंब जैसे खेल शामिल हुए हैं।

लेखक लक्ष्य शर्मा ·

खेल मंत्रालय ने 2021 में हरियाणा में होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स में गतका (Gatka), कलारीपयट्टू (Kalaripayattu), थांग-ता (Thang-Ta) और मलखंब (Mallakhamba) को शामिल किया है। अब सरकार के इस फैसले से भारत के प्राचीन खेलों को एक बार फिर प्रसिद्धी मिलने की उम्मीद जगी है।

खेलो इंडिया गेम्स की शुरुआत साल 2018 में शुरू हुई थी और अब यह देश के युवा खिलाड़ियों का पसंदीदा टूर्नामेंट बन गया है। इस साल गुवाहाटी, असम में हुए पिछले सीजन में 20 तरह के खेलों में 10 हजार से ज्यादा एथलीट्स ने हिस्सा लिया था।

अंडर -17 आयु वर्ग में आयोजित, खेलो इंडिया यूथ गेम्स का उद्देश्य देश में बढ़ती प्रतिभाओं को अपने कौशल का प्रदर्शन करने के लिए एक राष्ट्रीय मंच प्रदान करना है। इसी के साथ खेलो इंडिया के जरिए भारत के पुराने खेलों को भी जोड़ने की कोशिश की गई है।

फोटो: कलारीपयट्टू मार्शल आर्ट का एक रूप है और इसकी शुरुआत केरल से होती है। फोटो: SAI

भारत के खेलमंत्री किरण रिजिजू (Kiren Rijiju) ने कहा कि “भारत में खेलो का पुराना इतिहास रहा है और हमारे मंत्रालय की कोशिश है कि इन खेलों को फिर से समृद्ध और प्रसिद्ध बनाए। खेलो इंडिया गेम्स से बेहतर कोई प्लेटफॉर्म नहीं है जहां इन खेलों के एथलीट प्रतिस्पर्धा कर सकें।”

इसके अलावा उन्होंने कहा कि “खेलों की बहुत लोकप्रियता है और मुझे विश्वास है कि 2021 में खेले जाने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स में योगासन के साथ-साथ इन चार खेलों के प्रति लोग अपना उत्साह दिखाएंगे। आने वाले सालों में कुछ इस तरह के और खेलों को भी टूर्नामेंट से जोड़ा जाएगा।”

2021 के खेलो यूथ गेम्स में शामिल चारों खेलों का अपना इतिहास है और यह भारत के अलग-अलग हिस्सों में खेला जाता है। जबकि कलारीपयट्टु केरल में खेला जाता है, यह मार्शल आर्ट का एक रूप  है, वहीं महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में मलखंबका अधिक प्रचलन है। मल्लखंबा में जिमनास्ट एक खंभे और रस्सी का उपयोग करके विभिन्न आसन करते हैं।

गतका पंजाब की निहंग सिख योद्धाओं की एक पारंपरिक युद्ध शैली है, जिसका इस्तेमाल बड़े पैमाने पर पिछले दिनों आत्मरक्षा में किया गया था। हाल के दिनों में, इसे एक कला के रूप में भी मान्यता दी गई है।

खेलो इंडिया यूथ गेम्स में इसकी एंट्री पंजाब सरकार की 2015 में बनी राज्य खेल नीति में सूचीबद्ध होने के कारण हुई है, जिसके अंतर्गत खिलाड़ियों को विश्वविद्यालयों और राज्य सरकार की नौकरियों में तीन प्रतिशत आरक्षित सीटों का लाभ मिलता है।

इस बीच, थांग-ता एक मणिपुरी मार्शल आर्ट है जो खेलो इंडिया की राष्ट्रीय उपस्थिति में एक बार फिर सबका ध्यान खींचने की उम्मीद कर रहा है।