डेनमार्क ओपन बैडमिंटन के दूसरे दौर में पहुंचे भारतीय शटलर लक्ष्य सेन

मार्च के बाद फिर से बैडमिंटन टूर्नामेंट शुरू हो गया है, जहां भारतीय शटलर ने शानदार प्रदर्शन करते हुए दूसरे दौर में जगह बना ली है।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

मंगलवार को ओडेंस में बैडमिंटन टूर्नामेंट के शुरुआती दौर में फ्रांस के क्रिस्टो पोपोव (Christo Popov) के खिलाफ 21-9, 21-15 से आसान जीत के बाद भारत के लक्ष्य सेन (Lakshya Sen) ने डेनमार्क ओपन 2020 के दूसरे दौर में जगह बना ली है।

सुपर 750 टूर्नामेंट में सिंगल्स के दूसरे दौर में सातवीं वरीयता प्राप्त 19 वर्षीय सेन, बेल्जियम के मैक्सिम मोरेल्स (Maxime Moreels) और डेनमार्क के हैंस-क्रिस्टियन सोलबर्ग विटिंगस (Hans-Kristian Solberg Vittinghus) के बीच मैच के विजेता के खिलाफ खेलेंगे।

लक्ष्य सेन और पोपोव ने पहले गेम के शुरुआत में एक-दूसरे को ज़ोरदार टक्कर दी और स्कोर 5-4 तक पहुंचा दिया। उसके बाद लक्ष्य सेन ने लगातार तीन अंक हासिल कर चार अंकों की बढ़त हासिल कर ली।

17 वर्षीय जूनियर वर्ल्ड नंबर 1 पोपोव ने कुछ शानदार स्मैश के साथ हमला करते हुए भारतीय शटलर को रोकने की कोशिश की, लेकिन सेन ने अपनी लय बरकरार रखी। हालांकि, फ्रांस के बैडमिंटन खिलाड़ी ने अपने स्कोर में दो अंक और जोड़ने में सफलता प्राप्त की।

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन डेनमार्क ओपन 2020 एकल में अंतिम 16 में हैं। कॉपीराइट: Badmintonphoto

जब पहले गेम का स्कोर 10-8 था, तब लक्ष्य सेन ने आक्रामक रूख अपनाते हुए फ्रेंचमैन के हर एक शॉट का जवाब दिया।

सेन के पॉवरफुल स्मैश और बेहतरीन ड्रॉप शॉट का पोपोव के पास कोई जवाब नहीं था, इस तरह भारतीय खिलाड़ी ने और 11 अंक हासिल करते हुए पहला गेम 21-9 से जीत लिया।

एक गेम से पिछड़ने वाले फ्रेंच खिलाड़ी ने दूसरे गेम में अधिक आक्रामक रुख अपनाया, लेकिन लक्ष्य सेन ने इसका भी जवाब ढूंढ लिया। दूसरे गेम में भी शानदार फॉर्म जारी रखते हुए लक्ष्य सेन ने स्कोर को 11-10 कर दिया।

दूसरे गेम में दोनों के बीच कड़ी प्रतिद्वंदता देखने को मिली, 12-12 के स्कोर के बाद सेन ने अपनी रणनीति बदली और उन्होंने पोपोव को नेट पर खिलाने का फैसला किया।

इस चाल को पोपोव समझने में नाकाम रहे और भारतीय खिलाड़ी ने अगले तीन अंक आसानी से हासिल किया और स्कोर 20-14 पर पहुंचा दिया।

पोपोव ने अगला अंक जीतकर लक्ष्य सेन के जीत के इंतजार को और बढ़ा दिया। लेकिन भारतीय खिलाड़ी ने ज्यादा इंतज़ार नहीं किया और स्कोर को 21-15 करते हुए गेम के साथ मुक़ाबला भी अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही लक्ष्य सेन से फ्रांस के पोपोव के खिलाफ अपने जीत का रिकॉर्ड 4-1 कर लिया।

लक्ष्य सेन ने कहा, "मैं काफी आसानी से दूसरे दौर में पहुंच गया।" दूसरे गेम में उन्होंने बढ़त बनाई थी, लेकिन मैंने कुछ ग़लतियाँ की थीं, लेकिन मैं अपनी लय हासिल करने में सफल रहा।

भारतीय शटलर ने कहा, "मैं सात महीने बाद फिर से कोर्ट पर उतर कर बहुत खुश हूं और कोर्ट खेलने का अनुभव पहले जैसा ही रहा।"