टेनिस

टाटा ओपन महाराष्ट्र के अगले दौर में पहुंचे लिएंडर पेस और प्रजनेश गुन्नेश्वरण

लिएंडर पेस ने मैथ्यू एबडेन के साथ मिलकर दिविज शरण और आर्टेम सिताक को सीधे सेटों में हाराया।

लेखक विवेक कुमार सिंह ·

लिएंडर पेस और ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू एबडेन की जोड़ी ने मंगलवार को पुणे में चल रहे टाटा ओपन महाराष्ट्र के राउंड ऑफ 16 मुकाबले में दूसरी वरीयता प्राप्त दिविज शरण और आर्टेम सिताक की जोड़ी को 6-2, 7-6(2) से हराया।

पिछले साल रोहन बोपन्ना के साथ मिलकर डबल्स का खिताब जीतने वाले दिविज शरण पहले दौर से ही बाहर हो गए हैं। दिविज शरण और आर्टेम सिताक की जोड़ी लिएंडर पेस और मैथ्यू एबडेन के सर्विस को रिटर्न करने में कई बार असफल रही, जिसकी वजह से उन्हें अपने ही दो सर्विस गेमों को गंवाना पड़ा।

2020 तक ही टेनिस खेलने की घोषणा करने वाले 46 वर्षीय लिएंडर पेस कुछ पुराने अंदाज में टेनिस खेलते नज़र आए, खासकर उनका नेट-प्ले और शानदार क्रॉस-कोर्ट ने तो सबका दिल ही जीत लिया।

उनकी सर्विस भी बेहतरीन थी, उन्होंने दूसरे सेट के पांचवें गेम में चार ब्रेक प्वाइंट बचाए और अपने साथी के साथ मिलकर आज के मैच में कुल 10 ब्रेक प्वाइंट बचाए। हालांकि इंडो-कीवी जोड़ी ने दूसरे सेट में अच्छा मुकाबला किया, और गेम को टाई-ब्रेक में ले गए।

दिविज शरण और आर्टेम सिताक की जोड़ी को टाई-ब्रेक में लिएंडर पेस और मैथ्यू एबडेन ने कुछ शानदार शॉट्स की मदद से 7-5 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।

राउंड ऑफ 32 के सिंगल्स में भारत के शीर्ष क्रम के खिलाड़ी प्रजनेश गुन्नेश्वरण ने लंबे समय तक चले मुकाबले में जर्मनी के यानिक मेडेन के खिलाफ 7-6 (2), 7-6 (3) से जीत दर्ज की।

प्रजनेश गुन्नेश्वरण मैच की शुरूआत से ही सहज लग रहे थे, हार्ड-कोर्ट की सतह पर थोड़ी अधिक उछाल को देखते हुए यानिक मेडेन की तुलना में उन्होंने अपने लंबे फ्रेम का उपयोग करके कई शानदार रिटर्न दिए।

30 वर्षीय ने पहले सेट के आठवें गेम में अपने प्रतिद्वंदी की सर्विस को तोड़ा, और 5-3 बढ़त हासिल करने के बाद सेट में सर्विस करने का मौका हासिल किया। हालांकि, यानिक मेडेन ने उनकी सर्विस को तोड़ा और मुकाबले को टाई-ब्रेकर में पहुंचाया, जिसे भारतीय खिलाड़ी ने 7-4 से जीत लिया।

दोनों ने दूसरे सेट में एक-दूसरे को ज़्यादा ब्रेक प्वाइंट हासिल करने के मौके नहीं दिए, जिसका मतलब था कि मैच में एक और टाई-ब्रेकर का खेला जाना। प्रजनेश गुन्नेश्वरण कलाई की चोट से जूझ रहे थे, जो उनके फोरहैंड को प्रभावित कर रहा था, जिसकी वजह से उन्होंने पूरे मुकाबले में शॉट एप्लेंटी के साथ खेला और जीत के साथ मुकाबले का अंत किया। 

दुनिया के 122वें रैंक के गुन्नेश्वरण अब 6 फरवरी को प्री-क्वार्टरफाइनस में एटीपी 250 इवेंट में चौथी वरियता प्राप्त कोरिया के नो सुन-वू का सामना करेंगे। 

स्थानीय खिलाड़ी अर्जुन काधे का टाटा ओपन महाराष्ट्र का सफर अच्छा नहीं रहा, वो पहले ही दिन राउंड ऑफ 32 के दौर में चेक गणराज्य के जिरी वेसेली से 2-6, 4-6 से हार गए।

मैच के पहले ही गेम में अर्जुन काधे पिछड़ गए थे और पूरे गेम में हमेशा ही पिछड़े रहे। जिरी वेस्ली ने पांचवें गेम में फिर उनकी सर्विस ब्रेक की और लगभग 30 मिनट में सेट को अपने नाम कर लिया।

हालांकि इस भारतीय खिलाड़ी ने दूसरे सेट में बेहतर प्रदर्शन किया, लेकिन अपने प्रतिद्वंदी के सामने ज्यादा देर तक टिक नहीं सके, और इस सेट को भी  अर्जुन काधे 4-6 से गंवा बैठे।

प्री-क्वार्टर में जिरी वेस्ली का सामना कल सातवीं वरीयता प्राप्त इटली के सल्वाटोर कारुसो से होगा।

इस बीच अर्जुन काधे डबल्स मुकाबले में कल एक्शन में दिखेंगे। वो पिछले चैंपियन रोहन बोपन्ना के साथ जोड़ी बनाई हैं, जो कल राउंड ऑफ 16 के दौर में फ्रांस के एंटोनी होआंग और बेनोइट पायर का सामना करेंगे।

सुमित नागल को डबल्स से उम्मीद

जबकि सुमित नागल की सिंगल्स की उम्मीदें कल सर्बिया के विक्टर ट्रॉकी से तीनों सेट हारने के साथ ही समाप्त हो गई थी। हालांकि वो अभी तक खिताब जीत सकते थे, क्योंकि उन्हें सौभाग्य से बेलारूस के एगोर गेरासिमोव के साथ डबल्स स्पर्धा में देरी से प्रवेश मिल गया था।

सुमित नागल और एगोर गेरासिमोव, जर्मन जोड़ी पीटर गोजोवस्की और सेड्रिक-मार्सेल स्टेबे की जगह लेंगे, जिन्हें कूल्हे में चोट लगी थी। सुमित नागल और एगोर गेरासिमोव की जोड़ी पुरुष डबल्स के राउंड ऑफ 16 में कल रामकुमार रामनाथन और पूरव राजा की भारतीय जोड़ी के सामने कोर्ट पर उतरेगी।