ओलंपिक में जाने से पहले होगा एथलीटों का टीकाकरण- किरेन रिजिजू 

भारतीय खेल मंत्री ने आश्वासन दिया कि टोक्यो गेम्स में जाने से पहले सभी एथलीटों को लगाया जायेगा कोरोना का टीका  

लेखक दिनेश चंद शर्मा ·

अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) ने एक 'प्लेबुक' प्रकाशित की है, जिसमें जुलाई में टोक्यो में होने वाले सबसे बड़े आयोजन का हिस्सा बनने जा रहे 11,000-विलक्षण एथलीटों और हजारों अन्य लोगों की स्थिति को परिभाषित किया गया है।

इसी दिन भारत सरकार ने आश्वासन दिया कि टोक्यो गेम्स के लिए उड़ान भरने से पहले पूरे भारतीय दल का टीकाकरण किया जाएगा।

IOC ने पहले ही सभी भाग लेने वाले देशों के साथ बातचीत शुरू कर दी थी ताकि एथलीटों, सहायक कर्मचारियों और अधिकारियों को आपातकालीन स्थिति में कोविड-19 वैक्सीन पहुंचाई जा सके। खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने बुधवार को घोषणा कि, हालांकि पूरी प्राथमिकता सूची की रूपरेखा स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा तैयार की जाएगी। जबकि खेल विभाग यह सुनिश्चित करेगा कि जब उनकी बारी आएगी तो ओलंपिक में जाने वाले एथलीटों को प्राथमिकता मिले।

रिजिजू ने फिट इंडिया इवेंट के मौके पर कहा, "टीकाकरण को लेकर सरकार की नीति बहुत स्पष्ट है। सबसे पहले वैक्सीन वॉरियर्स को लगाई जाएगी, जिसमें चिकित्सा और सुरक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले लोग शामिल हैं। ओलंपिक में जाने वाले एथलीटों और उनके प्रशिक्षकों को हमारे मंत्रालय में प्राथमिकता दी जाएगी, लेकिन पूरी प्राथमिकता सूची का निर्धारण स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा किया गया है।"

भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के लोगो की लॉन्चिंग के दौरान खेल मंत्री किरेन रिजिजू

खेल सचिव रवि मित्तल ने भी इस सम्बंध में मंत्री से आग्रह करते हुए कहा, "ओलंपिक में जाने से पहले सभी एथलीटों को टीका लगवाया जाये। जो भी जाता है। समय को ध्यान में रखते हुए हम उन्हें दो डोज दे सकते हैं।"

हालांकि, IOC ने अपने दिशा—निर्देशों में उल्लेख किया है कि खेलों से पहले एथलीटों को टीका लगाया जाना अनिवार्य नहीं है, लेकिन, जिन प्रतिभागियों को एक मौका मिला है, उन्हें कोविड—19 के प्रोटोकॉल की पालन करनी चाहिए, जैसे कि सामाजिक दूरी रखना, मास्क का उपयोग और कोरोना का टेस्ट कराना।

रिजिजू ने एक बार फिर जोर देकर कहा कि टोक्यो के लिए तैयारी करने वाले एथलीटों के लिए धन की कोई कमी नहीं होगी। केंद्रीय बजट में खेल मंत्रालय को आगामी वित्तीय वर्ष में अपने विविध कार्यक्रमों के संचालन के लिए 2596.14 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है।

मंत्री ने कहा, "खेल मंत्रालय के सामने बजट को लेकर कोई परेशानी नहीं है। जो भी आवश्यक होगा, वो दिया जाएगा। कुछ लोगों ने लिखा था कि ओलंपिक साल में सरकार ने खेल मंत्रालय के बजट में कटौती की है। जबकि ऐसा नहीं है... यदि आवश्यकता और हुई तो इसमें संशोधन कराकर और बजट की मांग की जाएगी।"